सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पालोमी  पावनी शुक्ला ने अनाथालयों में ऑनलाइन शिक्षा के लिये स्मार्ट टीवी और ब्रॉड बैंड का किया प्रबंध

पालोमी  पावनी शुक्ला ने अनाथालयों में ऑनलाइन शिक्षा के लिये स्मार्ट टीवी और ब्रॉड बैंड का किया प्रबंध



लोकल न्यूज औफ़ इंडिया


लखनऊ। महिला कल्याण विभाग द्वारा जनपद लखनऊ में किशोर न्याय (बालकों की देखरेख और संरक्षण) अधिनियम, 2015 के अंतर्गत कुल 29 संस्थाएँ संचालित हैं। इनमें 8 राजकीय तथा 21 NGO द्वारा संचालित हैं। इन संस्थाओं में अनाथ बच्चे (Orphans), देखरेख और संरक्षण की आवश्यकता वाले बच्चे (Children in Need of Care and Protection) तथा विधि का उल्लंघन करने वाले किशोर (Children in Conflict with Law) आवासित हैं।


वर्तमान में उक्त संस्थाओं में संसाधनो के अभाव के कारण ऑनलाइन शिक्षा का प्रबंध नहीं है। जबकि आजकल ऑनलाइन शिक्षा सामान्यतः प्रचलन में आ चुकी है। साथ ही, तकनीकी प्रगति हेतु भी ऑनलाइन शिक्षा अत्यावश्यक है। वर्तमान में COVID-19 के प्रभाव तथा लॉकडाउन के दृष्टिगत ऑनलाइन शिक्षा इन संस्थाओं में उपलब्ध करना अनिवार्य हो गया है। हाल ही में  मुख्यमंत्री ने भी सभी बच्चों को यथासंभव ऑनलाइन शिक्षा उपलब्ध कराने पर ज़ोर दिया है। संसाधनो के बिना इन संस्थाओं में आवासित बच्चों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा का समुचित अवसर नहीं मिल पा रहा है।



आज दिनांक 18 अप्रैल 2020 को लखनऊ निवासिनी पालोमी पाविनी शुक्ला एवं उनके पति  प्रशान्त शर्मा द्वारा, जन-सहयोग के माध्यम से, इन संस्थाओं में आवासित बच्चों हेतु 27 स्मार्ट टी॰वी॰ भेंट किए जा रहे हैं। साथ ही, इन संस्थाओं में, आवश्यकतानुसार, ब्रॉडबैंड इंटरनेट सुविधा तथा स्मार्ट टी॰वी॰ पर ऑनलाइन शिक्षा हेतु प्रशिक्षण भी दिया जा रहा है। इन स्मार्ट टी॰ वी॰ से इन संस्थाओं में आवासित बच्चों के सुनहरे भविष्य के लिए शिक्षा, न केवल COVID-19 की लॉकडाउन अवधि में, बल्कि भविष्य में भी, सुगम हो जाएगी। 


 पॉलोमी पाविनी शुक्ला उच्चतम न्यायालय, दिल्ली में अधिवक्ता हैं तथा अनाथ बच्चों के लिए कई वर्षों से कार्य करती आ रही हैं। कुछ वर्ष पूर्व उन्होंने भारत में अनाथ बच्चों की दयनीय स्थिति पर एक किताब, Weakest On Earth - Orphans Of India लिखी थी, जो Bloomsbury जैसे विख्यात प्रकाशन संस्था द्वारा प्रकाशित की गई थी। इसके उपरांत उन्होंने मा॰ उच्चतम न्यायालय में अनाथ बच्चों को सभी सरकारी योजनाओं में बराबर की सुविधाएँ तथा आरक्षण की माँग करते हुए जनहित याचिका भी दायर की है, जो वर्तमान में भारत के मुख्य न्यायाधीश ने न्यायालय में विचाराधीन है। इनके पति प्रशांत शर्मा भारतीय प्रशासनिक सेवा के 2012 बैच के अधिकारी हैं तथा उत्तर प्रदेश कैडर में कार्यरत हैं। आप दोनों कई वर्षों से लखनऊ के अनाथालयों से जुड़े हैं तथा दीपावली आदि त्योहारों में विभिन्न अनाथालयों में अपना समय तथा अपने संसाधन भेंट करते आ रहे हैं।


इन 27 स्मार्ट टी॰वी॰ की भेंट हेतु आप दोनों द्वारा स्वयं के संसाधनों के अतिरिक्त लखनऊ के कुछ महानुभावों से जनसहयोग भी प्राप्त किया गया। इसका उद्देश्य मात्र स्मार्ट टी॰वी॰ उपलब्ध कराना ही नहीं, बल्कि लखनऊ के इन व्यक्तियों को अपने शहर के अनाथालयों से जोड़ना तथा लगाव उत्पन्न करना भी था। इन महानुभावों द्वारा लॉकडाउन के उपरांत इन अनाथालयों में जा कर अनाथ बच्चों के साथ समय व्यतीत करने की इच्छा व्यक्त की गई; साथ ही इन बच्चों और अनाथालयों की आवश्यकतानुसार शिक्षा, व्यावसायिक प्रशिक्षण, रोज़गार आदि उपलब्ध कराने में भी रुचि दिखाई गई। इन महानुभावों में  निलय रस्तोगी, भाव्या कपूर,  ज़ैन  अंसारी,  जावेद रहमानी,  चरणप्रीत बग्गा,  फ़ैज़ी यूनुस,  सैफी  यूनुस,  सार्थक रस्तोगी,  संजीत सिंह तलवार,  हरशीना तलवार,  राघव रस्तोगी,  हसीन खान,  कुणाल सेठ,  करन पाल सिंह,  नन्देश प्रसाद,  रितेश तिवारी,  अमित श्रोती,  सुमित श्रोती,  वरुण अरासु,  शमोना  खान,  समीर अग्रवाल, लखनऊ राउंड टेबल संगठन तथा लखनऊ राउंड टेबल (महिला) संगठन सम्मिलित हैं।


आज इस कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहीं  वीणा कुमारी मीणा, प्रमुख सचिव, महिला कल्याण विभाग, उत्तर प्रदेश शासन द्वारा इन स्मार्ट टी॰वी॰ को लखनऊ के आशियाना क्षेत्र में स्थिति “वन स्टॉप सेंटर” में प्राप्त किया गया। COVID-19 के कारणवश लॉकडाउन की दृष्टिगत इन सभी स्मार्ट टी॰वी॰ को इस सेंटर में सैनिटायज़ (sanitize) किया जाएगा, जिसके उपरान्त इन्हें विभिन्न संस्थाओं में स्थापित (install) किया जाएगा। अनाथ बच्चों (Orphans), देखरेख व संरक्षण की आवश्यकता वाले बच्चों (Children in Need of Care and Protection) तथा विधि का उल्लंघन करने वाले किशोर (Children in Conflict with Law) की शिक्षा हेतु इस पुनीत कार्य करने के लिए  वीणा कुमारी मीणा, प्रमुख सचिव, महिला कल्याण विभाग, उत्तर प्रदेश शासन द्वारा  पॉलोमी पाविनी शुक्ला, प्रशान्त शर्मा तथा सभी भेंट कर्ताओं को धन्यवाद दिया गया। सम्पूर्ण कार्यक्रम का समन्वय तथा संचालन  सर्वेश पाण्डेय, उप निदेशक, लखनऊ मण्डल, महिला कल्याण विभाग द्वारा किया गया।


टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वेतन तो शिक्षक का कटेगा भले ही वो महिला हो और महिला अवकाश का दिन हो , खंड शिक्षा अधिकारी पर तो जांच जारी है ही ,पर यक्ष प्रश्न आखिर कब तक  

महिला अवकाश के दिन महिलाओ का वेतन काटना तो याद है , पर बीएसए साहब को डीएम साहब के आदेश को स्पष्ट करना याद नहीं - शीतल दहलान , जिला अध्यक्ष , प्राथमिक शिक्षक संघ   सिस्टम ही तो है वरना जिस स्कूल में छः और आठ महीने से कोई शिक्षक नहीं आ रहा वहा साहब लोग जाने की जरूरत नहीं समझते  , पर महिला हूँ चीख चिल्ला ही सकती हूँ , पर हूँ तो निरीह ना - शीतल दहलान  विजय शुक्ल लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया दिल्ली।  खनन ,और शिक्षा दो ही ऐसे माफिया है जो आज सोनभद्र को दीमक की तरह खोखला कर रहे है, वो भी भ्रष्ट और सरपरस्ती में जी रहे अधिकारियो की कृपा से। बहरहाल लोकल न्यूज ऑफ इंडिया और कई समझदार लोग शायद शिक्षक पद की गरिमा को लेकर सोनभद्र में चिंतित नजर आते है।   चाहे म्योरपुर खंड शिक्षा अधिकारी को लेकर बेबाक और स्पष्ट वादी विधायक हरीराम चेरो का बयान हो कि   सहाय बदमाश आदमी है   या फिर ऑडियो में पैसे का आरोप लगाने वाली महिला शिक्षिका का अब भी दबाव में जीना और सिस्टम से लगातार जूझना जो जांच की छुरछुरछुरिया के साथ आरोपी खंड शिक्षा अधिकारी को अपने रसूख और दबाव का खेल घूम घूम कर साबित करने की इजाजत देता हो। 

विद्यालयों में शिक्षकों की उपस्तिथि को लेकर जारी शासनादेश से पैदा हुई उहापोह की स्तिथि साफ़ करे बीएसए - शीतल दहलान , जिला अध्यक्ष , उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ , सोनभद्र 

विद्यालयों में शिक्षकों की उपस्तिथि को लेकर जारी शासनादेश से पैदा हुई उहापोह की स्तिथि साफ़ करे बीएसए - शीतल दहलान  , जिला अध्यक्ष , उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ , सोनभद्र        सूर्यमणि कनौजिया  लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया  सोनभद्र। जनपद में ताजा ताजा जारी एक शासनादेश से शिक्षकों में एक उहापोह की स्तिथि बन गयी है जिसको लेकर उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ की जिला अध्यक्ष शीतल दहलान ने जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी से मांग की है कि  वो इसको स्पष्ट करे।  पूरा मामला  मुख्य सचिव उत्तर प्रदेश के दिनांक 30/08/2020 के शासनादेश संख्य2007/2020/सी.एक्स-3 के गाइड लाइन अनुपालन के क्रम में जिला मैजिस्ट्रेट /जिलाधिकारी सोनभद्र के दिनांक 31/08/2020 के पत्रांक 5728/जे.एनिषेधाज्ञा/ कोविड- 19/एल ओ आर डी /2020 के आदेशानुसार जिसके पैरा 1 मे उल्लिखित निम्न आदेश पर हुआ है।  जिसमे    1. समस्त स्कूल कॉलेज, शैक्षिक एवं कोचिंग संस्थान सामान्य शैक्षिक कार्य हेतु 30 सितम्बर 2020 तक बंद रहेंगे। यद्यपि निम्न गतिविधियों को शुरू करने की अनुमति होगी a. ऑनलाइन शिक्षा हेतु अनुमति जारी रहेगी और इसे प्रोत्साहित

सोनभद्र के बंटी-बबली का खेल अब जनता के सामने

सोनभद्र के बंटी-बबली का खेल अब जनता के सामने यू. पी. पुलिस इन्वेस्टिगेशन व पब्लिक सर्विस कमीशन का अपना फर्जी आई-डी कार्ड बनाकर जॉब लगवाने को लेकर लोगो का लाखो रुपए लूटा   मोहित मणि शुकला लोकल न्यूज़ ऑफ़ इंडिया सोनभद्र । एक ऐसा फर्जी पुलिस जो कि जनपद सोनभद्र का निवासी है और अपने फर्जी आई डी कार्ड के दम पर लोगो को जॉब दिलवाने के नाम पर व आने जाने के लिए टोल टैक्स पर पुलिस का रोब दिखा कर टोल टैक्स न देना फर्जीवारा करता आ रहा है। इस शख्स का नाम संतोष कुमार मिश्रा (पिता-आत्मजः राम ललित मिश्रा, सोनभद्र उत्तर प्रदेश) का रहने वाला है। संतोष कुमार मिश्रा फर्जी पुलिस की आई डी कार्ड बनाकर सोनभद्र में लोगो को गुमराह कर नौकरी के नाम मोटा रकम वसूल करके भागने की तैयारी में है। ये सोनभद्र या कहीं भी किसी भी टोल टैक्स पर पुलिस का फर्जी आई डी कार्ड दिखा कर निकल जाता है। इसका आई डी कार्ड "यू. पी. पुलिस इन्वेस्टिगेशन"* व "पब्लिक सर्विस कमीशन" के नाम पर बना हुआ है और बेखौफ जनपद सोनभद्र में ये घूम रहा है और लोगो को गुमराह कर रहा है। पैसे की लूट में इसकी लवर प्रिंसी भी इसका सा