सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

आंदोलन और नारायण सहनी

अनिल प्रकाश
मुंगेर . गंगा किनारे मल्लाहों  की बहुलता वाला एक मुहल्ला है लल्लू पोखर.  बिहार के मुंगेर शहर का यह मुहल्ला मेरे लिए बहुत खास है. यह  गंगा मुक्ति आंदोलन का जिले का मजबूत केन्द्र रहा है. वहां कमली सहनी नामक बहुत जहीन इंसान थे.. अपनी जवानी के दिनों में वे समाजवादी आंदोलन में सक्रिय रहे थे. जब लोहिया  मुंगेर आते थे कमली सहनी की उनसे मुलाकात जरूर होती थी.
  मैं जब भी मुंगेर जाता तो कमली सहनी के घर के झोपड़ीनुमा कमरे में रुकता था. एक खाट कमली जी की और एक खाट पर मैं. देर रात तक उनसे बातचीत होती रहती. कमली सहनी के बेटे नारायण सहनी लम्बे कद के गठे बदन वाले बहादुर इंसान हैं. उनकी मूंछें उनके व्यक्तित्व को और भी निखारती हैं. जन नेता है और गंगा में मछलियां पकड़कर अपनी जीविका चलाते हैं. जन समस्याओं को लेकर अक्सर बीडीओ, एसपी, डीएम के पास जाते रहते हैं. कभी जुलूस लेकर तो कभी कोई प्रतिनिधि मंडल के साथ. वैसे तो नारायण सहनी एक सीधे साधे इंसान हैं लेकिन अक्खड़ और स्वाभिमानी भी हैं. कोई सरकारी अधिकारी उनकी उपेक्षा नहीं कर पाता. एकबार एक बीडीओ से मिलने गए थे. अधिकारी नया था.उसने नारायण सहनी को डांट डपट कर अपमानित करना चाहा. नारायण ने तत्काल कुर्सी उठाई और बीडीओ पर चला दिया. तब से कभी कोई अधिकारी  मिलने जाने पर उनको देर तक इंतजार नहीं कराता. एक बार एक नए डीएम ने मिलने जाने पर उन्हें काफी देर तक दफ्तर से बाहर बैठाए रखा और मिलने पर बुरी तरह पेश आए. फिर तो नारायण भी उबल पड़े. तत्काल नारायण गिरफ्तार कर लिए गए और उन्हें जेल भेज दिया गया. उनको छुड़ाने के लिए हमलोगों को मुंगेर में आंदोलन चलाना पड़ा, तब वे छूटे.
 एक दिन हम नारायण सहनी के घर पर थे और उनके पिता कमली सहनी से बात कर रहे थे. इसी बीच नारायण की पत्नी ने मुझे अंदर बारामदे में बुलाया और कहने लगीं- 'लोग सनी कहै छै कि तोहर मरद एतना बड़ा नेता छौ, आ तों माथा पर दौरा लेके मुहल्ला मुहल्ला किशमिश, काजू बेचै छें.  इहां त छोटे मोट नेता सब बहुते कमाइछै'.( लोग कहते हैं कि तुम्हारा पति इतना बड़ा नेता है और तुम सर पर टोकरी रखकर मुहल्ले मुहल्ले काजू, किशमिश बेचती हो. जबकि छोटे मोटे नेता भी बहुत कमा लेते हैं.)
      एक बार मुंगेर के मछुआरों की कुछ समस्या लेकर नारायण सहनी तत्कालीन मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव के यहां पटना पहुंच गए. गेट पर  उन्होंने बताया कि वे गंगा मुक्ति आंदोलन, मुंगेर के संयोजक है और लालू यादव से मिलने आए हैं. लेकिन उनको अंदर जाने से रोक दिया गया. फिर तो गेट पर नारायण  ने हल्ला मचाना शुरू कर दिया. मुख्यमंत्री को जैसे ही पता चला उन्होंने नारायण को बुला लिया. ध्यान से उनकी बात सुनी और अधिकारियों को फोन करके तत्काल जरूरी निर्देश दे दिया. उनका काम हो गया. पटना से वे मुझसे मिलने मेरे घर मुजफ्फरपुर आए. मैं घर पर मौजूद नहीं था. मेरे पिताजी ने नारायण जी को नाश्ता वगैरह करवाया और नारायण ने पिताजी को मुख्यमंत्री आवास का सारा किस्सा सुनाया तो पिताजी ने पूछा कि 'मुख्यमंत्री से मिलने के लिए आपको अनिल प्रकाश की जरूरत नहीं पड़ी? '  नारायण जी ने उन्हें बताया कि ' हर बात में उनका समय बर्बाद क्यों कराएं. ऐसे साधारण से काम के लिए हमलोगों को पूरा प्रशिक्षण गंगा मुक्ति आंदोलन में मिल चुका है.
 गांव गांव में फैले ऐसे नायकों के परिश्रम और संघर्ष के जज्बे के कारण ही सन् 1982 में कहलगांव से शुरू हुआ आंदोलन पूरे बिहार के गंगा क्षेत्र में फैल गया था. उसमें लाखों स्त्री पुरुष शरीक हो गए थे  और  सन् 1990 में पांच सौ किलोमीटर की गंगा की बहती धारा में अत्याचारी और जुल्मी जलकर जमींदारी तथा ठेकेदारी व्यवस्था को उखाड़ फेंका था. बिहार की तमाम नदियों की बहती धारा में परम्परागत मछुआरों को निःशुल्क मछली पकड़ने का अधिकार  प्राप्त हुआ. तत्कालीन लालू प्रसाद यादव की सरकार को अंततः इसका फैसला करना ही पड़ा था.
लेकिन आज भी अपराधी और गुंडे मल्लाहों से छीन झपट करने से बाज नहीं आते. इसलिए संघर्ष निरंतर चल ही रहा है. फरक्का बराज के कारण गंगा और उसकी सहायक धाराओं में 80 प्रतिशत मछलियां समाप्त हो गईं.  कल कारखानों, थर्मल पावर स्टेशनों से निकलने वाले जहरीले रसायनों के कारण गंगा का पानी जहरीला होता गया. इसमें मछलियां, डौल्फिन और तमाम जीव जन्तु तथा वनस्पति समाप्त होते जा रहे है. ये सब नदियों को साफ रखते थे. इसलिए आंदोलन आज भी जारी है, आगे भी जारी रहेगा. जनादेश से साभार 


टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वेतन तो शिक्षक का कटेगा भले ही वो महिला हो और महिला अवकाश का दिन हो , खंड शिक्षा अधिकारी पर तो जांच जारी है ही ,पर यक्ष प्रश्न आखिर कब तक  

महिला अवकाश के दिन महिलाओ का वेतन काटना तो याद है , पर बीएसए साहब को डीएम साहब के आदेश को स्पष्ट करना याद नहीं - शीतल दहलान , जिला अध्यक्ष , प्राथमिक शिक्षक संघ   सिस्टम ही तो है वरना जिस स्कूल में छः और आठ महीने से कोई शिक्षक नहीं आ रहा वहा साहब लोग जाने की जरूरत नहीं समझते  , पर महिला हूँ चीख चिल्ला ही सकती हूँ , पर हूँ तो निरीह ना - शीतल दहलान  विजय शुक्ल लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया दिल्ली।  खनन ,और शिक्षा दो ही ऐसे माफिया है जो आज सोनभद्र को दीमक की तरह खोखला कर रहे है, वो भी भ्रष्ट और सरपरस्ती में जी रहे अधिकारियो की कृपा से। बहरहाल लोकल न्यूज ऑफ इंडिया और कई समझदार लोग शायद शिक्षक पद की गरिमा को लेकर सोनभद्र में चिंतित नजर आते है।   चाहे म्योरपुर खंड शिक्षा अधिकारी को लेकर बेबाक और स्पष्ट वादी विधायक हरीराम चेरो का बयान हो कि   सहाय बदमाश आदमी है   या फिर ऑडियो में पैसे का आरोप लगाने वाली महिला शिक्षिका का अब भी दबाव में जीना और सिस्टम से लगातार जूझना जो जांच की छुरछुरछुरिया के साथ आरोपी खंड शिक्षा अधिकारी को अपने रसूख और दबाव का खेल घूम घूम कर साबित करने की इजाजत देता हो। 

विद्यालयों में शिक्षकों की उपस्तिथि को लेकर जारी शासनादेश से पैदा हुई उहापोह की स्तिथि साफ़ करे बीएसए - शीतल दहलान , जिला अध्यक्ष , उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ , सोनभद्र 

विद्यालयों में शिक्षकों की उपस्तिथि को लेकर जारी शासनादेश से पैदा हुई उहापोह की स्तिथि साफ़ करे बीएसए - शीतल दहलान  , जिला अध्यक्ष , उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ , सोनभद्र        सूर्यमणि कनौजिया  लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया  सोनभद्र। जनपद में ताजा ताजा जारी एक शासनादेश से शिक्षकों में एक उहापोह की स्तिथि बन गयी है जिसको लेकर उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ की जिला अध्यक्ष शीतल दहलान ने जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी से मांग की है कि  वो इसको स्पष्ट करे।  पूरा मामला  मुख्य सचिव उत्तर प्रदेश के दिनांक 30/08/2020 के शासनादेश संख्य2007/2020/सी.एक्स-3 के गाइड लाइन अनुपालन के क्रम में जिला मैजिस्ट्रेट /जिलाधिकारी सोनभद्र के दिनांक 31/08/2020 के पत्रांक 5728/जे.एनिषेधाज्ञा/ कोविड- 19/एल ओ आर डी /2020 के आदेशानुसार जिसके पैरा 1 मे उल्लिखित निम्न आदेश पर हुआ है।  जिसमे    1. समस्त स्कूल कॉलेज, शैक्षिक एवं कोचिंग संस्थान सामान्य शैक्षिक कार्य हेतु 30 सितम्बर 2020 तक बंद रहेंगे। यद्यपि निम्न गतिविधियों को शुरू करने की अनुमति होगी a. ऑनलाइन शिक्षा हेतु अनुमति जारी रहेगी और इसे प्रोत्साहित

सोनभद्र के बंटी-बबली का खेल अब जनता के सामने

सोनभद्र के बंटी-बबली का खेल अब जनता के सामने यू. पी. पुलिस इन्वेस्टिगेशन व पब्लिक सर्विस कमीशन का अपना फर्जी आई-डी कार्ड बनाकर जॉब लगवाने को लेकर लोगो का लाखो रुपए लूटा   मोहित मणि शुकला लोकल न्यूज़ ऑफ़ इंडिया सोनभद्र । एक ऐसा फर्जी पुलिस जो कि जनपद सोनभद्र का निवासी है और अपने फर्जी आई डी कार्ड के दम पर लोगो को जॉब दिलवाने के नाम पर व आने जाने के लिए टोल टैक्स पर पुलिस का रोब दिखा कर टोल टैक्स न देना फर्जीवारा करता आ रहा है। इस शख्स का नाम संतोष कुमार मिश्रा (पिता-आत्मजः राम ललित मिश्रा, सोनभद्र उत्तर प्रदेश) का रहने वाला है। संतोष कुमार मिश्रा फर्जी पुलिस की आई डी कार्ड बनाकर सोनभद्र में लोगो को गुमराह कर नौकरी के नाम मोटा रकम वसूल करके भागने की तैयारी में है। ये सोनभद्र या कहीं भी किसी भी टोल टैक्स पर पुलिस का फर्जी आई डी कार्ड दिखा कर निकल जाता है। इसका आई डी कार्ड "यू. पी. पुलिस इन्वेस्टिगेशन"* व "पब्लिक सर्विस कमीशन" के नाम पर बना हुआ है और बेखौफ जनपद सोनभद्र में ये घूम रहा है और लोगो को गुमराह कर रहा है। पैसे की लूट में इसकी लवर प्रिंसी भी इसका सा