सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

हम अखबार ही तो है कोई सरकार थोड़े ही , जो आठ महीने से लापता शिक्षक के मिलने पर सब ठीक ठाक कर लेंगे वो भी मजबूत शिक्षा अधिकारियों और राजनीतिक प्रतिनिधियों व बड़े पत्रकारों के सामने 

हम अखबार ही तो है कोई सरकार थोड़े ही , जो आठ महीने से लापता शिक्षक के मिलने पर सब ठीक ठाक कर लेंगे वो भी मजबूत शिक्षा अधिकारियों और राजनीतिक प्रतिनिधियों व बड़े पत्रकारों के सामने 





 

विजय शुक्ल 

लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया 

म्योरपुर, सोनभद्र। जिला सोनभद्र अपार पर्यटन की सम्भावनाओ से भरा हुआ और खनन माफियाओ के साथ साथ कलम माफियाओ के चंगुल में फंसा हुआ अच्छे जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी , जिलाधिकारी व् कप्तान के होने के बावजूद भी आज लकवा ग्रस्त जैसा सा ही है खासकर शिक्षा के मामले में।  मामले को घुमाकर पकड़ने की तो मुझे आदत है नहीं,  क्योकि हम हैं लोकल सीधी सपाट अपनी बात रखने के आदी।  मामला हमारी पुरानी खबर को पढ़कर आप जानते ही होंगे बाकी नहीं पता होगा तो यूटुब पर  मेरी फालतू की बकवास सुन लीजियेगा लापता गुरूजी से और खंड शिक्षा अधिकारी जी से बात चीत के आधार पर   आपके लिए लिंक.. 




खैर अब खबर के बाद गुरूजी अवतरित हो गए है,  वो भी नए कलेवर और तेवर में ,नयी दलीलों के साथ।  क्योकि विभागीय खानापूर्ती अब शायद हो गयी होगी और उनका अवकाश भी अपने विभागीय अधिकारों के तहत रजिस्टर में चढ़ भी गया होगा।  क्योकि प्रिंसिपल साहब ने तो साफ़ बोल ही दिया था कि आपकी जो औकात हो छापो, हमारे अधिकारी साहब सम्हाल लेंगे। और उपस्तिथि से लेकर अवकाश सब कुछ शायद बेसिक शिक्षा सोनभद्र विभाग में खंड शिक्षा अधिकारी ही सम्हालते है।  ऐसा जानकारी में प्रिंसिपल साहब से बात चीत में आया।  वरना हम तो पता नहीं कैसी कैसी अखबारी ग़लतफ़हमी में थे।  और हाँ आपको बता दे कि  यह अखबार वख़बार  की कोई नहीं सुनता।  वो भी बीजपुर में तो बिलकुल नहीं और वो भी तब जब पंचायती प्रबंधन स्कूल समिति और शिक्षा समिति द्रोपदी का चीर हरण होते देखने जैसी पांडवो की अवस्था में अपने ही बच्चो की भविष्य का पलीता बनवा रही हो।  और मानो उनका होना भी एक बोझ ही है।  ग्राम प्रधान और इन समितियों को चुल्लू भर पानी में डूब मरना चाहिए जब यह आठ आठ महीने तक लापता गुरूजी की सही जानकारी भी नहीं रख सकती कि  वो बेचारे अपने बीमार हार्ट अटैक वाले पिता जी के देखभाल करने के लिए घर गए थे उनसे हुई बात चीत के अनुसार।  और वो आये भी  थे लॉक डाउन से पहले,  अपनी ट्रेनिंग के वास्ते।  कहाँ , कब, कैसे ..  यह सब मत पूछियेगा? बाकी लॉक डाउन में उनकी यहां क्या जरूरत? ऊपर से उनकी तबीयत भी खराब थी।  जिसका मेडिकल तो उंन्होने जरूर दिया होगा अवकाश पत्र के साथ।  हम तो शायद ही देख पाए,  पर अगर थोड़ी सी भी आत्मीयता गुरूजी के साथ  इन ग्राम पंचायत समितियों की होगी तो उपस्तिथि रजिस्टर और मेडिकल सर्टिफिकेट खंड शिक्षा अधिकारी कार्यालय से मंगवा ही लेंगे।  अब अगर इतना भी नहीं कर सकते तो क्या सब कुछ ब्राह्मण नेताजी लोग करेंगे।  माना  नेता जी ब्राह्मण है  और ब्राह्मणो का साथ देना उनका धर्म भी है।  पर महमड के लोगो का भी तो कुछ फर्ज है।  
मजेदार बात यह है कि  लोकल लोकल मोदी जी ने क्या चिल्लाया, हमने मान लिया कि  लोकल मुद्दों और परेशानियों पर हम थोड़ा खबर चला दे।  और अपने गाँव के बच्चो को पढ़ा लिखा  कर  हम सबके चहेते डॉक्टर अब्दुल कलाम जैसा बनाने की पूरी कोशिश करने वाले गुरूजी आदरणीय श्री श्रुति देव तिवारी जी, जो कि आठ माह के लापता रहने के बावजूद भी इतने चिंतित थे कि  ट्रांसफर वान्स्फर को तिलांजलि दे वापस महमड की शिक्षा भूमि को सिंचित करने के लिए अवतरित हो गए। स्वयं और सरकारी कागजो में भी।  शायद जिसकी जानकारी अगर मुझे खीर पार्टी देकर दी जाती तो पता चलता ब्राह्मण जो ठहरा जाति  का। 
कल आपको एक वीडियो दिखाया जायेगा जो शायद आपको यह बताने में कारगर होगा कि  पूरा खेल क्या है इस फ़र्ज़ी सिस्टम का।  जो अब पेपर पर दिख रहा है।  उससे गुरूजी की खोज में निकले मुझ लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया के फर्जी टाइप के पत्रकार को इसकी जानकारी मिल पाएगी और आपको भी  थोड़ा बहुत प्रसाद के तौर पर दिखेगा जरूर।   

 

जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी साहब ने मामले की जानकारी लेकर हमें बताने का वादा तो  किया  था,  पर उनकी व्यस्तता शायद ज्यादा होने के कारण अभी कुछ मुझे हासिल ना हो पाया।  पर मुझे विश्वास है कि जिले का कायाकल्प अगर कोई कर सकता है तो वो आज की  मौजूदा जिला स्तरीय टोली ही जिसमे जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी भी शामिल हैं  जिलाधिकारी और कप्तान साहेब  के साथ।

 

 

रही बात खंड शिक्षा अधिकारी साहेब की तो वो शायद जिले के मान्यता प्राप्त पत्रकारों का फ़ोन ही उठाते है खासकर पंडित जी लोगो का।  जो जन जागरण अभियान में इनकी  सहायता  कर सकते हो,  शिक्षा की ऐसी अलख  जोत  जलाने में।  मुझ जैसे दिल्ली में बैठे लोकल पत्रकारों की औकात  कहा।  

 

बस एक अरज है आप सबसे जो भी पढ़ रहे है बस वो ग्राम सभा शिक्षा समितियों , ग्राम प्रधान , माननीय विधायक , ब्लॉक प्रमुख और राजनीतिक पार्टियों के प्रतिनिधियों को यह खबर भेजकर एक अनुरोध करे कि  रोजाना बावली में डूबने और आकाशीय बिजली की चपेट में आकर मर रहे बच्चो  के साथ साथ उनकी शिक्षा के  साथ खेल रहे ऐसे लापता गुरूजी लोगो और अधिकारियों से उनको बचाले।

 

हमारा क्या हम कल भी थे, आज भी है , और कल भी रहेंगे ,इसी अंदाज में।  आपकी गूँज को दिल्ली तक लाने के लिए बिना किसी त्यौहारी की मांग के या बिना किसी चढ़ावे के। और हाँ  हमें वास्तव में इन्तजार रहेगा योगी जी के रामराज का और मोदी जी के आत्म निर्भर सोनभद्र का। कल फिर मिलेंगे शाम तक पूरी खबर के साथ वीडियो पर .......

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वेतन तो शिक्षक का कटेगा भले ही वो महिला हो और महिला अवकाश का दिन हो , खंड शिक्षा अधिकारी पर तो जांच जारी है ही ,पर यक्ष प्रश्न आखिर कब तक  

महिला अवकाश के दिन महिलाओ का वेतन काटना तो याद है , पर बीएसए साहब को डीएम साहब के आदेश को स्पष्ट करना याद नहीं - शीतल दहलान , जिला अध्यक्ष , प्राथमिक शिक्षक संघ   सिस्टम ही तो है वरना जिस स्कूल में छः और आठ महीने से कोई शिक्षक नहीं आ रहा वहा साहब लोग जाने की जरूरत नहीं समझते  , पर महिला हूँ चीख चिल्ला ही सकती हूँ , पर हूँ तो निरीह ना - शीतल दहलान  विजय शुक्ल लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया दिल्ली।  खनन ,और शिक्षा दो ही ऐसे माफिया है जो आज सोनभद्र को दीमक की तरह खोखला कर रहे है, वो भी भ्रष्ट और सरपरस्ती में जी रहे अधिकारियो की कृपा से। बहरहाल लोकल न्यूज ऑफ इंडिया और कई समझदार लोग शायद शिक्षक पद की गरिमा को लेकर सोनभद्र में चिंतित नजर आते है।   चाहे म्योरपुर खंड शिक्षा अधिकारी को लेकर बेबाक और स्पष्ट वादी विधायक हरीराम चेरो का बयान हो कि   सहाय बदमाश आदमी है   या फिर ऑडियो में पैसे का आरोप लगाने वाली महिला शिक्षिका का अब भी दबाव में जीना और सिस्टम से लगातार जूझना जो जांच की छुरछुरछुरिया के साथ आरोपी खंड शिक्षा अधिकारी को अपने रसूख और दबाव का खेल घूम घूम कर साबित करने की इजाजत देता हो। 

विद्यालयों में शिक्षकों की उपस्तिथि को लेकर जारी शासनादेश से पैदा हुई उहापोह की स्तिथि साफ़ करे बीएसए - शीतल दहलान , जिला अध्यक्ष , उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ , सोनभद्र 

विद्यालयों में शिक्षकों की उपस्तिथि को लेकर जारी शासनादेश से पैदा हुई उहापोह की स्तिथि साफ़ करे बीएसए - शीतल दहलान  , जिला अध्यक्ष , उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ , सोनभद्र        सूर्यमणि कनौजिया  लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया  सोनभद्र। जनपद में ताजा ताजा जारी एक शासनादेश से शिक्षकों में एक उहापोह की स्तिथि बन गयी है जिसको लेकर उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ की जिला अध्यक्ष शीतल दहलान ने जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी से मांग की है कि  वो इसको स्पष्ट करे।  पूरा मामला  मुख्य सचिव उत्तर प्रदेश के दिनांक 30/08/2020 के शासनादेश संख्य2007/2020/सी.एक्स-3 के गाइड लाइन अनुपालन के क्रम में जिला मैजिस्ट्रेट /जिलाधिकारी सोनभद्र के दिनांक 31/08/2020 के पत्रांक 5728/जे.एनिषेधाज्ञा/ कोविड- 19/एल ओ आर डी /2020 के आदेशानुसार जिसके पैरा 1 मे उल्लिखित निम्न आदेश पर हुआ है।  जिसमे    1. समस्त स्कूल कॉलेज, शैक्षिक एवं कोचिंग संस्थान सामान्य शैक्षिक कार्य हेतु 30 सितम्बर 2020 तक बंद रहेंगे। यद्यपि निम्न गतिविधियों को शुरू करने की अनुमति होगी a. ऑनलाइन शिक्षा हेतु अनुमति जारी रहेगी और इसे प्रोत्साहित

सोनभद्र के बंटी-बबली का खेल अब जनता के सामने

सोनभद्र के बंटी-बबली का खेल अब जनता के सामने यू. पी. पुलिस इन्वेस्टिगेशन व पब्लिक सर्विस कमीशन का अपना फर्जी आई-डी कार्ड बनाकर जॉब लगवाने को लेकर लोगो का लाखो रुपए लूटा   मोहित मणि शुकला लोकल न्यूज़ ऑफ़ इंडिया सोनभद्र । एक ऐसा फर्जी पुलिस जो कि जनपद सोनभद्र का निवासी है और अपने फर्जी आई डी कार्ड के दम पर लोगो को जॉब दिलवाने के नाम पर व आने जाने के लिए टोल टैक्स पर पुलिस का रोब दिखा कर टोल टैक्स न देना फर्जीवारा करता आ रहा है। इस शख्स का नाम संतोष कुमार मिश्रा (पिता-आत्मजः राम ललित मिश्रा, सोनभद्र उत्तर प्रदेश) का रहने वाला है। संतोष कुमार मिश्रा फर्जी पुलिस की आई डी कार्ड बनाकर सोनभद्र में लोगो को गुमराह कर नौकरी के नाम मोटा रकम वसूल करके भागने की तैयारी में है। ये सोनभद्र या कहीं भी किसी भी टोल टैक्स पर पुलिस का फर्जी आई डी कार्ड दिखा कर निकल जाता है। इसका आई डी कार्ड "यू. पी. पुलिस इन्वेस्टिगेशन"* व "पब्लिक सर्विस कमीशन" के नाम पर बना हुआ है और बेखौफ जनपद सोनभद्र में ये घूम रहा है और लोगो को गुमराह कर रहा है। पैसे की लूट में इसकी लवर प्रिंसी भी इसका सा