सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

इस लॉक डाउन मे 15 कलाकार काल के गाल मे समा गये

इस लॉक डाउन मे 15 कलाकार काल के गाल मे समा गये


दीपक चौहान


लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया 


अलविदा कहना कभी भी आसान नहीं होता, खासकर तब जब हम किसी को बहुत ज्यादा प्यार करते हों, पसंद करते हों या फिर अपना मानते हो। रविवार को जब सुशांत सिंह राजपूत की खुदकुशी की खबर आई, तो हर कोई सन्न रह गया। किसी को भरोसा नहीं हुआ कि महज 34 साल की उम्र में सुशांत जैसा उभरता हुआ कलाकार इतना बड़ा कदम उठा लेगा। लेकिन, कोरोना वायरस की महामारी के बीच पिछले 46 दिनों में टीवी और फिल्मी दुनिया के ऐसे ही 15 कलाकार हमें अलविदा कह गए, जिन्होंने अपने अभिनय के जरिए लोगों के दिलों में अपनी एक खास जगह बनाई थी।



इरफान खान 


लॉकडाउन के बीच 29 अप्रैल को जब खबर आई कि इरफान खान हमें छोड़कर चले गए हैं, तो हर किसी को लगा कि ये एक अफवाह है। पद्मश्री अवॉर्ड से सम्मानित और बॉलीवुड के सबसे टैलेंटेड कलाकारों में गिने जाने वाले इरफान खान को कोलोन इन्फेक्शन के कारण मुंबई के अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां उन्होंने अंतिम सांस ली। 'मकबूल', 'लाइफ इन ए मेट्रो', 'द लंच बॉक्स', 'पीकू', 'हिंदी मीडियम', 'हासिल', 'पान सिंह तोमर' जैसी फिल्मों में इरफान ने यादगार भूमिकाएं निभाईं।



ऋषि कपूर 


इरफान खान की मौत के सदमे से लोग अभी उभरे भी नहीं थे कि अगले ही दिन बॉलीवुड के दिग्गज अभिनेता ऋषि कपूर का निधन हो गया। कैंसर की बीमारी से जूझ रहे ऋषि कपूर ने 30 अप्रैल को मुंबई के एक निजी अस्पताल में अंतिम सांस ली। करोड़ों लोगों के दिलों पर राज करने वाले ऋषि कपूर के अंतिम संस्कार में लॉकडाउन के कारण केवल घर-परिवार के ही लोग शामिल हो पाए। यहां तक कि दिल्ली में होने कारण उनकी बेटी भी उनके अंतिम दर्शन नहीं कर पाईं।



शफीक अंसारी 


बीते 10 मई को मशहूर सीरियल क्राइम पेट्रोल में काम करने वाले अभिनेता शफीक अंसारी का निधन हो गया। शफीक अंसारी पिछले कुछ सालों से पेट के कैंसर से जूझ रहे थे। शफीक जून 2008 से सिने एंड टीवी आर्टिस्ट एसोसिएशन (CINTAA) के सदस्य भी थे। उनके परिवार में पत्नी के अलावा तीन बेटी और मां हैं। शफीक की पत्नी गौहर के मुताबिक फिल्म इंडस्ट्री से जुड़े और उनके स्कूल के कुछ दोस्त पिछले काफी समय से आर्थिक तौर पर उनकी मदद कर रहे थे।



मनमीत ग्रेवाल


'आदत से मजबूर' और 'कुलदीपक' सीरियल में काम कर चुके टीवी अभिनेता मनमीत ग्रेवाल ने बीते 15 मई को नवी मुंबई स्थित अपने घर पर खुदकुशी कर ली। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक लॉकडाउन के चलते पिछले काफी समय से मनमीत ग्रेवाल के पास काम नहीं था और वो आर्थिक समस्याएं झेल रहे थे। 32 वर्षीय मनमीत का शव उनके बेडरूम में पंखे से लटका हुआ मिला।


 


सचिन कुमार 


15 मई को ही बॉलीवुड अभिनेता अक्षय कुमार के कजिन (बुआ के बेटे) सचिन कुमार का हार्ट अटैक से निधन हो गया। सचिन ने एकता कपूर के शो 'कहानी घर घर की' में अभिनय किया था। हालांकि, इस शो के बाद उन्होंने एक्टिंग छोड़ दी थी और फोटोग्राफर बन गए थे। सचिन अपने भाई अक्षय कुमार के काफी करीब करीब माने जाते थे।



मोहित बघेल 


मुश्किल दौर से गुजर रही फिल्म इंडस्ट्री ने 23 मई को अपने एक और कलाकर को खो दिया। सलमान खान के साथ फिल्म रेडी में काम कर चुके मशहूर कॉमेडियन और एक्टर मोहित बघेल का महज 27 साल की उम्र में निधन हो गया। फिल्म रेडी में मोहित बघेल ने छोटे अमर चौधरी की भूमिका निभाई थी। मोहित बघेल कैंसर से पीड़ित थे और मथुरा स्थित अपने घर पर उन्होंने अंतिम सांस ली।



प्रेक्षा मेहता 


कोरोना वायरस की महामारी के बीच 26 मई को को टीवी इंडस्ट्री से जुड़ी एक बुरी खबर ने सबको चौंका दिया। टेलीविजन के चर्चित शो 'क्राइम पेट्रोल' की एक्ट्रेस प्रेक्षा मेहता ने मध्य प्रदेश के इंदौर स्थित अपने घर में पंखे से लटककर खुदकुशी कर ली। बताया जा रहा है कि प्रेक्षा मेहता पिछले काफी लंबे समय से डिप्रेशन में थीं। पुलिस को उनके घर से प्रेक्षा मेहता का लिखा सुसाइड नोट भी मिला।


 


योगेश गौड़ 


हिंदी फिल्मों के लिए कई सदाबहार गीत लिखने वाले गीतकार योगेश गौड़ का बीते 29 मई को निधन हो गया। लखनऊ में जन्मे गीतकार योगेश ने 60, 70 और 80 के दशक में कई बेहतरीन गीत लिखे, जिन्हें आज भी पसंद किया जाता है। योगेश की आखिरी बड़ी फिल्म 'बेवफा सनम' थी। योगेश गौड़ के लिखे यादगार गानों में आनंद फिल्म के गीत 'कहीं दूर जब दिन ढल जाए', 'जिदगी कैसी है पहेली', रजनीगंधा फूल तुम्हारे जैसे गाने शामिल हैं।


 


वाजिद खान 


31 मई को दिग्गज म्यूजिक डायरेक्टर वाजिद खान हमारा साथ छोड़कर चले गए। वाजिद खान की मौत के बाद कहा गया कि उनका निधन कोरोना वायरस के संक्रमण के चलते हुआ है, लेकिन उनके भाई और जोड़ीदार साजिद खान ने बताया कि वाजिद का निधन हृदयगति रुकने के कारण हुआ था। 'हुड़ हुड़ दबंग', 'जलवा', 'चिंता ता-ता चिता चिता' और 'फेविकोल से' गानों के लिए वाजिद खान को हमेशा याद किया जाएगा।


 


बासु चटर्जी 


बॉलीवुड के मशहूर फिल्ममेकर बासु चटर्जी का 4 जून को निधन हो गया था। उन्होंने कई बड़ी फिल्मों का निर्देशन किया था, जिनमें 'रजनीगंधा', 'बातों बातों में', 'एक रुका हुआ फैसला', 'चितचोर' शामिल है। चटर्जी को उनकी अलग तरह की फिल्में बनाने के लिए जाना जाता है। उनकी अधिकतर फिल्में मध्यमवर्गीय परिवारों पर आधारित थीं।


 


चिरंजीवी सर्जा 


बीते 7 जून को कन्‍नड़ फिल्मों के मशहूर अभिनेता चिरंजीवी सर्जा दुनिया को अलविदा कह गए। 39 साल के चिरंजीवी को हार्ट अटैक के बाद बेंगलुरु के एक अस्‍पताल में भर्ती कराया गया था, जहां उन्होंने अंतिम सांस ली। चिरंजीवी ने 20 से ज्‍यादा फिल्‍मों में काम किया था। चिंरजीवी ने 2018 में प्रेमलीला जोशाई और सुंदर राज की बेटी मेघना राज से शादी की थी।


 


साईं गुंदेवर 


फिल्म पीके और रॉक-ऑन में नजर आ चुके अभिनेता साईं गुंदेवर का भी महज 42 साल की उम्र में इसी महीने 10 जून को निधन हो गया। इन फिल्मों के अलावा साईं गुंदेवर ने Survivor और Splitsvilla जैसे शो में भी काम किया था। गुंदेवर को ब्रेन कैंसर था और वो अपने इलाज के लिए पिछले साल ही लॉस एंजिलस चले गए थे।


 


जगेश मुकाती 


10 जून को एक और बुरी खबर आई और टीवी एक्टर जगेश मुकाती ने दुनिया को अलविदा कह दिया। जगेश मुकाती पिछले कई दिनों से सांस की तकलीफ के चलते अस्पताल में भर्ती थे और उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया था। जगेश गुजरात के चुनिंदा थिएटर कलाकारों में से एक थे और उन्होंने 'अमिता का अमित', 'श्री गणेश' जैसे धारावाहिकों में काम किया था। जगेश फिल्म 'हंसी तो फंसी' और 'पीके' में भी नजर आ चुके हैं।


 


रतन चोपड़ा 


दो दिन पहले ही 12 जून को बीते जमाने के एक्‍टर रतन चोपड़ा का पंजाब में कैंसर से निधन हो गया। बताया जा रहा है कि रतन कैंसर से जूझ रहे थे और इलाज के लिए उनके पास पैसे तक नहीं थे। परिवार के सूत्रों की मानें तो रतन चोपड़ा ने अपने आखिरी के समय में फिल्म इंडस्ट्री के कई कलाकारों से इलाज के लिए आर्थिक मदद की गुहार लगाई थी। हालांकि उन्‍हें किसी तरह की मदद नहीं मिली।



सुशांत सिंह राजपूत


बेहद कम समय में अपनी एक्टिंग के जरिए सुर्खियां बटोरने वाले सुशांत सिंह राजपूत ने रविवार को फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक सुशांत सिंह के नौकर ने उनकी खुदकुशी की खबर पुलिस को दी। बताया जा रहा है कि सुशांत पिछले करीब 6 महीने से डिप्रेशन में थे। पुलिस को हालांकि उनके कमरे से कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है और वो मामले की जांच कर रही है।


टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वेतन तो शिक्षक का कटेगा भले ही वो महिला हो और महिला अवकाश का दिन हो , खंड शिक्षा अधिकारी पर तो जांच जारी है ही ,पर यक्ष प्रश्न आखिर कब तक  

महिला अवकाश के दिन महिलाओ का वेतन काटना तो याद है , पर बीएसए साहब को डीएम साहब के आदेश को स्पष्ट करना याद नहीं - शीतल दहलान , जिला अध्यक्ष , प्राथमिक शिक्षक संघ   सिस्टम ही तो है वरना जिस स्कूल में छः और आठ महीने से कोई शिक्षक नहीं आ रहा वहा साहब लोग जाने की जरूरत नहीं समझते  , पर महिला हूँ चीख चिल्ला ही सकती हूँ , पर हूँ तो निरीह ना - शीतल दहलान  विजय शुक्ल लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया दिल्ली।  खनन ,और शिक्षा दो ही ऐसे माफिया है जो आज सोनभद्र को दीमक की तरह खोखला कर रहे है, वो भी भ्रष्ट और सरपरस्ती में जी रहे अधिकारियो की कृपा से। बहरहाल लोकल न्यूज ऑफ इंडिया और कई समझदार लोग शायद शिक्षक पद की गरिमा को लेकर सोनभद्र में चिंतित नजर आते है।   चाहे म्योरपुर खंड शिक्षा अधिकारी को लेकर बेबाक और स्पष्ट वादी विधायक हरीराम चेरो का बयान हो कि   सहाय बदमाश आदमी है   या फिर ऑडियो में पैसे का आरोप लगाने वाली महिला शिक्षिका का अब भी दबाव में जीना और सिस्टम से लगातार जूझना जो जांच की छुरछुरछुरिया के साथ आरोपी खंड शिक्षा अधिकारी को अपने रसूख और दबाव का खेल घूम घूम कर साबित करने की इजाजत देता हो। 

विद्यालयों में शिक्षकों की उपस्तिथि को लेकर जारी शासनादेश से पैदा हुई उहापोह की स्तिथि साफ़ करे बीएसए - शीतल दहलान , जिला अध्यक्ष , उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ , सोनभद्र 

विद्यालयों में शिक्षकों की उपस्तिथि को लेकर जारी शासनादेश से पैदा हुई उहापोह की स्तिथि साफ़ करे बीएसए - शीतल दहलान  , जिला अध्यक्ष , उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ , सोनभद्र        सूर्यमणि कनौजिया  लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया  सोनभद्र। जनपद में ताजा ताजा जारी एक शासनादेश से शिक्षकों में एक उहापोह की स्तिथि बन गयी है जिसको लेकर उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ की जिला अध्यक्ष शीतल दहलान ने जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी से मांग की है कि  वो इसको स्पष्ट करे।  पूरा मामला  मुख्य सचिव उत्तर प्रदेश के दिनांक 30/08/2020 के शासनादेश संख्य2007/2020/सी.एक्स-3 के गाइड लाइन अनुपालन के क्रम में जिला मैजिस्ट्रेट /जिलाधिकारी सोनभद्र के दिनांक 31/08/2020 के पत्रांक 5728/जे.एनिषेधाज्ञा/ कोविड- 19/एल ओ आर डी /2020 के आदेशानुसार जिसके पैरा 1 मे उल्लिखित निम्न आदेश पर हुआ है।  जिसमे    1. समस्त स्कूल कॉलेज, शैक्षिक एवं कोचिंग संस्थान सामान्य शैक्षिक कार्य हेतु 30 सितम्बर 2020 तक बंद रहेंगे। यद्यपि निम्न गतिविधियों को शुरू करने की अनुमति होगी a. ऑनलाइन शिक्षा हेतु अनुमति जारी रहेगी और इसे प्रोत्साहित

सोनभद्र के बंटी-बबली का खेल अब जनता के सामने

सोनभद्र के बंटी-बबली का खेल अब जनता के सामने यू. पी. पुलिस इन्वेस्टिगेशन व पब्लिक सर्विस कमीशन का अपना फर्जी आई-डी कार्ड बनाकर जॉब लगवाने को लेकर लोगो का लाखो रुपए लूटा   मोहित मणि शुकला लोकल न्यूज़ ऑफ़ इंडिया सोनभद्र । एक ऐसा फर्जी पुलिस जो कि जनपद सोनभद्र का निवासी है और अपने फर्जी आई डी कार्ड के दम पर लोगो को जॉब दिलवाने के नाम पर व आने जाने के लिए टोल टैक्स पर पुलिस का रोब दिखा कर टोल टैक्स न देना फर्जीवारा करता आ रहा है। इस शख्स का नाम संतोष कुमार मिश्रा (पिता-आत्मजः राम ललित मिश्रा, सोनभद्र उत्तर प्रदेश) का रहने वाला है। संतोष कुमार मिश्रा फर्जी पुलिस की आई डी कार्ड बनाकर सोनभद्र में लोगो को गुमराह कर नौकरी के नाम मोटा रकम वसूल करके भागने की तैयारी में है। ये सोनभद्र या कहीं भी किसी भी टोल टैक्स पर पुलिस का फर्जी आई डी कार्ड दिखा कर निकल जाता है। इसका आई डी कार्ड "यू. पी. पुलिस इन्वेस्टिगेशन"* व "पब्लिक सर्विस कमीशन" के नाम पर बना हुआ है और बेखौफ जनपद सोनभद्र में ये घूम रहा है और लोगो को गुमराह कर रहा है। पैसे की लूट में इसकी लवर प्रिंसी भी इसका सा