सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

दशानन ने नहीं बल्कि उसके इस सौतेले भाई ने बसाई थी सोने की लंका

दशानन ने नहीं बल्कि उसके इस सौतेले भाई ने बसाई थी सोने की लंका

 


पंडित विनय शर्मा 

लोकल न्यूज ऑफ इंडिया 

 

हरिद्वार . रामायण  से जुड़ी कहानियां तो हम अकसर ही सुनते आए है. रामायण ने हमें राम की विजय, एक आदर्श पुत्र, पति, भाई, और प्रशासक, योद्धा, रावण, बहु-प्रधान असुर राजा पर अद्वितीय, की जीत के बारे में बताया. लेकिन आज रामायण से जुड़े उस सम्राट की बात कर रहे है जिसके बिना रामायण की कहानी अधूरी रह जाएगी. हम बात ककर रहे लंका के सम्राट जिनके पास और भी बहुत कुछ है जो आंख से मिलता है. एक जटिल चरित्र जो एक धर्मनिष्ठ राजा था, उसे अक्सर खलनायक के रूप में अद्वितीय माना जाता है.

ज्यादातर देशों में वह सीता का अपहरण करने वाले और युद्ध शुरू करने वाले खलनायक के रूप में दागी जाती है, जिसका दुरुपयोग करने वाला एक क्रूर दमनकारी शासक ज्ञान और वरदान है. फिर भी श्रीलंका में रावण की अलग राजा और मानव की छवि है. उन्हें भगवान शिव का एक महान अनुयायी, एक महान विद्वान, एक योग्य शासक और अवन का एक उस्ताद, रावणहत्था के रूप में जाना जाता है. 


वहीं रामायण में स्वर्ण नगरी लंका का अद्भुत वर्णन किया गया है. कहा जाता है कि इसकी भव्यता से लक्ष्मण इतने मुग्ध हो गए थे कि उन्होंने रावण पर विजय प्राप्त करने के बाद लंका पर शासन करने का सुझाव दिया था. तब राम ने लक्ष्मण को कहा था कि अपनी मां और मातृभूमि वास्तव में स्वर्ग से भी बड़ी होती है. उत्तरकाण्ड रामायण में बताया गया है कि आखिर रावण को स्वर्णिम लंका कैसे मिली.


 


कैसे बनी लंका


लंका एक रमणीय शहर था  वहीं सुमाली, माली और मलयवन नामक तीन दानव भाई थे. घोर तपस्या के माध्यम से उन्होंने ब्रह्मा से ये वरदान हासिल कर लिया कि उन्हें कोई भी आसानी से नहीं हरा सकता. उन्होंने देवताओं के वास्तुकार विश्वकर्मा को आदेश दिया कि वे उनके लिए ऐसे विशाल भवन का निर्माण करें जो भगवान शंकर के निवास से भी श्रेष्ठ हो. 


इसके बाद सुवेला द्वीप पर विश्वकर्मा ने लंका के सुनहरे शहर का निर्माण किया. लंका की इस विशाल हवेली के चारों तरफ सोने की दीवार थी और इसका मुख्य द्वार सोने से सजा हुआ था. इसकी चमक से पूरा शहर शानदार लग रहा था. एक युद्ध में भगवान विष्णु ने माली को मारकर सुमाली, मलयवन और उसके राक्षस मित्रों को पाताललोक भेज दिया.



कुबेर का लंका पर कब्जा


लंका जो स्वयं आकाशीय वास्तुविद विश्वकर्मा द्वारा बनाया गया था और इस बीच, ऋषि विश्रवा के पुत्र कुबेर को धन के देवता के रूप में नियुक्त किया गया था. कुबेर लंका से अपना काम करने चाहते थे. लंका का सुनहरा शहर उनके लिए पूरी तरह से उपयुक्त था और इसलिए उनके पिता ने उन्हें वहां जाने के लिए कहा. इस प्रकार कुबेर ने लंका पर कब्जा कर लिया. 


 


रावण और कुबेर थे सौतेले भाई


सुमाली राक्षस की एक बेटी थी जिसका नाम कैकसी था. सुमाली ने अपनी पुत्री का विवाह कुबेर के पिता विश्रवा से किया. विश्रवा और कैकसी ने रावण सहित कई पुत्रों और पुत्रियों को जन्म दिया. अपनी घोर तपस्या के बल पर रावण ने भगवान ब्रह्मा से अत्यधिक शक्तिशाली होने का वरदान प्राप्त कर किया. 
सुमाली ने अपने पोते रावण से राक्षसों के लिए एक बार फिर लंका वापस लेने का आग्रह किया. हालांकि, कुबेर केवल अपने सौतेले भाई रावण के साथ लंका को बांटना चाहते थे जबकि रावण लंका को कुबेर के साथ साझा करने को तैयार नहीं था. रावण लंका पर पूरा कब्जा करना चाहता था.


 


रावण ने जब पूरी तरह से लंका की मांग
जब रावण ने उनसे पूरी तरह से लंका की मांग की, रावण ने कुबेर से सभी धन और भव्यता को छोड़कर लंका से वापस चले जाने को कहा. कुबेर के पिता विश्रवा ने भी कुबेर को रावण की मांगों का पालन करने के लिए कहा. इसके बाद कुबेर ने लंका छोड़ दी और हिमालय में अपना राज्य स्थापित किया. इस प्रकार, रावण ने अपने पिता से विरासत में लंका को प्राप्त किया.


रावण तीनों लोकों को अपने नियंत्रण में करना चाहता और इसके लिए उसने अनेक युद्ध किए. उसने कुबेर के क्षेत्र पर भी हमला किया. कुबेर के साथ हुए युद्ध में रावण ने कुबेर को हराया और उनसे पुष्पक विमान छीन लिया. लंका नगरी लंबे समय तक रावण का गर्व बनी रही. 



टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वेतन तो शिक्षक का कटेगा भले ही वो महिला हो और महिला अवकाश का दिन हो , खंड शिक्षा अधिकारी पर तो जांच जारी है ही ,पर यक्ष प्रश्न आखिर कब तक  

महिला अवकाश के दिन महिलाओ का वेतन काटना तो याद है , पर बीएसए साहब को डीएम साहब के आदेश को स्पष्ट करना याद नहीं - शीतल दहलान , जिला अध्यक्ष , प्राथमिक शिक्षक संघ   सिस्टम ही तो है वरना जिस स्कूल में छः और आठ महीने से कोई शिक्षक नहीं आ रहा वहा साहब लोग जाने की जरूरत नहीं समझते  , पर महिला हूँ चीख चिल्ला ही सकती हूँ , पर हूँ तो निरीह ना - शीतल दहलान  विजय शुक्ल लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया दिल्ली।  खनन ,और शिक्षा दो ही ऐसे माफिया है जो आज सोनभद्र को दीमक की तरह खोखला कर रहे है, वो भी भ्रष्ट और सरपरस्ती में जी रहे अधिकारियो की कृपा से। बहरहाल लोकल न्यूज ऑफ इंडिया और कई समझदार लोग शायद शिक्षक पद की गरिमा को लेकर सोनभद्र में चिंतित नजर आते है।   चाहे म्योरपुर खंड शिक्षा अधिकारी को लेकर बेबाक और स्पष्ट वादी विधायक हरीराम चेरो का बयान हो कि   सहाय बदमाश आदमी है   या फिर ऑडियो में पैसे का आरोप लगाने वाली महिला शिक्षिका का अब भी दबाव में जीना और सिस्टम से लगातार जूझना जो जांच की छुरछुरछुरिया के साथ आरोपी खंड शिक्षा अधिकारी को अपने रसूख और दबाव का खेल घूम घूम कर साबित करने की इजाजत देता हो। 

विद्यालयों में शिक्षकों की उपस्तिथि को लेकर जारी शासनादेश से पैदा हुई उहापोह की स्तिथि साफ़ करे बीएसए - शीतल दहलान , जिला अध्यक्ष , उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ , सोनभद्र 

विद्यालयों में शिक्षकों की उपस्तिथि को लेकर जारी शासनादेश से पैदा हुई उहापोह की स्तिथि साफ़ करे बीएसए - शीतल दहलान  , जिला अध्यक्ष , उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ , सोनभद्र        सूर्यमणि कनौजिया  लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया  सोनभद्र। जनपद में ताजा ताजा जारी एक शासनादेश से शिक्षकों में एक उहापोह की स्तिथि बन गयी है जिसको लेकर उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ की जिला अध्यक्ष शीतल दहलान ने जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी से मांग की है कि  वो इसको स्पष्ट करे।  पूरा मामला  मुख्य सचिव उत्तर प्रदेश के दिनांक 30/08/2020 के शासनादेश संख्य2007/2020/सी.एक्स-3 के गाइड लाइन अनुपालन के क्रम में जिला मैजिस्ट्रेट /जिलाधिकारी सोनभद्र के दिनांक 31/08/2020 के पत्रांक 5728/जे.एनिषेधाज्ञा/ कोविड- 19/एल ओ आर डी /2020 के आदेशानुसार जिसके पैरा 1 मे उल्लिखित निम्न आदेश पर हुआ है।  जिसमे    1. समस्त स्कूल कॉलेज, शैक्षिक एवं कोचिंग संस्थान सामान्य शैक्षिक कार्य हेतु 30 सितम्बर 2020 तक बंद रहेंगे। यद्यपि निम्न गतिविधियों को शुरू करने की अनुमति होगी a. ऑनलाइन शिक्षा हेतु अनुमति जारी रहेगी और इसे प्रोत्साहित

सोनभद्र के बंटी-बबली का खेल अब जनता के सामने

सोनभद्र के बंटी-बबली का खेल अब जनता के सामने यू. पी. पुलिस इन्वेस्टिगेशन व पब्लिक सर्विस कमीशन का अपना फर्जी आई-डी कार्ड बनाकर जॉब लगवाने को लेकर लोगो का लाखो रुपए लूटा   मोहित मणि शुकला लोकल न्यूज़ ऑफ़ इंडिया सोनभद्र । एक ऐसा फर्जी पुलिस जो कि जनपद सोनभद्र का निवासी है और अपने फर्जी आई डी कार्ड के दम पर लोगो को जॉब दिलवाने के नाम पर व आने जाने के लिए टोल टैक्स पर पुलिस का रोब दिखा कर टोल टैक्स न देना फर्जीवारा करता आ रहा है। इस शख्स का नाम संतोष कुमार मिश्रा (पिता-आत्मजः राम ललित मिश्रा, सोनभद्र उत्तर प्रदेश) का रहने वाला है। संतोष कुमार मिश्रा फर्जी पुलिस की आई डी कार्ड बनाकर सोनभद्र में लोगो को गुमराह कर नौकरी के नाम मोटा रकम वसूल करके भागने की तैयारी में है। ये सोनभद्र या कहीं भी किसी भी टोल टैक्स पर पुलिस का फर्जी आई डी कार्ड दिखा कर निकल जाता है। इसका आई डी कार्ड "यू. पी. पुलिस इन्वेस्टिगेशन"* व "पब्लिक सर्विस कमीशन" के नाम पर बना हुआ है और बेखौफ जनपद सोनभद्र में ये घूम रहा है और लोगो को गुमराह कर रहा है। पैसे की लूट में इसकी लवर प्रिंसी भी इसका सा