सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

आखिर शिव जी को जल क्यों चढ़ाया जाता है?

आखिर शिव जी को जल क्यों चढ़ाया जाता है?



पंडित विनय शर्मा


लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया


हरिद्वार।आखिर शिव जी को जल चढ़ाने के पीछे का राज क्या है? आप संभवतः जानते हो अगर नही तो आइये आपको लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया के इस छोटी सी जानकारी से अवगत कराता हूँ। समुद्र मंथन से निकले हलाहल या कालकूट विष से जब संसार जलने लगा और सृष्टि पर संकट आ गया तो संसार के कल्याण के लिए भगवान भोलेनाथ ने उसे अपने कंठ में धारण कर लिया. विष शरीर में न समा जाए इसके लिए माता पार्वती ने भोलेनाथ का कंठ दबाया.


 


इस तरह विष कंठ में ही स्थिति रह गया और भगवान नीलकंठ हो गए. विष के प्रभाव से प्रभु के शरीर में जलन महसूस हुई तो ब्रह्माजी के सुझाव पर देवों ने उनके मस्तक पर जल डालकर शांत करने की कोशिश की थी. शिवजी को जल अतिप्रिय है. इसीलिए जलाभिषेक किया जाता है.


 


गंगाजी उनकी जटाओं में वास करती हैं और अमृत बरसाने वाले चंद्रमा मस्तक पर विराजते हैं. संसार में जिसे कोई धारण नहीं कर सकता, जिसका कोई आसरा नहीं बनता, भोलेनाथ उसको प्रेम से स्वीकार कर लेते हैं, इसीलिए वह नाथों के भी नाथ भोलेनाथ हैं.


 


शिवजी की आराधना पूरे वर्ष करनी चाहिए लेकिन सावन का विशेष महत्व है. महादेव को श्रावण मास सर्वाधिक प्रिय है. सावन में संसार शिवमय हो जाता है. देवतागण महादेव की स्तुति करके सभी सुख-समृद्धि और ऐश्वर्य की प्राप्ति करते हैं.


 


इसलिए सुख-शांति के लिए शिवजी का अभिषेक करना चाहिए. जल के अतिरिक्त, दुग्ध, गन्ने का रस, पंचामृत, तीर्थों के जल, दही आदि से अभिषेक और हल्दी, बेलपत्र, कनेर-धतूरे, मदार आदि फूल चढाए जाते हैं फिर भी जलाभिषेक का अलग महत्व है.


 


शिवजी तुरंत प्रसन्न हो जाते हैं. हर तरह के अभिषेक का विशिष्ट महत्व है, विभिन्न फल प्राप्ति के लिए सभी अभिषेक करना चाहिए फिर भी जो सर्वाधिक सुलभ है वह है जलाभिषेक, यानी शिवजी को जल चढ़ाना.


 


प्रातःकाल स्नान आदि से निवृत होकर शुद्ध पात्र में जल भरें. संभव हो तो कुछ गंगाजल मिला दें. फिर शिवलिंग को अच्छे से धुलकर भोलेनाथ का ध्यान करके जल अर्पित करें. शिवजी के विभिन्न अभिषेक के वैदिक मंत्र हैं किंतु उन्हें वेदपाठी ब्राह्मणों से ही कराना चाहिए.


 


सबसे सरल विधि बताता हूं- शिव पंक्षाक्षर स्तोत्र अथवा रूद्राष्टकम का सस्वर उच्चारण करते हुए शिवजी को जल चढ़ा दें. यदि ये मंत्र याद नहीं हो पाते तो ऊं नमः शिवाय का उच्चारण करें. फिर कनेर, धतूरा, बेलपत्र आदि जो भी उपलब्ध हों वह भी अर्पित करें.


 


बेलपत्र पर हल्दी अथवा पीले चंदन से ऊं लिख लेना श्रेयष्कर होता है. इसके बाद शिवालय में ही रूद्राक्ष की एक माला से "ऊं नमः शिवाय" का जप कर लें. महादेव तो इतने पर भी प्रसन्न हो जाते हैं. वह भाव देखते हैं, मंत्र आदि तो भाव के आगे गौण हो जाते हैं.


 


संभव हो तो शिवमंदिर में बैठकर पंक्षाक्षर मंत्र और रूद्राष्टकम का एक-एक पाठ कर लें. समय 5 मिनट से ज्यादा नहीं लगेगा. शिवजी का ध्यान करने और माला जप के लिए रूद्राक्ष की माला प्रयोग करें तो श्रेष्ठ होता है.


टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वेतन तो शिक्षक का कटेगा भले ही वो महिला हो और महिला अवकाश का दिन हो , खंड शिक्षा अधिकारी पर तो जांच जारी है ही ,पर यक्ष प्रश्न आखिर कब तक  

महिला अवकाश के दिन महिलाओ का वेतन काटना तो याद है , पर बीएसए साहब को डीएम साहब के आदेश को स्पष्ट करना याद नहीं - शीतल दहलान , जिला अध्यक्ष , प्राथमिक शिक्षक संघ   सिस्टम ही तो है वरना जिस स्कूल में छः और आठ महीने से कोई शिक्षक नहीं आ रहा वहा साहब लोग जाने की जरूरत नहीं समझते  , पर महिला हूँ चीख चिल्ला ही सकती हूँ , पर हूँ तो निरीह ना - शीतल दहलान  विजय शुक्ल लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया दिल्ली।  खनन ,और शिक्षा दो ही ऐसे माफिया है जो आज सोनभद्र को दीमक की तरह खोखला कर रहे है, वो भी भ्रष्ट और सरपरस्ती में जी रहे अधिकारियो की कृपा से। बहरहाल लोकल न्यूज ऑफ इंडिया और कई समझदार लोग शायद शिक्षक पद की गरिमा को लेकर सोनभद्र में चिंतित नजर आते है।   चाहे म्योरपुर खंड शिक्षा अधिकारी को लेकर बेबाक और स्पष्ट वादी विधायक हरीराम चेरो का बयान हो कि   सहाय बदमाश आदमी है   या फिर ऑडियो में पैसे का आरोप लगाने वाली महिला शिक्षिका का अब भी दबाव में जीना और सिस्टम से लगातार जूझना जो जांच की छुरछुरछुरिया के साथ आरोपी खंड शिक्षा अधिकारी को अपने रसूख और दबाव का खेल घूम घूम कर साबित करने की इजाजत देता हो। 

विद्यालयों में शिक्षकों की उपस्तिथि को लेकर जारी शासनादेश से पैदा हुई उहापोह की स्तिथि साफ़ करे बीएसए - शीतल दहलान , जिला अध्यक्ष , उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ , सोनभद्र 

विद्यालयों में शिक्षकों की उपस्तिथि को लेकर जारी शासनादेश से पैदा हुई उहापोह की स्तिथि साफ़ करे बीएसए - शीतल दहलान  , जिला अध्यक्ष , उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ , सोनभद्र        सूर्यमणि कनौजिया  लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया  सोनभद्र। जनपद में ताजा ताजा जारी एक शासनादेश से शिक्षकों में एक उहापोह की स्तिथि बन गयी है जिसको लेकर उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ की जिला अध्यक्ष शीतल दहलान ने जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी से मांग की है कि  वो इसको स्पष्ट करे।  पूरा मामला  मुख्य सचिव उत्तर प्रदेश के दिनांक 30/08/2020 के शासनादेश संख्य2007/2020/सी.एक्स-3 के गाइड लाइन अनुपालन के क्रम में जिला मैजिस्ट्रेट /जिलाधिकारी सोनभद्र के दिनांक 31/08/2020 के पत्रांक 5728/जे.एनिषेधाज्ञा/ कोविड- 19/एल ओ आर डी /2020 के आदेशानुसार जिसके पैरा 1 मे उल्लिखित निम्न आदेश पर हुआ है।  जिसमे    1. समस्त स्कूल कॉलेज, शैक्षिक एवं कोचिंग संस्थान सामान्य शैक्षिक कार्य हेतु 30 सितम्बर 2020 तक बंद रहेंगे। यद्यपि निम्न गतिविधियों को शुरू करने की अनुमति होगी a. ऑनलाइन शिक्षा हेतु अनुमति जारी रहेगी और इसे प्रोत्साहित

सोनभद्र के बंटी-बबली का खेल अब जनता के सामने

सोनभद्र के बंटी-बबली का खेल अब जनता के सामने यू. पी. पुलिस इन्वेस्टिगेशन व पब्लिक सर्विस कमीशन का अपना फर्जी आई-डी कार्ड बनाकर जॉब लगवाने को लेकर लोगो का लाखो रुपए लूटा   मोहित मणि शुकला लोकल न्यूज़ ऑफ़ इंडिया सोनभद्र । एक ऐसा फर्जी पुलिस जो कि जनपद सोनभद्र का निवासी है और अपने फर्जी आई डी कार्ड के दम पर लोगो को जॉब दिलवाने के नाम पर व आने जाने के लिए टोल टैक्स पर पुलिस का रोब दिखा कर टोल टैक्स न देना फर्जीवारा करता आ रहा है। इस शख्स का नाम संतोष कुमार मिश्रा (पिता-आत्मजः राम ललित मिश्रा, सोनभद्र उत्तर प्रदेश) का रहने वाला है। संतोष कुमार मिश्रा फर्जी पुलिस की आई डी कार्ड बनाकर सोनभद्र में लोगो को गुमराह कर नौकरी के नाम मोटा रकम वसूल करके भागने की तैयारी में है। ये सोनभद्र या कहीं भी किसी भी टोल टैक्स पर पुलिस का फर्जी आई डी कार्ड दिखा कर निकल जाता है। इसका आई डी कार्ड "यू. पी. पुलिस इन्वेस्टिगेशन"* व "पब्लिक सर्विस कमीशन" के नाम पर बना हुआ है और बेखौफ जनपद सोनभद्र में ये घूम रहा है और लोगो को गुमराह कर रहा है। पैसे की लूट में इसकी लवर प्रिंसी भी इसका सा