सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

स्टेज 4 क्रोनिक किडनी रोग से पीड़ित 40 वर्षीय मीनाक्षी कंबोज ने 2017 को कैडेवर ऑर्गन डोनेशन के माध्यम से सफलतापूर्वक अपना दूसरा किडनी ट्रांसप्लांट करवाया|

नई दिल्ली, स्टेज 4 क्रोनिक किडनी रोग से पीड़ित 40 वर्षीय मीनाक्षी कंबोज ने 2017 को कैडेवर ऑर्गन डोनेशन के माध्यम से सफलतापूर्वक अपना दूसरा किडनी ट्रांसप्लांट करवाया और मैक्स अस्पताल शालीमार बाग में उन्हें नया जीवन प्राप्त हुआ। जब मैक्स अस्पताल मरीज के लिए डोनर की तलाश कर रहा था, तभी एक मरीज, जिसे 2017 को ब्रेन डेड घोषित किया गया था के परिवार को ऑर्गन डोनेशन की संभावना के बारे में काउंसलिंग दी गई और बताया कि इस तरह वे कितनों की जान बचा सकते हैं। परिवार ने दया और उदारता के साथ कॉर्निया, किडनी और लीवर के अंगों को दान करने का फैसला किया, जिसके कारण न केवल मीनाक्षी को नया जीवन मिला बल्कि 5 अन्य लोगों की जान भी बचाई गई।
अंग दान विशेष रूप से उत्तरी भारत में एक बड़ा मुद्दा बना हुआ है, जो कई दृष्टिकोणों और मिथकों से ग्रस्त है। यहां दानदाताओं की सख्त कमी है। दाता के परिवार के इस नेक काम से लोगों की जान बचाने में मदद मिलती है।
कंबोज के जीवन ने एक घातक मोड़ लिया जब 1999 में किया गया उनका पहला किडनी ट्रांसप्लान्टट 2014 में विफल हो गया और 2015 में उन्हें डायलिसिस प्रक्रिया से गुजरना पड़ा। पहले किडनी प्रत्यारोपण में विफलता के बाद, जहाँ डोनर उनकी माँ थीं, उन्होंने अपनी सारी आशाएँ खो दीं। उनके परिवार में कोई अन्य उपयुक्त दाता नहीं था। उन्होंने 16 जनवरी, 2016 को कैडवर प्रत्यारोपण के लिए मैक्स शालीमार बाग में अपना रजिस्ट्रेशन कराया।
नई दिल्ली स्थित शालीमार बाग के मैक्स सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल में यूरोलॉजी एंड रीनल ट्रांसप्लांटेशन के प्रमुख सलाहकार, डॉ. वहीद जमा ने अंग दान पर बात करते कहा कि, “जब सेवर डोनर का मामला हमारे पास आया, जिसे ब्रेन डेड घोषित किया गया था, तो अंग दान की अंतिम प्रक्रिया को शुरु किया गया। पूरे निदान के बाद, मरीज की किडनी मीनाक्षी के प्रत्यारोपण के लिए सबसे उपयुक्त थीं। मीनाक्षी न केवल स्टेज 4 क्रोनिक किडनी रोग से पीड़ित थीं, बल्कि उच्च रक्तचाप, एनीमिया और ईएसआरडी की समस्याओं से भी ग्रसित थीं। इसलिए, कार्डियक मूल्यांकन, रक्त परीक्षण सहित कैडेवर डोनर के साथ एचएलए का गहन परीक्षण किया गया, जो नकारात्मक था। आईवी तरल पदार्थ, आईवी एंटीबायोटिक्स और अन्य सहायक दवाओं और हेमोडायलिसिस के साथ उपचार शुरू किया गया। एनेस्थीसिया क्लीयरेंस के बाद उन्हें कैडेवर ट्रांसप्लांट सर्जरी के लिए ले जाया गया और एक घंटे में किडनी प्रत्यारोपण पूरा किया गया। उपचार के बाद रोगी को जल्द ही अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। दो से अधिक सालों के प्रत्यारोपण के बाद से वे वर्तमान में अच्छा कर रही हैं और उन्होंने अपना जीवन भी सामान्य रूप से शुरू कर दिया है।”
यूरोलॉजी विभाग के सलाहकार, डॉ. रजत अरोड़ा ने बताया कि, “'ट्रांसप्लान्ट इम्यूनोलॉजी, सर्जिकल मैनेजमेंट और दाता रखरखाव के क्षेत्र में चिकित्सा प्रगति ने मृतक दाताओं की मदद से महत्वपूर्ण अंगों के प्रत्यारोपण को संभव और प्रभावी बनाया है। अभी इस क्षेत्र में लंबा सफल तैयार करना है, लेकिन कम से कम, इस तरह के दान समाज के लिए एक अच्छा उदाहरण पेश करते हैं। हम अतीत से अपने सभी दानदाताओं की प्रशंसा करना चाहते हैं और साथ ही साथ उन परिवारों के भी आभारी हैं, जो किसी अपने को खोने के इतने बड़े नुकसान के बाद भी किसी और की जिंदगी को बचाने का फैसला कर पाते हैं। यह वाकई बहुत मुश्किल और प्रशंसाजनक बात है।“


 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बेकार नहीं जाएगा ग्रामीणों का अंगूठा, होगा मान्य मतदान - एडीएम सोनभद्र

अगर   पहचान पत्र की पुष्टि के बाद अगूंठा सही से दबा कर मतपत्रों पर लगाया गया होगा तो वो मान्य होगा। और जनपद के सभी मतगणना केन्द्रो पर मान्य होगा - एडीएम सोनभद्र  विजय शुक्ल  लोकल न्यूज ऑफ इंडिया  सोनभद्र , दिल्ली।   हजार किलोमीटर दूर बैठे बैठे मुझे मेरे टोली ने खबर दी की इस बार चुनाव में ज्यादातर भोले भाले आदिवासी अगूंठा ठोककर चले आये हैं और ना जाने कितने प्रधान , पंचायत सदस्य , जिला पंचायत सदस्य का भविष्य इन अंगूठो  के सहारे निपट जाय अगर यह सब अमान्य करार दिए जाय।  सोनभद्र हैं सब कुछ जायज हैं पर जब अंगूठा लगाने और उसकी वजह से उदास आदिवासी मतदाताओं का दुःख पता चला जिन्होंने वाकई में यह आखिरी रात को और ज्यादा दर्द भरी बनाने के लिए काफी था खासकर उन उम्मीदवारों के लिए जिनको इन अंगूठे के मालिकानों से बस इस घड़ी के लिए उम्मीद थी क्योकि इन आदिवासी अंगूठा धारको का मालिकाना हक़ कल के बाद से फिर पांच साल के लिए इन्ही प्रधान जी और पंचायत जिला पंचायत सदस्य लोगो की कृपा पर निर्भर करेगा और उनका अंगूठा तो आपको पता हैं कि  कब लगेगा ? इसी उंहापोह की स्तिथि को सुलझाने का काम करने के लिए हमने डीएम सोनभद्र

अड़ीबाज़ एवं ब्लैकमेलर फैसल अपने आप को पत्रकार एवं FMSCI का मेंबर बताने वाला निकला फर्जी

  लोकल न्यूज ऑफ इंडिया  भोपाल।  राजधानी भोपाल में एक ऐसा मामला सामने आया है जहां फैसल मोहम्मद खान नाम का शातिर व्यक्ति अपने आपको फेडरेशन ऑफ मोटर स्पोर्ट्स क्लब ऑफ इंडिया FMSCI का सदस्य अपने आप को पत्रकार बता रहा था, जिसको लेकर वह लोगों के साथ फोटोग्राफी के नाम पर ब्लैकमेलिंग का काम करता है कई मोटर स्पोर्ट्स इवेंटो की वीडियो बनाकर लोगों को ठगने का काम भी इस शातिर द्वारा किया जा रहा था। इसी को लेकर जब एफएमएससीआई के पदाधिकारियों से इस विषय पर बात करी गई तो उन्होंने बताया कि इस नाम का हमारा कोई भी सदस्य भोपाल या आस पास में नहीं हैं, एफएमएससीआई के वरिष्ठ अधिकारियों ने बताया कि यह ब्लैकमेलिंग कर लोगों से मोटर स्पोर्ट्स इवेंट के नाम पर पैसे हेटने का काम करता है। जब कोई ऑर्गेनाइजर मोटर स्पोर्ट्स इवेंट करते हैं तो यह वहां पर कई अन्य साथियों के साथ मिलकर अपनी धोस जमाकर, फोटोग्राफी के काम को लेकर जबरन उन ऑर्गनाइजर पर दबाव बनाता है एवं ब्लैकमेलिंग कर उनसे पैसे हेटने का काम इसके द्वारा किया जाता है।

योगी जी आपका यह बेसिक शिक्षा मंत्री ना तो तीन में न तेरह में ......

शिक्षक नहीं बंधुआ मजदूर और दास प्रथा वाली फीलिंग आती है, अँग्रेजो की सरकार शायद ऐसे ही रही होगी। अब हम तो खतरे में हैं ही लगता हैं अब सरकार भी खतरे में हैं  - शीतल दहलान , जिला अध्यक्ष , महिला शिक्षक संघ , सोनभद्र  1671 शिक्षकों की मौत का आकड़ा चुनाव के दौरान का हैं।  बड़ा अजब गजब हैं यह मंत्री के तीन मौत का आकड़ा। यह शर्म की बात हैं।  मौत पर मजाक करना दुखद हैं. बाकी डिपार्टमेंट के लोगो की तो वैक्सीनेशन तक करवाई गयी पर शिक्षकों को तो बस मौत के बाजार में उतार दिया गया  - इकरार हुसैन, ब्लॉक अध्यक्ष , म्योरपुर, सोनभद्र , प्राथमिक शिक्षक संघ  विजय शुक्ल  लोकल न्यूज ऑफ इंडिया  दिल्ली। मीडिया से दो गज की सोशल डिस्टेंसिंग बनाकर रखने की हिदायत देने वाले रामराज में सब कुछ ठीक ठाक हैं क्योंकि अब गंगा में गश्त लगाती पुलिस हैं लाशो को बेवजह वहाँ भटकने से रोकने में।  क्योकि लड़ाई तो सारी  मुर्दा लोगो को लेकर ही हैं यूपी में।  तो अब यूपी के बेसिक शिक्षा मंत्री जिन्होंने लाशो की गणित में विशारद की होगी शायद का विवादित बयान उसी की एक बानगी हैं। जिनके हिसाब से चुनाव में कुल शिक्षकों में सिर्फ तीन की मौत ह