सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

निराला के लिए करुणा और परपीड़ा हरण थे धर्म के मूल तत्व

निराला के लिए करुणा और परपीड़ा हरण थे धर्म के मूल तत्व


 

डॉ. अरविंद कुमार शुक्ल

 

दु:ख ही जीवन की कथा रही, क्या कहूं आज जो नहीं कही। सूर्यकांत त्रिपाठी निराला का व्यक्तिगत जीवन दुख का सागर है। बचपन में ही माँ का गुजर जाना, और युवावस्था में जीवनसाथी मनोहरा देवी का साथ छोड़ देना जिनके द्वारा श्रीरामचंद्र कृपालु भजमन, ह्रदय भव भव दारुणम् को सुनकर निराला जी हिंदी की ओर आकृष्ट होते हैं। मनोहरा देवी के निधन से उत्पन रिक्तता वात्सल्य में तलाशते हैं 'आकाश बदलकर बना मही' किंतु महाकवि के साथ काल की निष्ठुरता का अंत कहाँ होने वाला था, 'कन्ये गत गतकर्मों का अर्पण कर, कर, करता मैं तेरा तर्पण। और यह अर्पण और तर्पण सूर्यकांत त्रिपाठी के जीवन का स्थाई भाव बन जाता है। जो कुछ भी है, दूसरों के लिए अर्पित। बचपन में मां का साया छूट गया था, इसलिए मात्र बेटा संबोधन से मोहित हो वृद्धा को जाड़े में अपनी रजाई दे देते हैं और 300 रुपये में से 100 रुपये साहित्यिक मित्र को, 60 रुपये परीक्षार्थी को और 40 रुपये का मनीऑर्डर जरूरतमंद को। यह है सूर्यकांत त्रिपाठी की शून्य साधना।

 

 

अंतिम जन के लिए सब कुछ समर्पित, इसलिए भिक्षुक उनके केंद्र में है। साथ दो बच्चे भी हैं सदा हाथ फैलाये, बाएँ से वे मलते हुए पेट को चलते, और दाहिना दया-दृष्टि पाने की ओर बढ़ाये। भूख से सूख ओठ जब जाते दाता-भाग्य विधाता से क्या पाते? घूँट आँसुओं के पीकर रह जाते। चाट रहे जूठी पत्तल वे, सभी सड़क पर खड़े हुए, और झपट लेने को उनसे कुत्ते भी हैं अड़े हुए। भिक्षुक और श्रमिक गरीबी के पेट से उपजे हुए सहोदर है इस बात को निराला जी ठीक से समझते हैं इसीलिए वह लिखते हैं - 'वह तोड़ती पत्थर इलाहाबाद के पथ पर' वह एक तरफ सामंतवाद से उपजे दीन दलित की आवाज बन कर चतुरी चमार, कुल्ली भाट और अलका के माध्यम से बदलाव का आह्वान करते हैं। दूसरी तरफ 'अबे सुन बे गुलाब खून चूसा तुमने खाद का डाल पर इतरा रहा है अशिष्ट रे कैपिटलिस्ट'।


 

निराला जी दया, करुणा और परपीड़ा हरण को धर्म का मूल तत्व मानते हैं। भारतीय संस्कृति और धर्म द्वारा स्थापित मान्यताओं की वंदना करते हुए वर दे वीणावादिनी वर दे काट अंध उर के बंधन बहा जननि ज्योतिर्मय निर्झर कलुष भेद तम। बहा जननि ज्योतिर्मय निर्झर। और आह्वान करते हैं नव गति नव लय ताल छंद नव। राम की शक्ति पूजा के माध्यम से सत्य की विजय का घोष करते हैं। और छंदमुक्त काव्य के प्रवर्तक होते हुए भी जीवन में अपार दुख को सहते हुए भी, नैतिकता सामाजिकता, पारलौकिकता में असीम आस्था रखते हैं। इसीलिए जब मनोहरा देवी के निधन के बाद दूसरे विवाह का प्रस्ताव आता है तो ठुकरा देते हैं और इस रूप में अभिव्यक्त होते हैं। बांधो न नाव इस ठांव बंधु! पूछेगा सारा गांव बंधु! यह घाट वही जिस पर हंस कर वह कभी नहाती थी धंस कर आंखें रह जाती थीं फंस कर कंपते थे दोनों पांव बंधु! वह हंसी बहुत कुछ कहती थी फिर भी अपने में रहती थी सबकी सुनती थी, सहती थी देती थी सबके दांव बंधु! सूर्यकांत त्रिपाठी निराला के काव्य में ही स्वाभिमान की झलक नहीं मिलती बल्कि यह जीवन की वास्तविकता में उभरती है और जब उस समय के शिक्षा जगत के सर्वाधिक शक्तिशाली व्यक्ति इलाहाबाद विश्वविद्यालय के कुलपति अमरनाथ झा निमंत्रण देते हैं – आइए मेरे आवास पर और कविता सुनाइए तो निराला अपने पत्र में संपूर्ण सम्मान व्यक्त करते हुए यह कहते हुए ठुकरा देते हैं कि मेरे कविता का संसार दरबार नहीं है।

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वेतन तो शिक्षक का कटेगा भले ही वो महिला हो और महिला अवकाश का दिन हो , खंड शिक्षा अधिकारी पर तो जांच जारी है ही ,पर यक्ष प्रश्न आखिर कब तक  

महिला अवकाश के दिन महिलाओ का वेतन काटना तो याद है , पर बीएसए साहब को डीएम साहब के आदेश को स्पष्ट करना याद नहीं - शीतल दहलान , जिला अध्यक्ष , प्राथमिक शिक्षक संघ   सिस्टम ही तो है वरना जिस स्कूल में छः और आठ महीने से कोई शिक्षक नहीं आ रहा वहा साहब लोग जाने की जरूरत नहीं समझते  , पर महिला हूँ चीख चिल्ला ही सकती हूँ , पर हूँ तो निरीह ना - शीतल दहलान  विजय शुक्ल लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया दिल्ली।  खनन ,और शिक्षा दो ही ऐसे माफिया है जो आज सोनभद्र को दीमक की तरह खोखला कर रहे है, वो भी भ्रष्ट और सरपरस्ती में जी रहे अधिकारियो की कृपा से। बहरहाल लोकल न्यूज ऑफ इंडिया और कई समझदार लोग शायद शिक्षक पद की गरिमा को लेकर सोनभद्र में चिंतित नजर आते है।   चाहे म्योरपुर खंड शिक्षा अधिकारी को लेकर बेबाक और स्पष्ट वादी विधायक हरीराम चेरो का बयान हो कि   सहाय बदमाश आदमी है   या फिर ऑडियो में पैसे का आरोप लगाने वाली महिला शिक्षिका का अब भी दबाव में जीना और सिस्टम से लगातार जूझना जो जांच की छुरछुरछुरिया के साथ आरोपी खंड शिक्षा अधिकारी को अपने रसूख और दबाव का खेल घूम घूम कर साबित करने की इजाजत देता हो। 

विद्यालयों में शिक्षकों की उपस्तिथि को लेकर जारी शासनादेश से पैदा हुई उहापोह की स्तिथि साफ़ करे बीएसए - शीतल दहलान , जिला अध्यक्ष , उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ , सोनभद्र 

विद्यालयों में शिक्षकों की उपस्तिथि को लेकर जारी शासनादेश से पैदा हुई उहापोह की स्तिथि साफ़ करे बीएसए - शीतल दहलान  , जिला अध्यक्ष , उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ , सोनभद्र        सूर्यमणि कनौजिया  लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया  सोनभद्र। जनपद में ताजा ताजा जारी एक शासनादेश से शिक्षकों में एक उहापोह की स्तिथि बन गयी है जिसको लेकर उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ की जिला अध्यक्ष शीतल दहलान ने जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी से मांग की है कि  वो इसको स्पष्ट करे।  पूरा मामला  मुख्य सचिव उत्तर प्रदेश के दिनांक 30/08/2020 के शासनादेश संख्य2007/2020/सी.एक्स-3 के गाइड लाइन अनुपालन के क्रम में जिला मैजिस्ट्रेट /जिलाधिकारी सोनभद्र के दिनांक 31/08/2020 के पत्रांक 5728/जे.एनिषेधाज्ञा/ कोविड- 19/एल ओ आर डी /2020 के आदेशानुसार जिसके पैरा 1 मे उल्लिखित निम्न आदेश पर हुआ है।  जिसमे    1. समस्त स्कूल कॉलेज, शैक्षिक एवं कोचिंग संस्थान सामान्य शैक्षिक कार्य हेतु 30 सितम्बर 2020 तक बंद रहेंगे। यद्यपि निम्न गतिविधियों को शुरू करने की अनुमति होगी a. ऑनलाइन शिक्षा हेतु अनुमति जारी रहेगी और इसे प्रोत्साहित

सोनभद्र के बंटी-बबली का खेल अब जनता के सामने

सोनभद्र के बंटी-बबली का खेल अब जनता के सामने यू. पी. पुलिस इन्वेस्टिगेशन व पब्लिक सर्विस कमीशन का अपना फर्जी आई-डी कार्ड बनाकर जॉब लगवाने को लेकर लोगो का लाखो रुपए लूटा   मोहित मणि शुकला लोकल न्यूज़ ऑफ़ इंडिया सोनभद्र । एक ऐसा फर्जी पुलिस जो कि जनपद सोनभद्र का निवासी है और अपने फर्जी आई डी कार्ड के दम पर लोगो को जॉब दिलवाने के नाम पर व आने जाने के लिए टोल टैक्स पर पुलिस का रोब दिखा कर टोल टैक्स न देना फर्जीवारा करता आ रहा है। इस शख्स का नाम संतोष कुमार मिश्रा (पिता-आत्मजः राम ललित मिश्रा, सोनभद्र उत्तर प्रदेश) का रहने वाला है। संतोष कुमार मिश्रा फर्जी पुलिस की आई डी कार्ड बनाकर सोनभद्र में लोगो को गुमराह कर नौकरी के नाम मोटा रकम वसूल करके भागने की तैयारी में है। ये सोनभद्र या कहीं भी किसी भी टोल टैक्स पर पुलिस का फर्जी आई डी कार्ड दिखा कर निकल जाता है। इसका आई डी कार्ड "यू. पी. पुलिस इन्वेस्टिगेशन"* व "पब्लिक सर्विस कमीशन" के नाम पर बना हुआ है और बेखौफ जनपद सोनभद्र में ये घूम रहा है और लोगो को गुमराह कर रहा है। पैसे की लूट में इसकी लवर प्रिंसी भी इसका सा