सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

यह मार्च मजबूर मजदूरो का है! कामगारो व ग्रामीणो का है

यह मजदूरों का मार्च है,मज़बूरी का मार्च है  !



अंबरीश कुमार
देश में मजदूरों का लांग मार्च शुरू हो गया है .सुबह खबर आई कि सोलह मजदूर रेल की पटरी पर सोए थे उनके ऊपर से वह रेल निकल गई जो उन्हें घर ले जाने के लिए नहीं मिल पाई थी . शाम को लखनऊ से छतीसगढ़ साइकिल से जा रहे एक परिवार पर गाड़ी चढ़ा दी गई .दो बच्चे गंभीर है .मां बाप गुजर गए .लाकडाउन के बाद से पैदल ,साइकिल ,ट्रक और मोटर से चले मजदूरों से कितने चले और कितने रास्ते में गुजर गए यह पता नहीं .चीन में 16 अक्टूबर 1934 से शुरु होकर 20 अक्टूबर 1935 तक चलने वाले लांग मार्च में एक लाख लोग निकले थे पर अंत में बीस हजार ही बचे .वह माओ का लांग मार्च था .बदलाव का मार्च था .पर यह मजदूरों का मार्च है ,मज़बूरी का मार्च है .यह एक नहीं कई लाख लोगों का मार्च है .
यह शहर से निकल कर अपने गांव पहुंचने का मार्च है .वे यह जानते हैं कि वे हो सकता है न बचे .पर मरे तो गांव की मिटटी तो नसीब हो .इसलिए वे चलते जा रहे हैं .रेल रोकी गई फिर बस भी रोकी गई .अब तो सड़क भी रोक दी गई .इसलिए वे रेल की पटरी पर चल रहे हैं .तपती धूप में टूटी चप्पल पहने .खाना नहीं है .पानी भी कहीं मिलता है तो कहीं नहीं मिलता है .ऐसा नहीं कि ये सिर्फ मुंबई दिल्ली से ही अपने अपने गांव लौट रहे हैं .यह पलायन कई राज्यों से हो रहा है .यह सौ किलोमीटर से लेकर दो हजार किलोमीटर की दूरी तक का पलायन है .राज्यों के भीतर भी हो रहा है .हमने कालाहांडी से लेकर छतीसगढ़ के महासमुंद से पलायन को देखा और लिखा भी .पर वह रोजी रोटी का पलायन था .यह जान बचाने का पलायन है .यह भूखे पेट का पलायन है .लोग चलते चलते पस्त हो जा रहे हैं .रोने लगते हैं .पर फिर भी चलते रहते हैं .
कोई मुंबई से सीतामढ़ी तो कोई दिल्ली से गोंडा बस्ती तक चला जा रहा है .सुबह रेल दुर्घटना में मजदूर मारे गए .उनकी रोटियां रेल पटरी के बीच में बिखरी हुई थी .वे रोटी लेकर चल रहे थे .वे चले गए .रोटियां बिखर गई .ये रोटियां हमारी फाइव ट्रिलियन अर्थव्यवस्था पर बहुत भारी पड़ेंगी .यह सरकार को भी समझना चाहिए और समाज को भी .दिक्कत यह है कि  इन मजदूरों को उनकी बेबसी को समझने वाला समाज भी नहीं है .और सरकार के एजंडा में तो यह मजदूर नजर भी नहीं आ रहा .विदेश से जहाज भर भर कर लोग आ तो रहे हैं .उन्हें देखिए और रेल पटरी पर चलने वालों को देखिए .उसे चाहिए थाली ,घंटी और घड़ियाल बजाने वाली जमात .कोरोना से मरते हुए लोगों की बढती संख्या में भी दिवाली मनाने वाली जमात .सरकार के मानवीय नजरिए के दायरे में मजदूर कहां है ?हर राज्य सरकार ने कहने को तो प्रवासी मजदूर के लिए नोडल अफसर बनाए हैं .इनका फोन नंबर भी है पर वह नंबर बंद मिलेगा .पर बिचौलियों का नंबर हमेशा चलता रहता है जो मजदूरों से पैसा लेकर फर्जी दस्तावेज बनवा कर बस में बैठा देते है .बस किसी भी सीमा पर रोक दी जाती है और फिर पुलिस का काम शुरू होता है .किसी भी नोडल अफसर ने ऐसी किसी भी समस्या का समाधान किया हो यह नजर नहीं आया .रेलगाड़ी से जाने पर यह सब समस्या नहीं होती .पर सरकार ने राज्यों की एनओसी के नामपर लालफीताशाही का बड़ा रास्ता खोल दिया .साथ ही दुष्प्रचार करने वाली टीम को भी तैनात कर दिया जो टिकट को लेकर समूचे देश को गुमराह करती रही .
अगर मजदूर को लेकर उनकी चिंता होती तो पिचासी बनाम पंद्रह फीसदी रियायती टिकट की बहस में सरकार क्यों उलझाती ? ये जो रेल पटरी पर चल रहे मजदूर हैं वे किसी और देश के नहीं हैं .इसी भारत देश के हैं .इनका पैसा खत्म हो गया है ,राशन खत्म हो गया है .शहर में चार से छह घंटे लाइन में लग कर एक कटोरा दाल भात मिलता है .कैसे इससे भूख मिटे .कोरोना और संक्रमण तो आगे की बात है .इन्हें किस तरह रहना पड़ रहा है यह अगर कोई देखना चाहेगा तो दिख सकता है वर्ना इस त्रासदी में भी आप पकिस्तान मुसलमान के खेल में फंसे रहिए .पर ये जो मजदूर अपने घर लौट रहे हैं इनसे देश की आर्थिक तरक्की भी रुक जाएगी यह ध्यान रखना चाहिए .मजदूरों के बाद अगला नंबर मध्य वर्ग का ही है . ध्यान रखना चाहिए मजदूरों का यह मार्च हमारी अर्थव्यवस्था में पलीता लगा सकता है .इसलिए समय रहते ही चेत जाएं ।


टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वेतन तो शिक्षक का कटेगा भले ही वो महिला हो और महिला अवकाश का दिन हो , खंड शिक्षा अधिकारी पर तो जांच जारी है ही ,पर यक्ष प्रश्न आखिर कब तक  

महिला अवकाश के दिन महिलाओ का वेतन काटना तो याद है , पर बीएसए साहब को डीएम साहब के आदेश को स्पष्ट करना याद नहीं - शीतल दहलान , जिला अध्यक्ष , प्राथमिक शिक्षक संघ   सिस्टम ही तो है वरना जिस स्कूल में छः और आठ महीने से कोई शिक्षक नहीं आ रहा वहा साहब लोग जाने की जरूरत नहीं समझते  , पर महिला हूँ चीख चिल्ला ही सकती हूँ , पर हूँ तो निरीह ना - शीतल दहलान  विजय शुक्ल लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया दिल्ली।  खनन ,और शिक्षा दो ही ऐसे माफिया है जो आज सोनभद्र को दीमक की तरह खोखला कर रहे है, वो भी भ्रष्ट और सरपरस्ती में जी रहे अधिकारियो की कृपा से। बहरहाल लोकल न्यूज ऑफ इंडिया और कई समझदार लोग शायद शिक्षक पद की गरिमा को लेकर सोनभद्र में चिंतित नजर आते है।   चाहे म्योरपुर खंड शिक्षा अधिकारी को लेकर बेबाक और स्पष्ट वादी विधायक हरीराम चेरो का बयान हो कि   सहाय बदमाश आदमी है   या फिर ऑडियो में पैसे का आरोप लगाने वाली महिला शिक्षिका का अब भी दबाव में जीना और सिस्टम से लगातार जूझना जो जांच की छुरछुरछुरिया के साथ आरोपी खंड शिक्षा अधिकारी को अपने रसूख और दबाव का खेल घूम घूम कर साबित करने की इजाजत देता हो। 

विद्यालयों में शिक्षकों की उपस्तिथि को लेकर जारी शासनादेश से पैदा हुई उहापोह की स्तिथि साफ़ करे बीएसए - शीतल दहलान , जिला अध्यक्ष , उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ , सोनभद्र 

विद्यालयों में शिक्षकों की उपस्तिथि को लेकर जारी शासनादेश से पैदा हुई उहापोह की स्तिथि साफ़ करे बीएसए - शीतल दहलान  , जिला अध्यक्ष , उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ , सोनभद्र        सूर्यमणि कनौजिया  लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया  सोनभद्र। जनपद में ताजा ताजा जारी एक शासनादेश से शिक्षकों में एक उहापोह की स्तिथि बन गयी है जिसको लेकर उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ की जिला अध्यक्ष शीतल दहलान ने जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी से मांग की है कि  वो इसको स्पष्ट करे।  पूरा मामला  मुख्य सचिव उत्तर प्रदेश के दिनांक 30/08/2020 के शासनादेश संख्य2007/2020/सी.एक्स-3 के गाइड लाइन अनुपालन के क्रम में जिला मैजिस्ट्रेट /जिलाधिकारी सोनभद्र के दिनांक 31/08/2020 के पत्रांक 5728/जे.एनिषेधाज्ञा/ कोविड- 19/एल ओ आर डी /2020 के आदेशानुसार जिसके पैरा 1 मे उल्लिखित निम्न आदेश पर हुआ है।  जिसमे    1. समस्त स्कूल कॉलेज, शैक्षिक एवं कोचिंग संस्थान सामान्य शैक्षिक कार्य हेतु 30 सितम्बर 2020 तक बंद रहेंगे। यद्यपि निम्न गतिविधियों को शुरू करने की अनुमति होगी a. ऑनलाइन शिक्षा हेतु अनुमति जारी रहेगी और इसे प्रोत्साहित

सोनभद्र के बंटी-बबली का खेल अब जनता के सामने

सोनभद्र के बंटी-बबली का खेल अब जनता के सामने यू. पी. पुलिस इन्वेस्टिगेशन व पब्लिक सर्विस कमीशन का अपना फर्जी आई-डी कार्ड बनाकर जॉब लगवाने को लेकर लोगो का लाखो रुपए लूटा   मोहित मणि शुकला लोकल न्यूज़ ऑफ़ इंडिया सोनभद्र । एक ऐसा फर्जी पुलिस जो कि जनपद सोनभद्र का निवासी है और अपने फर्जी आई डी कार्ड के दम पर लोगो को जॉब दिलवाने के नाम पर व आने जाने के लिए टोल टैक्स पर पुलिस का रोब दिखा कर टोल टैक्स न देना फर्जीवारा करता आ रहा है। इस शख्स का नाम संतोष कुमार मिश्रा (पिता-आत्मजः राम ललित मिश्रा, सोनभद्र उत्तर प्रदेश) का रहने वाला है। संतोष कुमार मिश्रा फर्जी पुलिस की आई डी कार्ड बनाकर सोनभद्र में लोगो को गुमराह कर नौकरी के नाम मोटा रकम वसूल करके भागने की तैयारी में है। ये सोनभद्र या कहीं भी किसी भी टोल टैक्स पर पुलिस का फर्जी आई डी कार्ड दिखा कर निकल जाता है। इसका आई डी कार्ड "यू. पी. पुलिस इन्वेस्टिगेशन"* व "पब्लिक सर्विस कमीशन" के नाम पर बना हुआ है और बेखौफ जनपद सोनभद्र में ये घूम रहा है और लोगो को गुमराह कर रहा है। पैसे की लूट में इसकी लवर प्रिंसी भी इसका सा