सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

देश-विदेश लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

आखिर बन्दूक और गुंडों के सहारे मोरारका आर्गेनिक के दफ्तर पर कब्जा करने की जरूरत क्यों आन पडी ?

विजय शुक्ल  लोकल न्यूज ऑफ इंडिया  दिल्ली।   कमल मोरारका जी का व्यक्तित्व और उनकी भारतीय किसानो की आय बढ़ाने के साथ बढ़िया उत्पाद लोगो तक पहुंचाने की ललक के कारण ही उन्होंने शायद मुकेश गुप्ता के अनुभव का सही उपयोग करने के लिए GDC Ltd  में जोड़ा होगा। और जैसा की मोरारका आर्गेनिक ने बाजार में अपनी साख बनायी हैं उसके पीछे हो सकता हैं मुकेश गुप्ता के नेतृत्व में उनकी टीम का योगदान रहा हो। इस बात का सही अंदाजा तो कमल मोरारका जी के बाद सर्वेसर्वा उनकी धर्मपत्नी ही बता सकती हैं।  क्योकि उन्ही के आदेश से दुबारा शायद मुकेश गुप्ता ने राजेंद्र शर्मा को रिपोर्ट करना शुरू किया होगा जो बतौर उनके कमल मोरारका जी ने बिलकुल मना कर रखा था।  बहरहाल यह मामला आतंरिक हैं और इस पर स्वायत्त अधिकार भारती मोरारका जी का और मुकेश गुप्ता का हैं।  पर एक सवाल जो  सबसे बड़ा हैं वो यह कि  इस महामारी में ऐसा क्या मामला बना कि  राजेंद्र शर्मा मय प्रगति मुंद्रा जयपुर गुंडों और बन्दूक के साथ मोरारका ऑर्गेनिक और रिसर्च फाउंडेशन के ऑफिस पर कब्जा करने के लिए जयपुर दफ्तर पर मई में आते हैं और कब्जा कर भी लेते हैं।  तो क्या मुकेश गुप

क्या कमल मोरारका की मौत के बाद उनके GDC LTD साम्राज्य को ठिकाने लगा रहे हैं उनके अपने

क्या (GDC Ltd)जीडीसी लिमिटेड प्रबंधन ने  लालच, भय और प्रतिशोध का इस्तेमाल किया कभी कमल मोरारका के सबसे विश्वासपात्र को  बेदखल करने में  विजय शुक्ल  लोकल न्यूज ऑफ इंडिया  दिल्ली।   पूर्व केंद्रीय मंत्री कमल मोरारका का नाम कौन नहीं जानता।  पर कोई सोच भी नहीं सकता कि  एक इतनी बड़ी हस्ती की मौत गुमनामी की दुनिया में कैसे हो जाती हैं ? ना कोई समाचार ना कोई खबर ना कोई राजनैतिक हलचल और ना ही व्यावसायिक।  सब कुछ ख़ामोशी से मानो निपटाया गया हो।   आखिर ऐसा क्या था कि गैनन डनकरले कंपनी  लिमिटेड के नाम से व्यापार की दुनिया में एक बड़ा नाम इतनी खामोशी से विदा कर दिया गया हो।  बस यही बात हजम नहीं हो सकी. क्योकि मेरी दो तीन बार की मुलाक़ात में कमल मोरारका जी को जितना मैं समझ सका था वो एक इंसान की सोच उसकी राजनीतिक समझ और समाज के प्रति उसकी संवेदनशीलता के लिए काफी था।  एक बेबाक चेहरा , सामाजिक शख़्सियत और किसानो के प्रति सजग रहने वाला इतना बड़ा कद और राजनीतिक रसूख रखने वाला इंसान अपने परिवार और व्यापार के लिए ठन्डे बस्ते में डालने वाला नाम तो नहीं हो सकता।  बस यही वजह थी कि  हमने कोशिश की थोड़ा सा समझने और आ

प्रसिद्ध करियर काउंसलर डॉ प्राची गौड़ बनी आईआईयू की कंट्री डायरेक्टर

एक सफल माँ, उद्यमी, कैरियर काउंसलर, शिक्षाविद्, सार्वजनिक वक्ता, कोच, ब्रांड योजनाकार, सामाजिक कार्यकर्ता, रचनात्मक थिंक टैंक, कलाकार, नेता, कला क्यूरेटर, प्रमाणित पायलट, टैरो कार्ड रीडर और बहुत कुछ। इसके बाद राजस्थान की युवा उद्यमी को अन्तराष्ट्रीय यूनिवर्सिटी ने कंट्री का डायरेक्टर घोषित किया है जो पूरे राजस्थान के लिए गौरव का विषय है। लोकल न्यूज ऑफ इंडिया  फ्रांस, दिल्ली।  आईआई यूनिवर्सिटी दुनिया भर के लोगों के लिए एक बेहतर और उज्जवल भविष्य का निर्माण कर रहा है। जिसका उदभव फ्रांस से हुआ और ऑस्ट्रेलिया से प्रतिपादित होते हुए विश्व के सबसे बड़े गणतंत्र यानी भारत को शोध व सतत विकास की ज़िमेदारी मिली । हम दुनिया भर में एक सौ पंचानवे देशों, सात महाद्वीपों और एक सौ पचास से अधिक वर्चुअल सेंटर्स में फैले हुए हैं। आई आई यू के पांच प्रमुख न्यासियों में भारत के युवा ऐक्टिविस्ट का नाम आना राष्ट्रीय गौरव का विषय है एक भारतीय युवा के शिक्षा के डिजिटल मॉडल की प्रशंसा विश्व स्तर पर हो रही है विश्व की पहली वर्चुअल इंटर्नशिप यूनिवर्सिटी स्थापित करने में भारत के होनहर की चर्चा पूरे विश्व मे हो रही है आई

आक्सीजन आपूर्ति बन्द होने से 22 मरीजों की दर्दनाक मौत,लीकेज के चलते बंद कि गई थी आपूर्ति

  लोकल न्यूज ऑफ इंडिया  महाराष्ट्र। नासिक के एक अस्पताल में आक्सीजन आपूर्ति के बंद हो जाने से 22 मरीजों की मौत हो गई जिसके बाद अस्पताल प्रशासन में हड़कंप मच गया । हादसे की जांच के आदेश दे दिए गए।   प्राप्त जानकारी के अनुसार , नासिक (महाराष्ट्र) के जाकिर हुसैन अस्पताल में वॉल्व खुला रहने की वजह से ऑक्सीजन लीक हो गई थी जिसे बंद करने के लिए अस्पताल में सप्लाई रोक दी गई। उस वक्त अस्पताल में 22से ज्यादा मरीज वेंटिलेटर पर थे, जिन्हें ऑक्सीजन मिलनी बंद हो गई। इनमें 22 मरीजों ने दम तोड़ दिया। ज्ञात रहे कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर के चलते देश में सबसे ज्यादा कोविड मरीज महाराष्ट्र में ही है ।उक्त घटना के बाद उद्धव ठाकरे ने इस हादसे की जांच कराने का आदेश दिया। साथ ही मृतकों के परिजनों को पांच-पांच लाख रुपये देने का एलान किया।

बंगाल में 2 मई के बाद जान की भीख मांगेंगे टीएमसी के गुंडे –योगी

मालदा से योगी का ऐलान, सरकार बनने के 24 घंटे के अंदर बंद होगी गौ तस्‍करी  मालदा के मंच से ममता पर योगी ने बोला जोरदार हमला  बंगाल में दुर्गा पूजा पर रोक लगाई जाती है – योगी  बंगाल में जय श्री राम का नारा लगाना प्रतिबंधित – सीएम  योगी बोले जो राम का द्रोही है उसका भारत और बंगाल में कोई काम नहीं है  बंगाल की सरकार घुसपैठियों के साथ है –सीएम  केंद्र सरकार की योजनाएं बंगाल में लागू नहीं होने दी जा रही हैं  प्रभा पांडेय  लोकल न्यूज ऑफ इंडिया  लखनऊ, मालदा ।मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने मंगलवार को ममता सरकार और टीएमसी पर जम कर हमला बोला। पश्चिम बंगाल में चुनाव घोषित होने के बाद मालदा में भाजपा की पहली बड़ी जनसभा करने पहुंचे योगी ने ममता बनर्जी की सरकार को सीधे निशाने पर लिया। योगी ने कहा कि 2 मई के बाद बंगाल में टीएमसी के गुंडे जान की भीख मांगेंगे। योगी ने मालदा से ऐलान किया कि भाजपा सरकार बनने के 24 घंटे के भीतर बंगाल में गौ हत्‍या बंद होगी। बंगाल में दुर्गा पूजा पर रोक लगाई जाती है। बंगाल में जय श्री राम का नारा लगाना प्रतिबंधित है। योगी ने चेतावनी के लहजे में कहा कि जो राम का द्रोही है उ

यूपी बिहार के बीच चल रहे महिला मैच में राष्ट्रीय ब्राह्मण युवजन सभा ने की शिरकत

रामराज  लोकल न्यूज ऑफ इंडिया  सोनभद्र ।शाहगंज मे जंग बहादुर इंटर कालेज मे खेले जा रहे महिला मैच जो बिहार व यूपी के बीच खेला गया ।  बतौर मुख्य अतिथि के रूप में भाजपा नेत्री व राष्ट्रीय ब्राम्हण युवजन सभा महिला मोर्चा  प्रदेश संगठन महामंत्री  कोमल पांडेय व प्रदेश संगठन प्रचारक  देव पांडेय,जिला महासचिव प्रद्युम्न चौबे  जिलाध्यक्ष विजय शंकर पांडेय  का जाना हुआ। वहां उपस्थित सभी गणमान्य बंधुओं सहित टुर्नामेंट कमेटी को राष्ट्रीय ब्राह्मण युवजन सभा टीम ने हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं दी। 

सेल का तीसरी तिमाही के दौरान हॉट मेटल, क्रूड स्टील और विक्रेय इस्पात का अब तक का सर्वाधिक तिमाही उत्पादन

लोकल न्यूज ऑफ इंडिया  नई दिल्ली .  स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड ( सेल )  ने  31  दिसंबर ,   2020   को समाप्त  हुए  तिमाही के दौरान हॉट मेटल ,  क्रूड स्टील और  विक्रेय इस्पात  का  अब तक का सर्वाधिक  तिमाही उत्पादन  हासिल  किया  है  और  पिछले वित्त वर्ष की इसी अवधि के मुक़ाबले शानदार वृद्धि दर्ज की है। वित्तवर्ष   ’ 21  में उत्पादन   तीसरी तिमाही  ’21 तीसरी तिमाही  ’20 %  वृद्धि नौमाही  ’ 21 दूसरी तिमाही  ’21 पहली तिमाही  ’21 हॉट मेटल  ( लाख टन ) 48.0 43 . 0 12% 116 . 0 41 . 3 27 . 0 क्रूड स्टील  ( लाख टन ) 43.7 40 . 0 9% 106 . 0 38 . 2 25 . 0 विक्रेय इस्पात  ( लाख टन) 41.5 39 . 0 6% 102 . 0 37 . 5 23 . 0 * 10 लाख टन = 1 मिलियन टन इस दौरान  कंपनी  के विक्रय  में भी  बढ़ोत्तरी दर्ज हुई है। कंपनी ने वित्त वर्ष 2020-21 की तीसरी तिमाही के दौरान विक्रय  ( घरेलू और निर्यात मिलाकर )  में ,  पिछले वित्त वर्ष की इसी अवधि के मुक़ाबले  5.6 % वृद्धि दर्ज की है। इसी के साथ  अप्रैल-दिसंबर  2020  की  नौमाही के दौरान कुल विक्रय में भी कंपनी ने वृद्धि दर्ज की है। वित्तवर्ष   ’ 21  में विक्रय   तीसरी तिमा

चैपर वायरस  की दस्तक से वैज्ञानिकों के होश पाख्ता

चैपर वायरस  की दस्तक से वैज्ञानिकों के होश पाख्ता कोरोना वायरस के बाद Chapare virus की दस्‍तक से दहले वैज्ञानिक सोशल काका  लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया  दिल्ली।  कोरोना वायरस के प्रकोप के बाद अब चैपर वायरस की आहट ने सबको चौंका दिया। अमेरिका के रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र (सीडीसी) ने हाल ही में बोलीविया में एक दुर्लभ वायरस की खोज की है। खास बात यह है कि यह वायरस मानव से मानव में हस्‍तांरित होता है। यह वायरस के एक परिवार से संबंधित है, जो इबोला जैसे रक्‍तस्रावी बुखार पैदा कर सकता है। वैज्ञानिकों के अनुसार वर्ष 2019 में बोलीविया की राजधानी ला पाज में दो सं‍क्रमित व्‍यक्तियों के संपर्क में आने से तीन स्वास्थ्य कर्मियों इसकी चपेट में आ गए थे। वर्ष 2003 में पहली बार पता चला था इस वायरस के बारे में  वायरस हेमरेजिक फीवर (CHHF)एक रक्‍तस्रावी बुखार है। वर्ष 2003 में पहली बार बोलीविया में इस वायरस को चिन्हित किया गया। बोलीविया में पहली बार चैपर वायरस से संक्रमित मरीज सामने आए। इसके बाद कई वर्षों तक   इसका दूसरा प्रकोप वर्ष 2019 में संक्रमण की पुष्टि हुई थी। 2004 में ला पाज से 370 मील पूर्व में

जमीन  नहीं अब अंतरिक्ष से वार की फिराक में चीन 

जमीन  नहीं अब अंतरिक्ष से वार की फिराक में चीन  सोशल काका  लोकल न्यूज  इंडिया  हाल ही में एक अमेरिकी थिंक-टैंक की रिपोर्ट आई है जिसमें कहा गया है क‍ि चीन ने भारतीय सैटेलाइट्स पर कई बार हमले किए हैं। यह हमले सैटेलाइट्स नष्‍ट करने के लिए नहीं, बल्कि उसका कंट्रोल हासिल करने के लिए किए गए थे। किसी सैटेलाइट को खत्‍म करने के कई तरीके हैं।आज की टेक्‍नोलॉजी इतनी ऐडवांस्‍ड है कि किसी देश से युद्ध करने के लिए गोला-बारूद के इस्‍तेमाल की कोई जरूरत नहीं। एक कम्‍प्‍यूटर के जरिए किसी भी देश को आसानी से पंगु किया जा सकता है। हर देश संचार, मौसम, शिक्षा और बहुत सारी चीजों के लिए सैटेलाइट्स का इस्‍तेमाल करता है। अंतरिक्ष में तैरते इन सैटेलाइट्स का कंट्रोल हैकर्स अपने हाथ में ले सकते हैं। ऐसा पहले भी हुआ है और आगे भी होता रहेगा। भारत के लिए भी साइबर हमले चिंता की बात हैं। खासतौर से तब जब चीन के साथ सीमा पर बेहद तनावपूर्ण स्थिति है।  आखिर क्या बला है सैटेलाइट्स वारफेयर? आइये देखते हैं : ऐंटी-सैटेलाइट वेपन से भी उड़ाई  हैं  सैटेलाइट भारत के अलावा अमेरिका, रूस और चीन ने ही ASAT मिसाइल के सफल टेस्‍ट किए

करोना से दिल के मरीज विशेष सावधानी बरतें-डा. एस.एस. सिबिया

करोना से दिल के मरीज विशेष सावधानी बरतें-डा. एस.एस. सिबिया विजय शुक्ल  लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया दिल्ली. कोरोना वायरस के कारण पूरी दुनिया डरी हुई है, जहां अबतक लाखों लोगों की मौत हो चुकी है और लाखों लोगों का अभी भी इलाज चल रहा है। ऐसे समय में जब दिल की बीमारियां देश में तेजी से बढ़ रही हैं और मृत्यु का एक प्रमुख कारण बनी हुई हैं। एक अनुमान के अनुसार विश्वस्तर पर, हर साल 20 करोड़ से भी ज्यादा लोगों में सीएडी की पहचान होती है और अबतक 2 करोड़ लोगों की जान जा चुकी है जिसके अनुसार इस बीमारी की मृत्युदर 10 प्रतिशत है। भारत में, हर साल 35 लाख लोगों की मौतों के साथ लगभग 6 करोड़ लोग किसी न किसी प्रकार की दिल की बीमारी से ग्रस्त हैं। दुनिया भर के देशों की तुलना में भारत में दिल के मरीजों की संख्या सबसे ज्यादा है, जो लगातार बढ़ रही है। इन आंकड़ों के अनुसार, हर रोज लगभग 9000 मरीजों की देश में मौत हो जाती है। वर्तमान में, आधुनिक चिकित्सा विशेषज्ञ बाईपास सर्जरी या एंजियोप्लास्टी, दवाइयों और इमरजेंसी ट्रीटमेंट पर ज्यादा जोर देते हैं, जिसके कारण वे हार्ट अटैक और हृदय रोगों के मूल कारण को नहीं समझ पाते हैं। यद

बढ़ते बाघ, घटता उनका ठिकाना 

बाघों की संख्या तो बढ़ी है, लेकिन चिंता का विषय है उनके रिहायशी इलाके का घटना  भारत में बाघों की संख्या बढ़ी है भारत में बाघों की संख्या बढ़ी है। बाघ संरक्षण के इतिहास में ऐसा पहली बार है जब बाघों की संख्या में वृद्धि देखी जा रही है। लोकल न्यूज ऑफ इंडिया  पर्यावरण एवं वन मंत्रालय के अंतर्गत भारतीय वन्यजीव संस्थान  ने देश भर के टाइगर रिज़र्व, राष्ट्रीय उद्यान तथा अभयारण्यों में बाघों की गिनती की। सर्वेक्षण के अनुसार, वर्ष 2018 में भारत में बाघों की संख्‍या बढ़कर 2,967 हो गयी  है। ऐतिहासिक उपलब्धि यह भारत के लिए एक ऐतिहासिक उपलब्धि है क्योंकि देश ने बाघों की संख्या को दोगुना करने के लक्ष्य को चार साल पहले ही प्राप्त कर लिया है। वर्तमान में भारत लगभग 3,000 बाघों के साथ सबसे बड़ा एवं सुरक्षित प्राकृतिक वास बन गया है। इस रिपोर्ट के अनुसार, बाघों की संख्या में 33 प्रतिशत की वृद्धि विभिन्न चक्रों के बीच दर्ज अब तक की सर्वाधिक वृद्धि है। उल्लेखनीय है कि बाघों की संख्या में वर्ष 2006 से वर्ष 2010 तक 21 प्रतिशत तथा वर्ष 2010 से वर्ष 2014 तक 30 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गयी थी। बाघों

बिहार में कहीं आक्रोश में ना बदल जाय आश्वासन 

बिहार में कहीं आक्रोश में ना बदल जाय आश्वासन  जगदीप सिंह सिंधु  प्रगति के भ्रम और विकास के सच में झूलता  बिहार 2020  के अंतिम दौर में  एक बार फिर प्रदेश की 17 वीं विधान सभा के  चुनाव के मुहाने  आ पहुँचा है ! ज्ञान और  नीतियों की भूमि किस अंतर्दवंद  में पिछले 68 सालों से उलझी  है  ये आज भी एक  अन सुलझा सवाल ही है ! आज़ादी के बाद से भारत में  जिस प्रकार दूसरे प्रदेशों ने  आधुनिक ुद्धोयोगीकरण  को अपना कर भौतिक  तरक्की की बिहार उसमे लगभग हर क्षेत्र  में पीछे रह गया !  भारत में क्षेत्रफल की दृष्टि से बिहार वर्तमान में 13 वाँ राज्य है।  राज्य का कुल क्षेत्रफल 94,163 वर्ग किलोमीटर है जिसमें 92,257.51 वर्ग किलोमीटर ग्रामीण क्षेत्र है !  बिहार की अनुमानित जनसंख्या लगभग  10 करोड़ 38 लाख से कुछ ऊपर है ! संशोधित  सूचि के अनुसार बिहार में  7,18, 22 , 450   मतदाता हैं !  बिहार में 38 जिले,  534  खंड , 8406 पंचायतें  45103  गांव  199 कसबे व् शहर हैं.! विधान  सभा की 243 सीटें हैं !  203 सीटें सामान्य वर्ग की अनारक्षित , 38  अ. ज , 2 अ  ज जा  के लिए आरक्षित  सीटें हैं ! बिहार में सबसे पहली विधान सभा 1

ग्लोबल वार्मिंग के दृष्टिगत ग्राम पंचायत देवरी में किया गया पौधरोपण का कार्य 

ग्लोबल वार्मिंग के दृष्टिगत ग्राम पंचायत देवरी में किया गया पौधरोपण का कार्य  जगजीवनराम  लोकल न्यूज आँफ इंडिया  देवरी,सोनभद्र । विकासखंड म्योरपुर के ग्राम पंचायत देवरी में कोटेदार श्रीमती कमला देवी के द्वारा पर्यावरण संरक्षण के निमित्त पौध रोपण किया गया ।आजकल ग्लोबल वार्मिंग अपने उत्कृष्ट सीमा पर पहुंच चुका है। यह समस्या संपूर्ण विश्व की है यदि पौधरोपण, वृक्षारोपण अभियान व्यापक तौर पर न चलाया जाए तो इसका परिणाम भयावह होगी।  वृक्ष धरा के आभूषण हैं करते दूर प्रदूषण हैं।  पर्यावरण का संरक्षण जरूरी है क्योंकि इनके बगैर जिंदगी अधूरी है। पर्यावरण को हम सब मिलकर बचाएं। ज्यादा से ज्यादा वृक्ष  लगाए।  इस मॉडर्न वैश्विक युग में प्रकृति का तीव्र  दोहन किया जा रहा है। इसका प्रभाव जलवायु पर अनायास ही पड़ रहा है ।कहीं बाढ , कहीं सूखा, कहीं भूकंप, ज्वालामुखी का विस्फोट होना प्रायः देखा जा रहा है ।                       ग्लोबल वार्मिंग एक व्यापक विचारधारा है ।इसका अर्थ अभी भी हम में से अधिकांश लोगों को स्पष्ट नहीं है ।ग्लोबल वार्मिंग पृथ्वी के वातावरण के  तापमान में वृद्धि को दर्शाता है पृथ्वी के