सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

प्याज ने बढ़ाई रिजर्व बैंक की चिंता

एमपीसी बैठक में छाया रहा मुद्दा के डेप्युटी गवर्नर कानुनगो ने भी दास की बात दोहराते हुए कहा कि अक्टूबर और नवंबर की नई दिल्ली। देशभर में प्याज की आसमान शुरुआत में हुई बेमौसम बारिश ने कुछ फसलों छूती कीमतों ने अब रिजर्व बैंक को भी परेशान को नुकसान पहुंचाया, जिससे मंडी में इनकी करना शुरू कर दिया है। रिजर्व बैंक की मौद्रिक आवक पर असर पड़ा है। नीति समिति एमपीसी की इस महीने की शुरुआत उन्होंने कहा, इसका परिणाम हुआ कि मांग में रेपो दर पर निर्णय लेने के लिए हुई बैठक में और आपूर्ति के तात्कालिक असंतुलन से चुनिंदा प्याज का मुद्दा छाया रहा। रिजर्व बैंक ने गुरुवार फसल को नुकसान होने के कारण सब्जियों के सब्जियों विशेषकर प्याज की कीमतें चढ़ गईं। को बैठक का ब्योरा प्रकाशित किया। भाव बढ़े हैं और इसी कारण खुदरा मुद्रास्फीति दास न कहा कि कुल मिलाकर आर्थिक वृद्धि और देश भर में प्याज की कीमतें सितंबर से बढ़ी बढ़ी है। छह सदस्यीय एमपीसी ने 5 दिसंबर को खुदरा मुद्रास्फीति के परिदृश्य पर कई हुई हैं। दिल्ली में प्याज का औसत भाव 130 से समाप्त हुई बैठक में रेपो दर को अपरिवर्तित रखने अनिश्चितताएं छायी हुई हैं। प्या

दरियागंज इलाके में उग्र हुआ प्रदर्शन, दिल्ली गेट पर जलाई गई कार

नागरिक संशोधन के न्यू जाफराबाद स्थित मस्जिद कानून के विरोध में दिल्ली के अक्सा के इमाम मौलाना तौकीर ने दरियागंज इलाके में बड़ी संख्या में जुमे की नमाज में शांति की अपील लोग प्रदर्शन कर रहे हैं। पुलिस ने की है। उन्होंने कहा कि सीएए का वाटर कैनन का इस्तेमाल किया। विरोध करें, लेकिन कानून को हाथ वहीं, दिल्ली गेट के साथ कनॉट में न लें। वहीं, संभावित प्रदर्शन के प्लेस के इनर सर्किल में भी लोग चलते दिल्ली मेट्रो रेल निगम ने शांतिपूर्ण मार्च निकाल रहे हैं। चावड़ी बाजार, लाल किला और दिल्ली के जामियानगर, शाहीन जामा मस्जिद के प्रवेश और निकास बाग, जामा मस्जिद में प्रदर्शन जारी द्वार बंद कर दिए हैं। इन स्टेशनों पर है। जामिया मिल्लिया इस्लामिया ट्रेनें नहीं रुकेंगी। विश्वविद्यालय के छात्रों ने शांतिपूर्ण जोहरी एन्कलेव, शिव विहार, लोग सड़क पर मौजूद हैं। बॉर्डर पर प्रदर्शनकारी पुलिस को फूल दे रहे दिल्ली के सीलमपुर इलाके में प्रदर्शन के दौरान कानून व्यवस्था दिल्ली गेट और दिलशाद गार्डन मेट्रो आज चैकिंग नहीं हुई है, उसी के हैं। हालांकि सथिति तनावपूर्ण है। पुलिस सुबह से फ्लैग मार्च कर रही संभालने में जुट

दिल्ली-एनसीआर समेत देश के कई हिस्सों में भूकंप के झटके

नई दिल्ली। शुक्रवार की शाम आकर अपनी-अपनी जान बचाई। तीव्रता 6.4 मापी गई है। यह भूकंप के दिल्ली समेत भारत के कई जगहों पर यूएस सिस्मोलॉजिक्ल सेंटर के झटके पंजाब, हरियाणा, कश्मीर भूकंप के झटके महसूस हुए हैं। मुताबिक इस भूकंप की तीव्रता 6.4 महसूस किए गए हैं। वहीं इस भूकंप के शुरूआती जानकारी के अनुसार कहीं रही है। इस भूकंप का केंद्र काबुल से झटके को पाकिस्तान के इस्लामाबाद किसी प्रकार का नुकसान नहीं हुआ है। 245 किलोमीटर की दूरी पर था।भूकंप और अन्य जगहों पर भी महसूस किया हालांकि भूकंप के झटके के बाद लोग भारत के समयानुसार 5 बजकर 12 गया है। राजधानी इस्लामाबाद समेत डर और भय से घरों से बाहर निकल मिनट के आसपास महसूस किया गया कई शहरों में भूकंप के झटके महसूस गए। वहीं ऑफिस में भी काम करने है। भूकंप का केंद्र अफगानिस्तान के किए गए। इस झटके से करीब 10 वाले लोग अपने कार्यस्थल से बाहर हिंदुकुश में था।रिक्टर स्केल पर इसकी सेकेंड तक धरती कांपती रही। 

उप्र में हिंसा, आगजनी व पथराव में 6 की मौत

लखनऊ। नागरिकता कानन के विरोध पर पथराव शरू कर दिया गया। भांजनी शुरू कर दी। इस पर भी जब मे उत्तर प्रदेश मे हुये हिंसक प्रदर्शन मे बचाव में पुलिस को आंसू गैस के गोले प्रदर्शनकारी नहीं माने तो आंसू गैस के गोले तकरीबन छह लोगों की मौत हो गयी। इस बात दागने पड़े। इसके बाद भी आक्रोशित लोग भी छोड़े गए। की पुष्टि राज्य सरकार ने की है। गुरुवार को शांत नहीं हुए। उन्होंने नालबंद पुलिस गोरखपुर में भीड़ उग्र लखनऊ सहित कई जिलों में बवाल के बाद चौकी के बाहर खड़े वाहनों को आग के गोरखपुर में जुमे की नमाज के आज जुमे की नमाज के बाद के माहौल पर हवाले कर दिया। बाइक जलकर खाक बाद लोग जुलूस की सभी की निगाह थी। पुलिस की तमाम हो गई। शक्ल में घंटाघर की सक्रियता के बाद भी एक दर्जन से अधिक आनन-फानन में फीरोजाबाद में चौकसी ओर बढ़ रहे थे। जिले भयंकर हिंसा की चपेट में हैं। कड़ी कर दी गई है। हाईवे पर आ रहे वाहनों कोतवाली इलाके के फिरोजाबाद और बिजनौर में एक-एक व्यक्ति को रोक दिया गया। आसपास के थानों की नखास चौक पर की मौत होने की चर्चा है। मेरठ में भी एक पुलिस भी बुला ली गई । इस दौरान फायरिंग पुलिस ने रोकने का उपद्रवी को

जयपुर ब्लास्ट केसः चारों दोषियों को फांसी की सजा गरो

नई दिल्ली। राजस्थान की एक विशेष अदालत ने जयपुर बम विस्फोट मामले में शुक्रवार को चारों दोषियों को फांसी की सजा सुनाई है। इससे पहले बुधवार को चार को दोषी ठहराया था जबकि एक आरोपी को दोषमुक्त करार दिया गया था।अदालत ने इस मामले में आरोपी मोहम्मद सरवर आजमी, मोहम्मद सैफ, मोहम्मद सलमान और सैफुर्रहमान को दोषी माना है जबकि शाहबाज हुसैन को संदेह का लाभ देते हुए दोषमुक्त करार दिया।लोक अभियोजक श्रीचंद ने भाषा को बुधवार को बताया था कि चार आरोपियों को दोषी ठहराया गया है। उनको भारतीय दंड संहिता की धारा 302, 307,324, 326, 120 बी, 121ए और 124 ए, 153 ए के तहत दोषी माना गया है। इसके अलावा विस्फोट पदार्थ अधिनियम की धारा तीन के तहत तथा विधि विरूद्ध क्रियाकलाप अधिनियम की धारा 13, 16, 1 ए और 18 के तहत भी उन्हें दोषी ठहराया गया है। उल्लेखनीय है कि इस मामले की सुनवाई कर रही विशेष अदालत के न्यायाधीश अजय कुमार शर्मा ने पिछले महीने फैसला सुरक्षित रख लिया था। राजस्थान की राजधानी जयपुर में 13 मई 2008 को शाम लगभग सवा सात बजे 15 मिनट में सिलसिलेवार आठ बम धमाके हुए थे।लगभग 11 साल पहले हुए इन आठ सिलसिलेवार बम धमाकों न

सवाल पुलिस के रवैये का

नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ हो रहे विरोध ' प्रदर्शनों में पुलिस और सुरक्षावलों की भमिका पर कई गहरे सवाल उठे हैं। दिल्ली के जामिया मिल्लिया में विशेष रूप से दिल्ली पुलिस के खिलाफ जरूरत से ज्यादा वल इस्तेमाल करने और सख्ती से पेश आने के आरोप & विश्वविद्यालय में जानिया से लगेअलीगढ मुस्लिम विश्वविद्यालय में जामिया से भी पहले विरोध प्रदर्शन शुरू हो गए थे। वहां से भी पुलिस के लाठीचार्ज करने और आंसू गैस का प्रयोग करने की खबरें आई थीं। वताया जा रहा है कि वहां पुलिस कार्रवाई में कम से कम 60 लोग घायल हुए । पूर्वोत्तर के राज्यों में भी प्रदर्शनों को खत्म करने के लिए पुलिस की ओर से अत्यधिक वल-प्रयोग किया गया। वताया जाता है कि वहां पुलिस ने मामले में आरोपी मोहम्मद की पुष्टि सलमान और सैफुर्रहमान को लखनऊ सवाल पुलिस गोलियां भी चलाईं। दिल्ली के ही लोगों को हिरासत में भी लिया, पर सफदरजंग अस्पताल के उनमें से एक भी छात्र नहीं अधिकारियों ने कहा कि जामिया निकला इस से सवाल यह उठ में पुलिस की कार्रवाई में घायल रहा है कि अगर कोई भी छात्र हुए जिन छात्रों को लाया गया, हिंसा में शामिल नहीं था, तो उनमें

सवाल है कि सूरत बदले

उन्नाव वलात्कार कांड में कोर्ट ने पूर्व वीजेपी नेता कुलदीप _सिंह सेंगर को दोषी ठहरा दिया हैयानी कहा जा सकता है कि इस मामले में कम से कम सीमित अर्थों में न्याय हुआ हैलेकिन ये इंसाफ वहुत महंगी कीमत चुकाने के वाद हासिल हआ इस क्रम में पाडिता का पूरा परिवार वर्वाद हो गया | चूंकि मामला मीडिया में उठता रहा, वलात्कार के कुल 1,46,201 छात्रा से एक चलती बस में इसलिए सेंगर तक कानून के र मामलों की सुनवाई हो रही थी, वजयपथ सामूहिक बलात्कार किया गया थाहाथ पहुंचे। मगर अक्स लेकिन इसमें से 18,333 मामलों सड़क पर फेंके जाने से पहले उस वलात्कार कांडों में ऐसा नहीं लिए कानूनों को सख्त वनाये जाने दोषसिद्धि दर कम थी। हाल के वर्षों का ही अदालतों ने निपटारा किया। पर गंभीर रूप से हमला किया गया र न्नाव वलात्कार कांड में कोर्ट ने पूर्व वीजेपी नेता कुलदीप होता इस वात की तस्दीक राष्ट्रीय के वावजूद वलात्कार के मामलों में में वलात्कार के मामलों में दोषसिद्धि जानकारों का कहना है कि था वाद में उसकी मौत हो गई __ अपराध रिकॉर्ड व्यूरो (एनसीआरवी) दोषसिद्धि दर कम है। 2017 के सिंह सेंगर को दोषी ठहरा दिया हैदर बढ़ी भी है, तो आर