सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

कही आतंकवादी पर बेटा भारी ना पड़  जाय

कही आतंकवादी पर बेटा भारी ना पड़  जाय 

 

वाह री दुनिया क्या क्या खेल दिखा रही है दिल्ली वालो को जिस दिल्ली में गांधी की ह्त्या हुई और जिस दिन हुई उसी दिन एक युवक जय श्री राम और दिल्ली पुलिस जिंदाबाद के नारे के साथ बन्दूक लहराता हुआ जामिया के छात्रों को धमकाता है और यह सब उस बयान के ठीक बाद का कार्यक्रम है जिसमे एक केंद्रीय मंत्री ने गोली मारो का फरमान जारी किया था जो आज फेसबुक पर एक बब्बर शेर की तरह दिखाया जा रहा है और दूसरे ने केजरीवाल को आतंकवादी कह डाला।  हालांकि आतंकवादी वाला मुद्दा तो भाजपा के गले की फांस बनता नजर आ रहा है ठीक वैसे ही जैसा पिछले चुनाव में गोत्र वाला बयान था।  पर कुल मिलाकर केजरीवाल की टीम जिस तरह से इमोशनल प्ले कार्ड खेल रही है और भाजपा पूरे उन्माद पर है हिन्दू मुस्लिम का मुद्दा बनाने को लगता है दिल्ली की जनता बिलकुल बदलाव चाहती हो भाजपा के हिसाब से पर ऐसा है क्या ? यह सवाल भी बड़ा मजेदार है वोटर कह रहे है कि  कांग्रेस का खाता तो इस बार खोलना चाहिए भाजपा के सर्वे तो केजरीवाल को तीन और पांच सीटों पर निपटा रहे है पर लगता है सब कुछ उलटा पुल्टा बोले तो केजरीवाल ने बेटा हूँ तो वोट देना आतंकवादी हूँ तो मत देना बोलकर जनता के उस धड़े को तो सम्हाल ही लिया है जिसके कंफ्यूज होने के चान्सेस ज्यादा थे और जीत हार का मसला भी वही तय करते रहे है चुनावों में हाँ दुसरी और इस तरह के नफरत के बाजरा से सियासी जीत हासिल करने की भाजपा की कोशिश उलटी पड़ती दिख रही है जो मुस्लिम वोटर कांग्रेस की तरफ जाने की भी सोच रहा होगा वो अब लौट आएगा और अगर ऐसा हुआ तो आम आदमी पार्टी पचास पार कर जाय तो भाजपा के लिए ताज्जुब नहीं होना चाहिए पर इन सबके बीच सबसे बड़ा मुद्दा है कि  अब चुनाव बिजली पानी से दूर आतंकवादी और गोली मारो सालो पर उतर आये है क्या लोगो को नौकरी और बेहतर आय के विकल्प कोई मुद्दे है ही नहीं जबकि दिल्ली बेरोजगारों का गढ़  बनती जा रही है क्योकि यहाँ के लोग किराए के खर्चे से पेट पालने के इतने आदि हो गए है कि  पढ़ाई लिखाई  किनारे लगाते जा रहे है और यह संख्या बढ़ती  जा रही है दिन महीनो और सालो में। अब बस देखना यह है कि  इन ताजा बयानबाजी और गोलीबाजी के कांड से  किधर को घूमता है सरकार बनना बिगड़ना अलग है पर चुनाव आयोग क्यों शान्ति से ऐसे मुद्दे को आगे बढ़ने देता है क्योकि बैन लगाने में देरी के अलावा यह बयान तो अब तक दिल्ली के बच्चे बच्चे के पास जा चुके है और अगर केजरीवाल इससे अपने माँ बाप को दुखी बता कर लाखो माँ बाप का समर्थन ले जाए तो कोई बड़ी बात नहीं। 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

टैंकर ने बाइक सवार को मारी सामने से टक्कर बाइक चालक की मौत

प्रदीप कुमार जायसवाल लोकल न्यूज आँफ इंडिया  बीजपुर,सोनभद्र।शुक्रवार की सुबह अमन केसरी पुत्र शिव लोचन केसरी निवासी चेतवा किसी कार्य से नेमना जा रहा था कि सामने से आ रही टैंकर ने मोटर साइकिल को मारी टक्कर घर वालों ने तत्काल लेकर गए अस्पताल जहां डॉक्टरों ने किया मृत्यु घोषित, टैंकर मौके से फरार।

नायाब सितारा"

कारनामों की भब्य चमक के साथ एक बार फिर सुर्खियों में छाया 'म्योरपुर' भब्य व्यवस्था से शिक्षक समाज हुआ स्तब्ध, 'म्योरपुर के गौरव'का हुआ स्वागत  लग गया मजमा, बढ गया रुतबा... सिर गर्व से हुआ ऊचा, आशा की किरण और व्यवस्था बचाने की दिव्य मुहिम के बीच  निखरने लगी "आभा" मेधा की चमक, शिक्षक सतर्कता के साथ कर्मयोगी का हुआ जय- जयकार!  चमकते सूरज की तरह परीक्षाओं की तपिश में कुन्दन बनकर निकले 'नये खण्ड शिक्षा अधिकारी' निष्ठा फैलाने की ललक, परम्परा,सिद्धांत त्याग,एवं समर्पण के बीच बेसिक शिक्षा म्योरपुर के गौरव बने "विश्वजीत" "साधना द्विवेदी" लोकल न्यूज़ आफ इन्डिया म्योरपुर, सोनभद्र। परिन्दों को मन्ज़िल मिलेगी यकीनन ए फैले हुए उनके पख बोलते है वे लोग रहते हैं खामोश अक्सर जमाने में जिनके हुनर बोलते है...  जैसे मेधा किसी की मोहताज नहीं होती... बड़े सपने कुछ यूँ ही नहीं पूरे होते उसी तरह कुशल प्रशासक का तमगा यूँ ही नहीं मिलता उसके लिए व्यक्तित्व एवं कृतित्व से विभाग के विविध रगों को सयोजने का काम करना पड़ता है, कुछ इन्ही पक्तियो से प्रेरित गजब के रस

आखिर देश की सबसे बड़ी क्रेडिट कोआपरेटिव सोसाइटी आदर्श क्रेडिट कोआपरेटिव सोसाइटी लिमिटेड के लाखो निवेशकों को रोजगार और जीविका देने की गति पर पूर्ण विराम क्यों ?

  (फाइल फोटो) विजय शुक्ल  लोकल न्यूज ऑफ इंडिया  दिल्ली।  अखबारों की सुर्खियों पर नजर डाले तो आपको अंदाजा लगेगा कि  वास्तविकता में लगभग दो दशकों तक लाखो  निवेशकों के भरोसे पर खरी साबित होने वाली आदर्श क्रेडिट कोआपरेटिव सोसाइटी  लिमिटेड पर आखिर  जांच एजेंसियों ने  प्रवर्तन निदेशालय ने ऐसी कौन सी गड़बड़ी पाई कि इस पर पूर्ण विराम लगाने की ओर उसकी सभी सम्पत्तिया और बैंकिंग सीज करके अब तक यानी लगभग चार साल से एक परिसमापक नियुक्ति तक करवाने में अक्षम रही।  सवाल अगर गड़बड़ी का हैं तो कार्रवाई सुनिश्चित करना ही ऐसी एजेंसियों का धर्म हैं और स्वतः संज्ञान लेकर भी यह अपनी कार्रवाई कर सकती हैं यह भी इनके अधिकार क्षेत्र का यही मामला हैं पर सरकार और सियासी गलियारों के अलावा समाज में रोजगार , बचत और लोगो की जीविका का साधन बनी देश दुनिया में क्रेडिट कोआपरेटिव क्षेत्र में दो दशकों तक बिना किसी विवाद या शिकायतों के चलने वाली इस कोआपरेटिव सोसाइटी पर क्या वाकई लें दें की गड़बड़ी या मनी लॉन्ड्रिंग के कारण ताला लटका या इसमें कोई राजनीतिक रंजिश जैसा भी कोई एंगेल हैं ? यह तो शायद जांच करने के बाद संबंधित विभागीय या