सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

वेतन तो शिक्षक का कटेगा भले ही वो महिला हो और महिला अवकाश का दिन हो , खंड शिक्षा अधिकारी पर तो जांच जारी है ही ,पर यक्ष प्रश्न आखिर कब तक  



  • महिला अवकाश के दिन महिलाओ का वेतन काटना तो याद है , पर बीएसए साहब को डीएम साहब के आदेश को स्पष्ट करना याद नहीं - शीतल दहलान , जिला अध्यक्ष , प्राथमिक शिक्षक संघ 

  • सिस्टम ही तो है वरना जिस स्कूल में छः और आठ महीने से कोई शिक्षक नहीं आ रहा वहा साहब लोग जाने की जरूरत नहीं समझते  , पर महिला हूँ चीख चिल्ला ही सकती हूँ , पर हूँ तो निरीह ना - शीतल दहलान 


विजय शुक्ल


लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया


दिल्ली।  खनन ,और शिक्षा दो ही ऐसे माफिया है जो आज सोनभद्र को दीमक की तरह खोखला कर रहे है, वो भी भ्रष्ट और सरपरस्ती में जी रहे अधिकारियो की कृपा से। बहरहाल लोकल न्यूज ऑफ इंडिया और कई समझदार लोग शायद शिक्षक पद की गरिमा को लेकर सोनभद्र में चिंतित नजर आते है।  



चाहे म्योरपुर खंड शिक्षा अधिकारी को लेकर बेबाक और स्पष्ट वादी विधायक हरीराम चेरो का बयान हो कि  सहाय बदमाश आदमी है  या फिर ऑडियो में पैसे का आरोप लगाने वाली महिला शिक्षिका का अब भी दबाव में जीना और सिस्टम से लगातार जूझना जो जांच की छुरछुरछुरिया के साथ आरोपी खंड शिक्षा अधिकारी को अपने रसूख और दबाव का खेल घूम घूम कर साबित करने की इजाजत देता हो।  जो  जिलाधिकारी महोदय से हमारे द्वारा पूछे गए सवाल पर उनके जबाब से झलकता है कि  जांच जारी है और यह विभाग का मन है की वो क्या करेगा ?


आपको बता दे कि  जिलाधिकारी महोदय के आदेश पर सीओ दुद्धी जांच अधिकारी के बतौर इस पर अपने रिपोर्ट या आख्या शायद अब तक डीएम साहब के सुपुर्द कर भी चुके हो क्योकि यह तो विभागीय गोपनीयता के तहत आने वाला काम है।  पर जनता और शिक्षकों के बीच विश्वास बनाये रखने के लिए जरूरी हैं त्वरित कार्रवाई।  पर ना जाने क्यों स्कूली बच्चो की वर्दी के खरीद  फरोख्त की भारी भरकम जिम्मेदारी के कारण शायद विभाग यानी बीएसए साहब आज तक म्योरपुर खंड शिक्षा अधिकारी को अब तक कोई कार्रवाई ना कर पाने के लिए मजबूर हो जबकि औचक निरीक्षण कर शिक्षकों का वेतन तो लटकाने का बिलकुल झन्नाटे दार काम साहब ने कर दिखाया और शायद यह सोनभद्र के शिक्षकों के लिए एक चेतावनी भी मान ले कि अधिकारियों के खिलाफ पंगा न ले तो  ही बेहतर।   सिस्टम है सिस्टम के तहत चले। 




अब तक तो श्रुतिदेव तिवारी जी का मामला भी लगभग रफा दफा हो चुका है, अरे वही जो आठ महीने बाद साहब की कृपा बरसने के कारण वापस महमड़ स्कूल में आ गए जिसका नाम कोरोना के लॉक डाउन में मेमोरी लॉक होने के कारण वो बताना भूल गए थे जी थोड़ा सा डायरेक्शन की कमी के कारण।  


बहरहाल अब हजार किलोमीटर दूर बैठकर रोजाना मैं भी इसमें क्या कर सकता हूँ जब पंचायत, विधायक , बीएसए और जिलाधिकारी के लिए यह सोचने का विषय ही  नहीं है। इन्ही सबको लेकर मैंने प्राथमिक शिक्षक संघ के एक धड़े की जिलाध्यक्ष शीतल दहलान से बात की तो मानो उनका दर्द उनके ही शब्दों से निकल आया कि  जिलाधिकारी महोदय के शासनादेश पर मार्गदर्शन करने का वक़्त तो बीएसए साहब के पास नहीं था पर महिला अवकाश के दिन महिलाओ के विद्यालय जाकर उनका वेतन काटने का आदेश तुरंत जारी करने का पूरा मौक़ा उनके पास था।  मैं एक महिला हूँ अगर वो चाहे तो मेरे स्कूल आकर मेरे रजिस्टर पर लाल पीला जो भी चाहे सब कर सकते है और मैं सिर्फ चीख चिल्ला सकती हूँ पर कर कुछ नहीं सकती।  



अब आप सोचिये एक तेज तर्रार शिक्षकों के हक़ की बात उठाने वाली यह महिला शिक्षिका इतनी मजबूर हैं तो जिस ऑडियो में पैसे का आरोप लगाने वाली महिला ने अपने अधिकारी के खिलाफ तंग आकर उसकी आवाज सबके सामने लाने का फैसला किया होगा वो कितनी मजबूर होगी या उस पर कितना दबाव होगा। और आज उसकी मानसिक हालत कैसी होगी जब जांच के दायरे में फंसा आरोपी अधिकारी स्कूल स्कूल खेल रहा है और मीडिया मन्त्र बाटने वाले गुरुवो की सरपरस्ती के साथ मौज ले रहा है। शायद सच में वो बीएसए , डीएम से ऊपर गवर्नर तक की पहुंच रखता  हैं।   वरना क्या मजाल की जांच की गति इतनी धीमी हो कि  इसका रिजल्ट आने का इन्तजार करते लोग खुद भगवान् को प्यारे हो जाय क्योकि यह सब तो विभाग की मर्जी से होगा और उनकी मर्जी अब तक तो दिख ही  रही है। 


आप यकीन मानिये मैं दिल्ली में बैठा सोनभद्र के प्राथमिक शिक्षा के आकड़ो की धमक अव्वल देख जितना खुश हुआ था आज मुझे उतना ही अफ़सोस इस अफसरशाही व जांच के लेट लतीफी को लेकर हो रहा है. और शर्म से सर झुक जा रहा है मेरा। जब एक महिला जिसको अपने सम्मान की सबसे ज्यादा फिक्र होती है वो न्याय के लिए गुहार लगाती है और वो रोजाना जांच के खेल में कुढ़ कुढ़ कर उसी अधिकारी को झेल रही है ।  अभी ज़रा सोचिये जब वो महिलाये जो साहब लोगो के सिस्टम से दो तीन साल से कही गायब है, पैदा होगी सवालों के घेरे में तब यह अधिकारी क्या करेंगे ? 



उम्मीद हैं ईमानदार डीएम , विद्वान् बीएसए  और कर्म प्रधान सीओ की जांच में कुछ तो न्याय होगा।  और सोनभद्र की धरती पर थोड़े से विश्वास की बयार शिक्षकों के दिल में भी बहेगी,  खासकर उनके जो रोजाना अपने समय पर शिक्षक होने का फर्ज निभा रहे है।   वरना बाकी तो जानते है ही की क्या रेट हैं गैरहाजिर होने का, वो भी घंटो के लिए नहीं ,दिनों के लिए नहीं, महीनो और सालो के लिए।  यह बस यकीन मानिये योग्य लोगो के अधिकारों और हम सब के टैक्स पर जा रही सैलरी का वैसा ही खनन का चोखा धंधा है जैसा ओबरा के व्यवसायी किसी और की जमीन पर बिना हेलमेट , बिना इंश्योरेंस और बिना किसी डर के मीडिया के कुछ व्यवसायिक सोच के लोगो के सहारे सब कुछ मैनेज कर रहे है।



मेरी आवाज और मेरी मौजूदगी मेरे युवा साथी सूर्यमणि के आकस्मिक निधन से थोड़ी मद्धम जरूर हुई थी पर शिक्षा के इस मंदिर की गन्दगी का स्वछता अभियान शासन की अच्छी आदतों में शुमार होने तक और जांच की बीरबल वाली खिचड़ी में जल्द तेज छौंक लगाने की डीएम साहब और सीओ साहब की क्रिया और बीएसए साहब की सोनभद्र को बेहतरीन बनाने में आ रहे इन काले धब्बो को मिटाने तक जारी रहेगी। 


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बेकार नहीं जाएगा ग्रामीणों का अंगूठा, होगा मान्य मतदान - एडीएम सोनभद्र

अगर   पहचान पत्र की पुष्टि के बाद अगूंठा सही से दबा कर मतपत्रों पर लगाया गया होगा तो वो मान्य होगा। और जनपद के सभी मतगणना केन्द्रो पर मान्य होगा - एडीएम सोनभद्र  विजय शुक्ल  लोकल न्यूज ऑफ इंडिया  सोनभद्र , दिल्ली।   हजार किलोमीटर दूर बैठे बैठे मुझे मेरे टोली ने खबर दी की इस बार चुनाव में ज्यादातर भोले भाले आदिवासी अगूंठा ठोककर चले आये हैं और ना जाने कितने प्रधान , पंचायत सदस्य , जिला पंचायत सदस्य का भविष्य इन अंगूठो  के सहारे निपट जाय अगर यह सब अमान्य करार दिए जाय।  सोनभद्र हैं सब कुछ जायज हैं पर जब अंगूठा लगाने और उसकी वजह से उदास आदिवासी मतदाताओं का दुःख पता चला जिन्होंने वाकई में यह आखिरी रात को और ज्यादा दर्द भरी बनाने के लिए काफी था खासकर उन उम्मीदवारों के लिए जिनको इन अंगूठे के मालिकानों से बस इस घड़ी के लिए उम्मीद थी क्योकि इन आदिवासी अंगूठा धारको का मालिकाना हक़ कल के बाद से फिर पांच साल के लिए इन्ही प्रधान जी और पंचायत जिला पंचायत सदस्य लोगो की कृपा पर निर्भर करेगा और उनका अंगूठा तो आपको पता हैं कि  कब लगेगा ? इसी उंहापोह की स्तिथि को सुलझाने का काम करने के लिए हमने डीएम सोनभद्र

वाह रे गोरखनाथ जी वाह !घूसकांड में जांच जारी , तबेला का आदेश जारी करने वाले सहाय को बचाना भी जरूरी , निलंबित कर दिया तबेले वाले प्रधानाध्यापक को बीएसए गोरखनाथ जी 

वाह रे गोरखनाथ जी वाह !घूसकांड में जांच जारी , तबेला का आदेश जारी करने वाले सहाय को बचाना भी जरूरी , निलंबित कर दिया तबेले वाले प्रधानाध्यापक को बीएसए गोरखनाथ जी  विजय शुक्ल  लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया  सोनभद्र, दिल्ली।   पूरी खबर का ज्ञान नीचे है बस यह जान लीजिये कि  घूस काण्ड हो या स्कूल वर्दी का खेल या बाकी के गोरखधंधे... सहाय जी जो भी करेंगे सब जायज हैं और उन्होंने जितने भी नाजायज काण्ड कर रखे हैं वो सब भी विभागीय गुरु श्री गोरखनाथ जी की कृपा के कारण जायज हो जाते हैं। अब तबेला निर्माण का तो वो हम लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया वालो के हल्ला मचाते रहने और  इनके सबूत मिटाने का सबूत इकठ्ठा कर खबर चलाते जो रहते हैं उससे तो साहब बहुत नाराज हैं और अब सारा ठीकरा उस बेचारे बिजली विभाग की ठुकाई करने वाले और मौजूदा महिला प्रधानध्यापक को गाली गलौज और मार पीट करने के आदी  प्रधानाध्यापक महोदय  को निलंबित कर उस पर फोड़ दिया और अपने खंड शिक्षा अधिकारी सहाय का सहारा बन उसको एक बार फिर अक्षय वरदान दे दिया कि  वो स्कूल जा जाकर और कई जगह तो बिना गए भी...  सबका वेतन काट दे और उसको ख़त्म करने के एवज में चढ़ावा चढाने क

अड़ीबाज़ एवं ब्लैकमेलर फैसल अपने आप को पत्रकार एवं FMSCI का मेंबर बताने वाला निकला फर्जी

  लोकल न्यूज ऑफ इंडिया  भोपाल।  राजधानी भोपाल में एक ऐसा मामला सामने आया है जहां फैसल मोहम्मद खान नाम का शातिर व्यक्ति अपने आपको फेडरेशन ऑफ मोटर स्पोर्ट्स क्लब ऑफ इंडिया FMSCI का सदस्य अपने आप को पत्रकार बता रहा था, जिसको लेकर वह लोगों के साथ फोटोग्राफी के नाम पर ब्लैकमेलिंग का काम करता है कई मोटर स्पोर्ट्स इवेंटो की वीडियो बनाकर लोगों को ठगने का काम भी इस शातिर द्वारा किया जा रहा था। इसी को लेकर जब एफएमएससीआई के पदाधिकारियों से इस विषय पर बात करी गई तो उन्होंने बताया कि इस नाम का हमारा कोई भी सदस्य भोपाल या आस पास में नहीं हैं, एफएमएससीआई के वरिष्ठ अधिकारियों ने बताया कि यह ब्लैकमेलिंग कर लोगों से मोटर स्पोर्ट्स इवेंट के नाम पर पैसे हेटने का काम करता है। जब कोई ऑर्गेनाइजर मोटर स्पोर्ट्स इवेंट करते हैं तो यह वहां पर कई अन्य साथियों के साथ मिलकर अपनी धोस जमाकर, फोटोग्राफी के काम को लेकर जबरन उन ऑर्गनाइजर पर दबाव बनाता है एवं ब्लैकमेलिंग कर उनसे पैसे हेटने का काम इसके द्वारा किया जाता है।