सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

बुलेट से बैलेट का बाज़ी

बुलेट से बैलेट का बाज़ी 

 

चुनावी जंग रोज नए नए पैतरे बदलती रहती है और सत्ता में बैठी सरकार इसका अपने अपने हिसाब से इस्तेमाल करने में कभी नहीं चूकती।  भाजपाई चाणक्य माने जाने वाले गृहमंत्री अमित शाह का लगातार छत्तीसगढ़ , मध्य प्रदेश , छत्तीसगढ़ और महाराष्ट्र और फिर झारखण्ड खोना मानो यह मान लिया गया कि  अगर सरकार को वापसी करनी है तो वैसे ही होगी जैसे पहले करती थी ना कोई विकास ना कोई और मुद्दा।  बस एक ही चाल जो कि  नायाब है वो है बुलेट के रास्ते।  सवाल दिल्ली पुलिस पर उठाने का कोई फायदा नहीं क्योकि अब उसका कोई भी जमीर काम नहीं करता दिखता यह लाइन हमारी दिल्ली के पुलिस के जवानो को लेकर नहीं है बल्कि उस पुलिसिया व्यवस्था को लेकर है जो अपनी कर्तव्य निष्ठा की शपथ भूल गयी है।  बहरहाल यह सब एक प्रायोजित ड्रामा है चुनावी रणनीति वो भी देश के सम्मान और दिल्ली की सुरक्षा को ताक  पर रखते हुए जब एक सिरफिरा जय श्री राम का नारा लगाते हुए आज गोडसे का रूप लेलेता है और गोलिया चलाता है और पुलिस तमाशबीन बन देखती रहती है जो उसका अक्सर का काम है पर यह सब एक प्लांनिंग के तहत है अनुराग ठाकुर का गोली मारो सालो को गद्दारो को का जो चर्चित नारा है वो सरकार का सीधा सन्देश था समाज को समझने का और यह जो बुलेट के सहारे बैलेट वाला मैनेजमेंट है यह एक अच्छी शुरुवात नहीं है।  पहले मंडल कमंडल पर देश सुलगता रहा और अर्थव्यवस्था से लेकर सारा सत्यानाश हुआ और आज हम अपनी एक के बाद एक सरकारी संस्थाए बेचने में लगे है शाहीन बाग़ और नागरिकता के आड़ में।  और पूरा देश अभी सिर्फ यह बहस कर रहा है की एक मीडिया हारने की एंट्री नहीं हुई और दूसरे ने कर ली।  चुनाव के लिए हिन्दू मुस्लिम का यह ड्रामा पढ़ा लिखा असमझ तो रहा है पर जब उनके बीच में चार एजेंट नागरिकता को हिंदुत्व में बदलने की अपनी तैयार रणनीति से हमला करते है तो वो भी सिर्फ इसको गांधी जी दो चश्मों के अंदर से सिर्फ हिन्दू मुस्लिम में ही देखता है।  पर आज जो कुछ भी हुआ यह अमित शाह और मोदी  जी की विफलता है।  केजरीवाल को हराना है तो मुद्दों से हराईये काम करके हराईये ऐसे बुलेट के सहारे तो हराना नहीं इसको किडनैप करना बोलेगे यह मैं नहीं आज हर एक आम नागरिक बोल रहा है और आप सब पाठक यह जान ले कि  यह आतंक अब तेज होगा और इसको यह नेता खूब भड़काएंगे और आने वाले समय में हो सकता है  चुनाव से पहले शाहीन बाग़ के लोगो को लहूलुहान करते हुए सबको खदेड़ दिया जाय और जिस पर ताल ठोककर वोट की राजनीती कर ली जाएगी तब यह चुनाव आयोग शायद  बोले या करे।  बहरहाल चुनाव सही और साफ़ सुथरे होने के लिए यह बैलेट का रास्ता तो छोड़ना पडेगा। 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

टैंकर ने बाइक सवार को मारी सामने से टक्कर बाइक चालक की मौत

प्रदीप कुमार जायसवाल लोकल न्यूज आँफ इंडिया  बीजपुर,सोनभद्र।शुक्रवार की सुबह अमन केसरी पुत्र शिव लोचन केसरी निवासी चेतवा किसी कार्य से नेमना जा रहा था कि सामने से आ रही टैंकर ने मोटर साइकिल को मारी टक्कर घर वालों ने तत्काल लेकर गए अस्पताल जहां डॉक्टरों ने किया मृत्यु घोषित, टैंकर मौके से फरार।

नायाब सितारा"

कारनामों की भब्य चमक के साथ एक बार फिर सुर्खियों में छाया 'म्योरपुर' भब्य व्यवस्था से शिक्षक समाज हुआ स्तब्ध, 'म्योरपुर के गौरव'का हुआ स्वागत  लग गया मजमा, बढ गया रुतबा... सिर गर्व से हुआ ऊचा, आशा की किरण और व्यवस्था बचाने की दिव्य मुहिम के बीच  निखरने लगी "आभा" मेधा की चमक, शिक्षक सतर्कता के साथ कर्मयोगी का हुआ जय- जयकार!  चमकते सूरज की तरह परीक्षाओं की तपिश में कुन्दन बनकर निकले 'नये खण्ड शिक्षा अधिकारी' निष्ठा फैलाने की ललक, परम्परा,सिद्धांत त्याग,एवं समर्पण के बीच बेसिक शिक्षा म्योरपुर के गौरव बने "विश्वजीत" "साधना द्विवेदी" लोकल न्यूज़ आफ इन्डिया म्योरपुर, सोनभद्र। परिन्दों को मन्ज़िल मिलेगी यकीनन ए फैले हुए उनके पख बोलते है वे लोग रहते हैं खामोश अक्सर जमाने में जिनके हुनर बोलते है...  जैसे मेधा किसी की मोहताज नहीं होती... बड़े सपने कुछ यूँ ही नहीं पूरे होते उसी तरह कुशल प्रशासक का तमगा यूँ ही नहीं मिलता उसके लिए व्यक्तित्व एवं कृतित्व से विभाग के विविध रगों को सयोजने का काम करना पड़ता है, कुछ इन्ही पक्तियो से प्रेरित गजब के रस

आखिर देश की सबसे बड़ी क्रेडिट कोआपरेटिव सोसाइटी आदर्श क्रेडिट कोआपरेटिव सोसाइटी लिमिटेड के लाखो निवेशकों को रोजगार और जीविका देने की गति पर पूर्ण विराम क्यों ?

  (फाइल फोटो) विजय शुक्ल  लोकल न्यूज ऑफ इंडिया  दिल्ली।  अखबारों की सुर्खियों पर नजर डाले तो आपको अंदाजा लगेगा कि  वास्तविकता में लगभग दो दशकों तक लाखो  निवेशकों के भरोसे पर खरी साबित होने वाली आदर्श क्रेडिट कोआपरेटिव सोसाइटी  लिमिटेड पर आखिर  जांच एजेंसियों ने  प्रवर्तन निदेशालय ने ऐसी कौन सी गड़बड़ी पाई कि इस पर पूर्ण विराम लगाने की ओर उसकी सभी सम्पत्तिया और बैंकिंग सीज करके अब तक यानी लगभग चार साल से एक परिसमापक नियुक्ति तक करवाने में अक्षम रही।  सवाल अगर गड़बड़ी का हैं तो कार्रवाई सुनिश्चित करना ही ऐसी एजेंसियों का धर्म हैं और स्वतः संज्ञान लेकर भी यह अपनी कार्रवाई कर सकती हैं यह भी इनके अधिकार क्षेत्र का यही मामला हैं पर सरकार और सियासी गलियारों के अलावा समाज में रोजगार , बचत और लोगो की जीविका का साधन बनी देश दुनिया में क्रेडिट कोआपरेटिव क्षेत्र में दो दशकों तक बिना किसी विवाद या शिकायतों के चलने वाली इस कोआपरेटिव सोसाइटी पर क्या वाकई लें दें की गड़बड़ी या मनी लॉन्ड्रिंग के कारण ताला लटका या इसमें कोई राजनीतिक रंजिश जैसा भी कोई एंगेल हैं ? यह तो शायद जांच करने के बाद संबंधित विभागीय या