सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

आखिर क्या है सहाय साहेब के इलाके में चार शिक्षकों वाले उच्च प्राथमिक विद्यालय कोटा पिंडारी के बंद होने का खेल

आखिर क्या है सहाय साहेब के इलाके में चार शिक्षकों वाले उच्च प्राथमिक विद्यालय कोटा पिंडारी के बंद होने का खेल 


 


क्या सच में गोरखनाथ जी  के लिए सहाय है जरूरी , भले ही हो जाए सोनभद्र के लोगो से शिक्षा की कोसो दूरी 



यह खंड शिक्षा अधिकारी की जिम्मेदारी हैं कि  कोई भी विद्यालय बंद न रहने पाए किसी भी स्तिथि में।  और  बिना उनके आदेश  के कोई भी ऐसा नहीं कर सकता क्योकि कोई ना कोई वैकल्पिक व्यवस्था करना अधिकारियों के हाथ में हैं।  हो सकता हैं उनको  खबर ही ना हो कोटा  पिंडारी के इस स्कूल के बंद होने की ,क्योकिं  मेरे बीमार होने की स्तिथि में भी छुट्टी नामंजूर कर मेरे अधिकारी मुझे स्कूल आने पर बाध्य कर सकते हैं तो बाकी लोगो को किस आधार पर छुट्टिया बांटी जा रही हैं यह बड़ा सवाल तो सिर्फ अधिकारी ही बता सकते हैं।  हो सकता हैं कि  मुझे प्रताड़ित करने का यह नया तरीका हो - शीतल दहलान , जिला अध्यक्ष , प्राथमिक शिक्षक संघ सोनभद्र 



ऐसे किसी भी विद्यालय की शिकायत मिलने पर मैं स्वंय निरीक्षण  करूंगा और जो भी दोषी होगा उस पर दंडात्मक कार्रवाई होगी।  किसी भी  स्थिति  में विद्यालय बंद करने की अनुमति नहीं होती - गोरखनाथ पटेल , जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी , सोनभद्र 


 


पिछले सप्ताह मंडे , ट्यूसडे , वेडनेसडे , थर्सडे तो मैं आया ही हूँ  और अगले  सप्ताह सोमवार से सीएल पर हूँ कल परसो नहीं अब  स्कूल तरसो  खुलेगा। संगीता और रूचि आती हैं पर वो मेडिकल लीव पर हैं ,कोरोना हुआ हैं उनको - हिरीश  शाह ,अध्यापक उच्च प्राथमिक  विद्यालय कोटा पिंडारी 


साहब सप्ताह में दो दिन कुल  मुश्किल से खुलता होगा स्कूल।  यहाँ पढ़ाने थोड़े ही आता हैं कोई - ग्रामीण , कोटा पिंडारी 


विजय शुक्ल (साथी प्रदीप जायसवाल का विशेष सहयोग )


लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया 


सोनभद्र , दिल्ली।  सोनभद्र की माटी से करीब हजार किलोमीटर दूर दिल्ली वाले एलएनआई की जो आजकल  कुछ ज्यादा ही उछल रही हैं क्योकि उसको साफ़ साफ़ दिखता हैं कि  कैसे सोनभद्र के जिला बेसिक  शिक्षा अधिकारी आदरणीय गोरखनाथ जी के परमप्रिय सहाय साहब ने सरकार की शिक्षा व्यवस्था को नेस्तानाबूद करने का ठेका ले रखा है बिलकुल अवैध खनन की भाँति, जहां जांच तो होती है पर ना तो डीएम साहब के बस में हैं कुछ, ना खनन अधिकारी के। 



बहरहाल आज मुद्दा थोड़ा आसान सा हैं क्योकि आठ आठ महीने गायब रहने वाले गुरूजी श्रुतिदेव तिवारी साहब का तो हम कुछ उखाड़ नहीं पाए और ना ही ख़ाक फर्क पड़ता हैं कुछ गोरखनाथ जी पर और ना गवर्नर तक पहुँच रखने वाले म्योरपुर खंड शिक्षा अधिकारी सहाय साहब के ऊपर।  चाहे कोई आये या ना आये माल आना चाहिए।  भले ही स्कूल की वर्दी और कार्यालय मरम्मत के खजाने से जिसका छुटपुट ही सही प्रसाद सबमे बंटता जरूर होगा, पर ऐसे कयास लगाने का कोई मतलब नहीं हैं।  क्योकि यह जिला सोनभद्र हैं और उस पर यह म्योरपुर का इलाका, जहां बीबी बच्चो सहित गुरूजी लोग भी स्कूली बच्चो का मोजा जूता पहनते हो । 



विधायक चेरो साहब वैसे तो दिल के दबंग आदमी हैं पर शायद उनकी भी इच्छा होगी की आदिवासियों के बच्चे अनपढ़ गंवार ही रहे वरना मजाल कि अनुप्रिया पटेल के अपना दल का विधायक जो सर्वहारो के उत्थान के प्रण के साथ सत्ता में हो उसके नाक के नीचे सहाय साहब का यह खेल जारी रहे।  


दुःख तो इस बात का हैं कि  ईमानदार छवि वाले डीएम साहब भी मजबूर हैं ऐसी व्यवस्था  को निरंकुश चलते देखने के लिए।  बहरहाल चलिए सहाय साहब को भी क्या कहा जाय वो वैसे भी सीता जैसा पवित्र चरित्र रखते हैं और गोरखनाथ जी कोई राम तो हैं नहीं जो लांछन लगते ही सीता जी को तड़ीपार कर देंगे। 



एक छोटा सा सवाल हैं कि  ऐसे कौन से अधिकारी हैं जिन्होंने कुल चार कर्मचारियों वाले उच्च प्राथमिक विद्यालय कोटा पिंडारी को बंद रहने की अनुमति दी होगी वो भी तब जब कोई सरकारी अवकाश  न हो।  जाहिर सी बात हैं कि  इस पर भी सहाय साहब का मेडिकल लीव  बोले तो अवकाश के सारे हथकंडे काम करेंगे। पर शायद जितनी जानकारी सरकारी कार्यालयों को लेकर मुझे हैं उस हिसाब से किसी भी हालात में स्कूल बंद करना अपराध की ही श्रेणी में आएगा। खैर जांच का खेल भी होता हैं वो भी यहाँ खेला जाएगा और शायद इसका हक़ शिक्षा विभाग को हैं ही।  क्योकि बच्चो की पढ़ाई लिखाई नाम मात्र के लिए जरूरी हैं और अगर कोई इनके बारे में बोल दे तो लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया से मिले होने का ठीकरा फोड़कर उसको यह कोरोना में भी रगड़ देंगे।  


एक तरफ जहां योगी जी का मिशन है उत्तर प्रदेश को एक नए मुकाम पर ले जाना वही सोनभद्र में वो भी म्योरपुर में खंड शिक्षा अधिकारी का मिशन हैं स्कूलों को बंद करवा अवकाश का तीर चलाकर शिक्षा को नयी उचाईयो पर ले जाना।  गनीमत हैं कि जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी महोदय ने फ़ोन  पर जांच और व्यक्तिगत विजिट करने की बात के साथ साथ कार्रवाई करने का आश्वासन भी दिया। पर किस पर सप्ताह में कुछ दिन स्कूल खोलने वाले गुरूजी शाह  साहब पर या कई ऐसे स्कूलों को बंद कर अवकाश पर घर बैठकर मलाई काटने वाले गुरूजी लोगो को खुल्लम खुल्ला आजादी देने वाले सहाय साहब पर। 


क्यों ना ऐसे स्कूलों पर गैर हाजिर रहने वाले गुरूजी लोगो के वेतन के बराबर का हिस्सा सहाय साहब के वेतन से उड़ा दिया जाय ?


क्यों  ना इसमें स्कूल प्रभारियों के साथ साथ खंड शिक्षा अधिकारी की भी जिम्मेदारी तय की जाय ?


क्या शिक्षा विभाग  गैरहाजिर रहने वाले गुरूजी लोगो का डाटा सार्वजानिक कर सकता है जो सरकारी पैसे पर मौज उड़ा रहे हैं और गरीब आदिवासी बच्चो को अशिक्षा की गर्त में झोक रहे हैं ?


बहरहाल आपको बता दें कि  सीधी सपाट बात रखने वाले व्यक्तियों को सहाय साहब यहाँ तक कि  गोरखनाथ जी जैसे सुलझे हुए व्यक्ति बीमारी में स्कूल में आने के लिए बाध्य करते हैं, उनकी छुट्टियों को नामंजूर करते हुए जबकि उसी और आस पास के स्कूल से कई शिक्षा मित्र , अनुदेशक और गुरूजी लोग सदियों से गायब हैं।  कोटा पिंडारी का यह उच्च प्राथमिक विद्यालय तो एक  नमूना मात्र हैं। ऐसे कितने स्कूल और गुरूजी मंत्री मिनिस्टर की बेटी या बेटे  होने का फायदा  उठा रहे होंगे यह तो  आने वाला वक़्त ही बताएगा वो भी तब जब कोई शिकायत करेगा और वो जांच के खेल में सही पाया जाएगा । 


 


टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वेतन तो शिक्षक का कटेगा भले ही वो महिला हो और महिला अवकाश का दिन हो , खंड शिक्षा अधिकारी पर तो जांच जारी है ही ,पर यक्ष प्रश्न आखिर कब तक  

महिला अवकाश के दिन महिलाओ का वेतन काटना तो याद है , पर बीएसए साहब को डीएम साहब के आदेश को स्पष्ट करना याद नहीं - शीतल दहलान , जिला अध्यक्ष , प्राथमिक शिक्षक संघ   सिस्टम ही तो है वरना जिस स्कूल में छः और आठ महीने से कोई शिक्षक नहीं आ रहा वहा साहब लोग जाने की जरूरत नहीं समझते  , पर महिला हूँ चीख चिल्ला ही सकती हूँ , पर हूँ तो निरीह ना - शीतल दहलान  विजय शुक्ल लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया दिल्ली।  खनन ,और शिक्षा दो ही ऐसे माफिया है जो आज सोनभद्र को दीमक की तरह खोखला कर रहे है, वो भी भ्रष्ट और सरपरस्ती में जी रहे अधिकारियो की कृपा से। बहरहाल लोकल न्यूज ऑफ इंडिया और कई समझदार लोग शायद शिक्षक पद की गरिमा को लेकर सोनभद्र में चिंतित नजर आते है।   चाहे म्योरपुर खंड शिक्षा अधिकारी को लेकर बेबाक और स्पष्ट वादी विधायक हरीराम चेरो का बयान हो कि   सहाय बदमाश आदमी है   या फिर ऑडियो में पैसे का आरोप लगाने वाली महिला शिक्षिका का अब भी दबाव में जीना और सिस्टम से लगातार जूझना जो जांच की छुरछुरछुरिया के साथ आरोपी खंड शिक्षा अधिकारी को अपने रसूख और दबाव का खेल घूम घूम कर साबित करने की इजाजत देता हो। 

विद्यालयों में शिक्षकों की उपस्तिथि को लेकर जारी शासनादेश से पैदा हुई उहापोह की स्तिथि साफ़ करे बीएसए - शीतल दहलान , जिला अध्यक्ष , उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ , सोनभद्र 

विद्यालयों में शिक्षकों की उपस्तिथि को लेकर जारी शासनादेश से पैदा हुई उहापोह की स्तिथि साफ़ करे बीएसए - शीतल दहलान  , जिला अध्यक्ष , उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ , सोनभद्र        सूर्यमणि कनौजिया  लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया  सोनभद्र। जनपद में ताजा ताजा जारी एक शासनादेश से शिक्षकों में एक उहापोह की स्तिथि बन गयी है जिसको लेकर उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ की जिला अध्यक्ष शीतल दहलान ने जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी से मांग की है कि  वो इसको स्पष्ट करे।  पूरा मामला  मुख्य सचिव उत्तर प्रदेश के दिनांक 30/08/2020 के शासनादेश संख्य2007/2020/सी.एक्स-3 के गाइड लाइन अनुपालन के क्रम में जिला मैजिस्ट्रेट /जिलाधिकारी सोनभद्र के दिनांक 31/08/2020 के पत्रांक 5728/जे.एनिषेधाज्ञा/ कोविड- 19/एल ओ आर डी /2020 के आदेशानुसार जिसके पैरा 1 मे उल्लिखित निम्न आदेश पर हुआ है।  जिसमे    1. समस्त स्कूल कॉलेज, शैक्षिक एवं कोचिंग संस्थान सामान्य शैक्षिक कार्य हेतु 30 सितम्बर 2020 तक बंद रहेंगे। यद्यपि निम्न गतिविधियों को शुरू करने की अनुमति होगी a. ऑनलाइन शिक्षा हेतु अनुमति जारी रहेगी और इसे प्रोत्साहित

सोनभद्र के बंटी-बबली का खेल अब जनता के सामने

सोनभद्र के बंटी-बबली का खेल अब जनता के सामने यू. पी. पुलिस इन्वेस्टिगेशन व पब्लिक सर्विस कमीशन का अपना फर्जी आई-डी कार्ड बनाकर जॉब लगवाने को लेकर लोगो का लाखो रुपए लूटा   मोहित मणि शुकला लोकल न्यूज़ ऑफ़ इंडिया सोनभद्र । एक ऐसा फर्जी पुलिस जो कि जनपद सोनभद्र का निवासी है और अपने फर्जी आई डी कार्ड के दम पर लोगो को जॉब दिलवाने के नाम पर व आने जाने के लिए टोल टैक्स पर पुलिस का रोब दिखा कर टोल टैक्स न देना फर्जीवारा करता आ रहा है। इस शख्स का नाम संतोष कुमार मिश्रा (पिता-आत्मजः राम ललित मिश्रा, सोनभद्र उत्तर प्रदेश) का रहने वाला है। संतोष कुमार मिश्रा फर्जी पुलिस की आई डी कार्ड बनाकर सोनभद्र में लोगो को गुमराह कर नौकरी के नाम मोटा रकम वसूल करके भागने की तैयारी में है। ये सोनभद्र या कहीं भी किसी भी टोल टैक्स पर पुलिस का फर्जी आई डी कार्ड दिखा कर निकल जाता है। इसका आई डी कार्ड "यू. पी. पुलिस इन्वेस्टिगेशन"* व "पब्लिक सर्विस कमीशन" के नाम पर बना हुआ है और बेखौफ जनपद सोनभद्र में ये घूम रहा है और लोगो को गुमराह कर रहा है। पैसे की लूट में इसकी लवर प्रिंसी भी इसका सा