सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

गरुली गाँव का नाम अमरत्व कर गया शहीद सैनिक लगन चंद, गाँव तक सड़क ना होने की वजह से पाँच किलोमीटर पहले ही अन्तिम दाह

गरुली गाँव का नाम अमरत्व कर गया शहीद सैनिक लगन चंद, गाँव तक सड़क ना होने की वजह से पाँच किलोमीटर पहले ही अन्तिम दाह 



लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया



  • अपने लहू के हर एक कतरे से सींचना होता हैं वतन की मिट्टी को,यूँ ही थोड़ी ना हर किसी को कफन में तिरंगा नसीब होता हैं।

  • गरुली गांव का शहीद पंचतत्व में विलीन, परिजनों ने दी अश्रु भरी विदाई।

  • राजस्थान के जैसलमेर में गत मंगलवार को शहीद लगन चन्द ने पाई थी बीरगति।

  • गरुली गांव के लिए सड़क सुविधा ना होने के कारण 5 किलोमीटर पीछे ही करना पड़ा शहीद का अन्तिम दाह संस्कार। 



तीर्थन घाटी गुशैनी(बंजार)। उपमण्डल बंजार में तीर्थन घाटी की ग्राम पंचायत शिल्ली के दुर्गम गांव गरुली के शहीद लगन चन्द की पार्थिव देह आज उसके पैतृक गांव के समीप पहुँची। गत मंगलवार को एक दुर्घटना में इस सैनिक जवान ने अपने कर्तव्य का निर्वहन करते हुए राजस्थान के जैसलमेर जिले में शाहदत पाई थी। तीर्थन घाटी का 27 वर्षीय युवा लगन चन्द सपुत्र झुड्ड राम गांव गरुली डाकघर तुंग तहसील बंजार जिला कुल्लु वर्ष-2011 को सेना में भर्ती हुआ था। आजकल सेना की तोपखाना-94 मध्यम रेजिमेंट के साथ इसकी तैनाती राजस्थान में थी। जहाँ पर बीकानेर जिले में गत मंगलवार को एक दुर्घटना के कारण उसे सिर में चोट लगी और काफी कोशिश वाबजूद भी उसे बचाया नहीं जा सका और उसने शहादत पा ली।
     शहीद लगन चन्द की पार्थिव देह को सैन्य अधिकारियों द्वारा राजस्थान से ही सड़क मार्ग द्वारा अपने वाहन में गरुली गांव से करीब पांच किलोमीटर पीछे श्याला नामक स्थान तक पहुंचाया गया जहाँ पर हजारों की संख्या में घाटी के लोग एकत्रित हुए थे।
कोरोना बीमारी की बजह से सक्रमण के खतरे को देखते हुए पुलिस कर्मियों को सामाजिक दूरी बनाए रखने के लिए काफी ज्यादा मशकत करनी पड़ी
 गरुली गांव तक सड़क मार्ग पहुंचने की वजह से शहीद का अन्तिम दाह संस्कार गांव से करीब 5 किलोमीटर पीछे श्याला नामक स्थान में ही करना पड़ा। स्थानीय रस्मो रिवाज के पश्चात इसके रिश्तेदारों और परिवारजनों के रोने बिखलने की आवाज से वहां का माहौल बहुत ही गमगीन हो गया। सड़क के साथ लगते नाले में श्याला नामक स्थान में ही इस शहीद का पूरे सैन्य सम्मान के साथ अन्तिम दाह संस्कार कर दिया गया है। श्मशानघाट में शहीद के पार्थिव शरीर को इसके बड़े भाई खेमराज ने मुखाग्नि दी। खेम राज ने कहा कि अपने छोटे भाई के लिए अन्तिम बिदाई की सिर्फ यादें रह जाएगी लेकिन इसका बलिदान पूरा गांव एवं समस्त तीर्थन घाटी के लोग सदैव याद रखेंगे। इनके पिता झुडू राम का कहना है कि इन्हें अपने छोटे बेटे की शहादत का दुख तो है लेकिन इसने देश सेवा करते हुए अपनी जान न्यौछावर की है जो हम सब के लिए गर्व की बात है।


गरुली गांव से झुडू राम के सबसे छोटे पुत्र शहीद लगन चन्द को बचपन से ही देश सेवा में जाने का जनून था। लगन चन्द ने अपनी प्राथमिक शिक्षा गरुली गांव से ही ग्रहण की थी और आगे की पढ़ाई  के लिए यह वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय बठाहड़ तथा सैंज स्कूल में गया ततपशचात इसने बंजार महाविद्यालय सेअपनी पढ़ाई जारी रखी और कॉलेज की पढ़ाई के दौरान ही वर्ष 2011 यह जवान सेना में भर्ती हो गया था। यहाँ के स्थानीय लोगों का कहना है कि अपने मृद्ध सवहाव और मिलनसार व्यक्तिव के धनी इस जवान में देश सेवा का जज्बा कूट कूट कर भरा हुआ था। जब भी यह घर छुट्टी आता था तो सब के साथ मिलजुल कर जाता था। इस समय करीब एक वर्ष से यह जवान अपने घर छूटी नहीं आया था लेकिन इसके निधन की सूचना घरवालों को मंगलवार को ही मिल गई थी। अचानक हुई इस घटना से जहाँ इसके पिता झुड्ड राम, माता डोलमा देवी, भाई खेम राज, भाभी मोरमा देवी और दो छोटे भतीजों पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा है वहीं इसकी पत्नी निर्मला देवी उर्फ नीरू व नवजात बेटा सक्षम भी गहरे सदमें में है।


ग्राम पंचायत शिल्ली के उप प्रधान मोहर सिंह का कहना है कि गरुली गांव के लिए अगर सड़क सुविधा होती तो शहीद का पार्थिव शरीर उसके घर तक पहुंच पाता। उन्होंने कहा कि शहीद के गांव के लिए प्रस्तावित 8 किलोमीटर सड़क नावार्ड के तहत बननी है जिसकी सारी औपचारिकता पूरी हो गई है।सड़क का निर्माण कार्य शीघ्र शुरू किया जाए और इस सड़क का नाम शहीद लगन चन्द के नाम से रखा जाए। इसके अलावा गरुली में  स्वास्थ्य उप केंद्र बनना भी प्रस्तावित है जिसका नाम भी शहीद के नाम से रखा जाना चाहिए।


बंजार विधानसभा के विधायक सुरेन्द्र शौरी का कहना है कि शहीद लगन चन्द ने इस देश के लिए महान बलिदान दिया है समस्त तीर्थन घाटी के लोगों और प्रदेश वासियों को इसकी शाहदत पर गर्व है। उन्होंने कहा कि ईश्वर शहीद हुए जवान की आत्मा को शान्ति प्रदान करें और शोक में डूबे इसके परिबार के लिए सदस्यों को इस दुख को सहने की शक्ति प्रदान करें।


बंजार विधानसभा के विधायक सुरेन्द्र शौरी का कहना है कि शहीद लगन चन्द ने इस देश के लिए महान बलिदान दिया है समस्त तीर्थन घाटी के लोगों और प्रदेश वासियों को इसकी शाहदत पर गर्व है। उन्होंने कहा कि ईश्वर शहीद हुए जवान की आत्मा को शान्ति प्रदान करें और शोक में डूबे इसके परिबार के लिए सदस्यों को इस दुख को सहने की शक्ति प्रदान करें।


इस अवसर उपमण्डल अधिकारी बंजार मनी राम भारद्वाज, उप मण्डल पुलिस अधिकारी बिन्नी मिन्हास, जिला परिषद सदस्य एवं  बंजार कांग्रेस के मंडलाध्यक्ष दुष्यंत ठाकुर, तहसीलदार विपिन शर्मा और थाना प्रभारी बंजार नरेश कुमार शर्मा ने भी शहीद को अपनी भावभिनी श्रदांजलि अर्पित की है।


टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वेतन तो शिक्षक का कटेगा भले ही वो महिला हो और महिला अवकाश का दिन हो , खंड शिक्षा अधिकारी पर तो जांच जारी है ही ,पर यक्ष प्रश्न आखिर कब तक  

महिला अवकाश के दिन महिलाओ का वेतन काटना तो याद है , पर बीएसए साहब को डीएम साहब के आदेश को स्पष्ट करना याद नहीं - शीतल दहलान , जिला अध्यक्ष , प्राथमिक शिक्षक संघ   सिस्टम ही तो है वरना जिस स्कूल में छः और आठ महीने से कोई शिक्षक नहीं आ रहा वहा साहब लोग जाने की जरूरत नहीं समझते  , पर महिला हूँ चीख चिल्ला ही सकती हूँ , पर हूँ तो निरीह ना - शीतल दहलान  विजय शुक्ल लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया दिल्ली।  खनन ,और शिक्षा दो ही ऐसे माफिया है जो आज सोनभद्र को दीमक की तरह खोखला कर रहे है, वो भी भ्रष्ट और सरपरस्ती में जी रहे अधिकारियो की कृपा से। बहरहाल लोकल न्यूज ऑफ इंडिया और कई समझदार लोग शायद शिक्षक पद की गरिमा को लेकर सोनभद्र में चिंतित नजर आते है।   चाहे म्योरपुर खंड शिक्षा अधिकारी को लेकर बेबाक और स्पष्ट वादी विधायक हरीराम चेरो का बयान हो कि   सहाय बदमाश आदमी है   या फिर ऑडियो में पैसे का आरोप लगाने वाली महिला शिक्षिका का अब भी दबाव में जीना और सिस्टम से लगातार जूझना जो जांच की छुरछुरछुरिया के साथ आरोपी खंड शिक्षा अधिकारी को अपने रसूख और दबाव का खेल घूम घूम कर साबित करने की इजाजत देता हो। 

विद्यालयों में शिक्षकों की उपस्तिथि को लेकर जारी शासनादेश से पैदा हुई उहापोह की स्तिथि साफ़ करे बीएसए - शीतल दहलान , जिला अध्यक्ष , उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ , सोनभद्र 

विद्यालयों में शिक्षकों की उपस्तिथि को लेकर जारी शासनादेश से पैदा हुई उहापोह की स्तिथि साफ़ करे बीएसए - शीतल दहलान  , जिला अध्यक्ष , उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ , सोनभद्र        सूर्यमणि कनौजिया  लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया  सोनभद्र। जनपद में ताजा ताजा जारी एक शासनादेश से शिक्षकों में एक उहापोह की स्तिथि बन गयी है जिसको लेकर उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ की जिला अध्यक्ष शीतल दहलान ने जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी से मांग की है कि  वो इसको स्पष्ट करे।  पूरा मामला  मुख्य सचिव उत्तर प्रदेश के दिनांक 30/08/2020 के शासनादेश संख्य2007/2020/सी.एक्स-3 के गाइड लाइन अनुपालन के क्रम में जिला मैजिस्ट्रेट /जिलाधिकारी सोनभद्र के दिनांक 31/08/2020 के पत्रांक 5728/जे.एनिषेधाज्ञा/ कोविड- 19/एल ओ आर डी /2020 के आदेशानुसार जिसके पैरा 1 मे उल्लिखित निम्न आदेश पर हुआ है।  जिसमे    1. समस्त स्कूल कॉलेज, शैक्षिक एवं कोचिंग संस्थान सामान्य शैक्षिक कार्य हेतु 30 सितम्बर 2020 तक बंद रहेंगे। यद्यपि निम्न गतिविधियों को शुरू करने की अनुमति होगी a. ऑनलाइन शिक्षा हेतु अनुमति जारी रहेगी और इसे प्रोत्साहित

सोनभद्र के बंटी-बबली का खेल अब जनता के सामने

सोनभद्र के बंटी-बबली का खेल अब जनता के सामने यू. पी. पुलिस इन्वेस्टिगेशन व पब्लिक सर्विस कमीशन का अपना फर्जी आई-डी कार्ड बनाकर जॉब लगवाने को लेकर लोगो का लाखो रुपए लूटा   मोहित मणि शुकला लोकल न्यूज़ ऑफ़ इंडिया सोनभद्र । एक ऐसा फर्जी पुलिस जो कि जनपद सोनभद्र का निवासी है और अपने फर्जी आई डी कार्ड के दम पर लोगो को जॉब दिलवाने के नाम पर व आने जाने के लिए टोल टैक्स पर पुलिस का रोब दिखा कर टोल टैक्स न देना फर्जीवारा करता आ रहा है। इस शख्स का नाम संतोष कुमार मिश्रा (पिता-आत्मजः राम ललित मिश्रा, सोनभद्र उत्तर प्रदेश) का रहने वाला है। संतोष कुमार मिश्रा फर्जी पुलिस की आई डी कार्ड बनाकर सोनभद्र में लोगो को गुमराह कर नौकरी के नाम मोटा रकम वसूल करके भागने की तैयारी में है। ये सोनभद्र या कहीं भी किसी भी टोल टैक्स पर पुलिस का फर्जी आई डी कार्ड दिखा कर निकल जाता है। इसका आई डी कार्ड "यू. पी. पुलिस इन्वेस्टिगेशन"* व "पब्लिक सर्विस कमीशन" के नाम पर बना हुआ है और बेखौफ जनपद सोनभद्र में ये घूम रहा है और लोगो को गुमराह कर रहा है। पैसे की लूट में इसकी लवर प्रिंसी भी इसका सा