सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

ओबरा परियोजना हॉस्पिटल मे ना तो अच्छे डॉक्टर हैै ,ना ही सर्जन और ना ही साजो सामान, प्रशासन के संज्ञान मे सब कुछ, पर मिला है आश्वासन

ओबरा परियोजना हॉस्पिटल मे ना तो अच्छे डॉक्टर हैै ,ना ही सर्जन और ना ही साजो सामान, प्रशासन के संज्ञान मे सब कुछ, पर मिला है आश्वासन


 

त्रिरत्न शुक्लेश

लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया

 

ओबरा, सोनभद्र।कहते है कि भाजपा के निशाने पर हमेशा रहने वाले और सत्तर साल तक देश को भाजपाई आरोपो के हिसाब से नरक बनाने वाले और भाजपाई पप्पू यानी राहुल गाँधी के परदादा और देश के पहले प्रधानमंत्री नेहरु चाचा ने सोनभद्र के विकास का सपना भारत के स्विट्ज़रलैंड के रूप मे देखा था और तत्कालीन स्थानीय नेताओ कमलापति त्रिपाठी की मदद से इसको रिहन्द बाँध निर्माण से लेकर एशिया के सबसे पहले बिजली उत्पादन का सपना ओबरा की इस परियोजना को रूस के साथ मिलकर पूरा किया था। जो आज और मजबूत हुई है उत्पादन के साथ साथ कमाई मे भी। ओबरा खनिज क्षेत्रो के बीच इसी परियोजना के कारण बसी ऐसी आबादी है जो आज कई अमीर नामचीन लोगो की जन्म और कर्म स्थली है। यहां व्यवसायी , राजनेता, समाजसेवी और ज्ञानी प्रबुद्ध पत्रकार है तो वसूली माफिया और शासन- प्रशासन भी।  सब कुछ तो है इस ओबरा मे संघ की शाखा से लेकर समाजवादी युवा वाहिनी, लोहिया खेमा और कुछ इन्दिरा गाँधी या नेहरु के समर्थक हां अगर कमजोर हुए है तो कॉमरेड पर है कुछ दिलो मे जिन्दा और कभी कभी बस झटके लेते है किसी बड़ी घटना पर।

मुस्तैद पुलिसिया टोली भी है तो अब नयी नयी तहसील बनी इस ओबरा मे नयी व्यवसायिक गतिविधियाँ भी आयेगी। हाथी अब दूर शायद जंगलो मे घूमता होगा कही पर समय अपना अपना दल आगे बढ़ाने का है। जल पुरुष भी है यहां तो टैंकर वाले समाजसेवी भी सब है पर अगर नही है तो वो है ओबरा परियोजना हॉस्पिटल मे डॉक्टर, सर्जन और साजो सामान। जो हैं बस वो नब्ज पकड़ कर अपने डॉक्टर धर्म का पालन करते हुए इलाज करने का प्रयास करने वाले कर्मचारी, नर्स और डॉक्टर और बाद मे मजबूरी मे मरीजो की जान बचाने के लिये रिफर करने को मजबूर इस हॉस्पिटल का प्रशासन। इसका जिम्मा इसी बड़े बिजली घर का है पर इसके आला कमान और आंका प्रशासन कुम्भकर्णी नीद मे है जागेगे या नही यह क्या पता? 

 

आज इसी हॉस्पिटल के दर्द को आपके दिल से बाहर निकालकर इसकी गूँज दिल्ली तक पहुँचाने की एक छोटी सी कोशिश की है हमारे साथी त्रिरत्न शुक्लेश ने और रामशंकर अग्रहरि की सोच ने।

 


 

परियोजना हॉस्पिटल ओबरा के मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ पी के सिंह से लोकल न्यूज आफ इंडिया संवाददाता त्रिरत्न शुक्लेश से वार्तालाप कुछ ऐसा रहा::


  • परियोजना हॉस्पिटल में डॉक्टरों की व्यवस्था के संबंध में पूछने पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ पी के सिंह ने बताया कि यहां गंभीर रोगों के इलाज हेतु डॉक्टर नहीं है सर्जन नहीं है अच्छे-अच्छे उपकरणों का अभाव है  ।


 



  • उन्होंने बताया कि सामान्य रोगों के इलाज हेतु सामान दवाइयां उपलब्ध है गंभीर रोगी के आने पर हॉस्पिटल में  व्यवस्था नहीं है उसे तत्काल बाहर रिफर कर दिया जाता है  ।


 



  • डॉक्टरों की उचित व्यवस्था कराए जाने के संबंध में पूछा गया तो उन्होंने बताया कि हमने कई बार प्रशासन को अवगत कराया है प्रशासन ने समस्या को दूर करने हेतु आश्वासन दे रखा है  ।


 



  • अन्य डॉक्टरों के बारे में हमने जब जानकारी लिया तो देखा डॉ मधुबाला, डॉ रीना ,डॉ अमित, डॉ मिथिलेश, डॉ रवि ,अपने -अपने कक्ष में मरीजों को देख रहे थे  ।


 



  • कोरोना जैसी वैश्विक महामारी के बारे में पूछा गया तो मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ पी के सिंह ने बताया कि परियोजना हॉस्पिटल में साफ-सफाई व रोगियों के लिए, मास्क तथा सैनिटाइजर व साबुन से हाथ धोकर चिकित्सक से तथा सोशल डिस्टेंस बनाकर रहने की सलाह अपने -अपने स्टाफ व कर्मचारियों से करवाया जा रहा है और सब को उचित सलाह भी दिया जा रहा है


 

आपको बता दें कि  इस परियोजना से जुड़े जल ताप विद्युत गृह और राखी पुल के आगे गांव कर्री ,चंचलिया,गोठानी ,फफराकुंड, कड़िया ,जुर्रा ,कर्मसार, परसोई,  मिर्चाधूरी आदि जहां  बुनियादी चिकित्सा सुविधा का अत्यंत अभाव है। लोग कई किलोमीटर पैदल चलकर  आते हैं आदिवासी बाहुल्य क्षेत्र के लोग भी इस पर निर्भर है ऐसे हॉस्पिटल में कब स्पेशलिस्ट डॉक्टरों की नियुक्ति होती है और कब अन्य सुविधाएं अस्सी से नब्बे के दशक जैसी होगी यह भी एक यक्ष प्रश्न ही है।

 

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वेतन तो शिक्षक का कटेगा भले ही वो महिला हो और महिला अवकाश का दिन हो , खंड शिक्षा अधिकारी पर तो जांच जारी है ही ,पर यक्ष प्रश्न आखिर कब तक  

महिला अवकाश के दिन महिलाओ का वेतन काटना तो याद है , पर बीएसए साहब को डीएम साहब के आदेश को स्पष्ट करना याद नहीं - शीतल दहलान , जिला अध्यक्ष , प्राथमिक शिक्षक संघ   सिस्टम ही तो है वरना जिस स्कूल में छः और आठ महीने से कोई शिक्षक नहीं आ रहा वहा साहब लोग जाने की जरूरत नहीं समझते  , पर महिला हूँ चीख चिल्ला ही सकती हूँ , पर हूँ तो निरीह ना - शीतल दहलान  विजय शुक्ल लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया दिल्ली।  खनन ,और शिक्षा दो ही ऐसे माफिया है जो आज सोनभद्र को दीमक की तरह खोखला कर रहे है, वो भी भ्रष्ट और सरपरस्ती में जी रहे अधिकारियो की कृपा से। बहरहाल लोकल न्यूज ऑफ इंडिया और कई समझदार लोग शायद शिक्षक पद की गरिमा को लेकर सोनभद्र में चिंतित नजर आते है।   चाहे म्योरपुर खंड शिक्षा अधिकारी को लेकर बेबाक और स्पष्ट वादी विधायक हरीराम चेरो का बयान हो कि   सहाय बदमाश आदमी है   या फिर ऑडियो में पैसे का आरोप लगाने वाली महिला शिक्षिका का अब भी दबाव में जीना और सिस्टम से लगातार जूझना जो जांच की छुरछुरछुरिया के साथ आरोपी खंड शिक्षा अधिकारी को अपने रसूख और दबाव का खेल घूम घूम कर साबित करने की इजाजत देता हो। 

विद्यालयों में शिक्षकों की उपस्तिथि को लेकर जारी शासनादेश से पैदा हुई उहापोह की स्तिथि साफ़ करे बीएसए - शीतल दहलान , जिला अध्यक्ष , उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ , सोनभद्र 

विद्यालयों में शिक्षकों की उपस्तिथि को लेकर जारी शासनादेश से पैदा हुई उहापोह की स्तिथि साफ़ करे बीएसए - शीतल दहलान  , जिला अध्यक्ष , उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ , सोनभद्र        सूर्यमणि कनौजिया  लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया  सोनभद्र। जनपद में ताजा ताजा जारी एक शासनादेश से शिक्षकों में एक उहापोह की स्तिथि बन गयी है जिसको लेकर उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ की जिला अध्यक्ष शीतल दहलान ने जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी से मांग की है कि  वो इसको स्पष्ट करे।  पूरा मामला  मुख्य सचिव उत्तर प्रदेश के दिनांक 30/08/2020 के शासनादेश संख्य2007/2020/सी.एक्स-3 के गाइड लाइन अनुपालन के क्रम में जिला मैजिस्ट्रेट /जिलाधिकारी सोनभद्र के दिनांक 31/08/2020 के पत्रांक 5728/जे.एनिषेधाज्ञा/ कोविड- 19/एल ओ आर डी /2020 के आदेशानुसार जिसके पैरा 1 मे उल्लिखित निम्न आदेश पर हुआ है।  जिसमे    1. समस्त स्कूल कॉलेज, शैक्षिक एवं कोचिंग संस्थान सामान्य शैक्षिक कार्य हेतु 30 सितम्बर 2020 तक बंद रहेंगे। यद्यपि निम्न गतिविधियों को शुरू करने की अनुमति होगी a. ऑनलाइन शिक्षा हेतु अनुमति जारी रहेगी और इसे प्रोत्साहित

सोनभद्र के बंटी-बबली का खेल अब जनता के सामने

सोनभद्र के बंटी-बबली का खेल अब जनता के सामने यू. पी. पुलिस इन्वेस्टिगेशन व पब्लिक सर्विस कमीशन का अपना फर्जी आई-डी कार्ड बनाकर जॉब लगवाने को लेकर लोगो का लाखो रुपए लूटा   मोहित मणि शुकला लोकल न्यूज़ ऑफ़ इंडिया सोनभद्र । एक ऐसा फर्जी पुलिस जो कि जनपद सोनभद्र का निवासी है और अपने फर्जी आई डी कार्ड के दम पर लोगो को जॉब दिलवाने के नाम पर व आने जाने के लिए टोल टैक्स पर पुलिस का रोब दिखा कर टोल टैक्स न देना फर्जीवारा करता आ रहा है। इस शख्स का नाम संतोष कुमार मिश्रा (पिता-आत्मजः राम ललित मिश्रा, सोनभद्र उत्तर प्रदेश) का रहने वाला है। संतोष कुमार मिश्रा फर्जी पुलिस की आई डी कार्ड बनाकर सोनभद्र में लोगो को गुमराह कर नौकरी के नाम मोटा रकम वसूल करके भागने की तैयारी में है। ये सोनभद्र या कहीं भी किसी भी टोल टैक्स पर पुलिस का फर्जी आई डी कार्ड दिखा कर निकल जाता है। इसका आई डी कार्ड "यू. पी. पुलिस इन्वेस्टिगेशन"* व "पब्लिक सर्विस कमीशन" के नाम पर बना हुआ है और बेखौफ जनपद सोनभद्र में ये घूम रहा है और लोगो को गुमराह कर रहा है। पैसे की लूट में इसकी लवर प्रिंसी भी इसका सा