सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

"जमीर से झलकता दम" 

"जमीर से झलकता दम" 


'पत्रकारिता का नया तेवर... नया अवतार..."लोकल न्यूज़ ऑफ़ इंडिया"





    •  'लोकल न्यूज़ ऑफ़ इंडिया' का इंकलाब हुआ बुलंद

    • संकटकाल में 'एलएनआई' ने लिखी 'नई इबादत' पत्रकारिता की जमाई धाक

    • देश की जनता के मन में "मीडिया के प्रति बढा विश्वास"

    • " लोकल से ग्लोबल तक" का हुआ शंखनाद 

    • आखिर "संकल्प को परखने की जबरदस्त प्रक्रिया के बीच" कठिन लक्ष्य और बदतरीन परिदृश्य से परिपूर्ण" हकीकत के नजरों के बीच फिर कुंदन बनकर निकली-

    •  " लोकल न्यूज़ ऑफ़ इंडिया"

    • लाक डाउन में "लोकल न्यूज आफ इंडिया"के व्यापक मुद्दे को रेखांकित करती "अनिल कुमार द्विवेदी"की विशेष रिपोर्ट-





अनिल द्विवेदी


लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया 


सोनभद्र।आज जब पूरे विश्व समुदाय में लगातार मायूसी भरे आंकड़ों की बारिश के बीच लाखों जिंदगियां काल के गाल में समा चुकी थी, तब 'उम्मीदों भरी पत्रकारिता का प्रतीक' एवं हकीकत का नजराना पेश करने वाला एलएनआई सिर्फ समाचार पत्र का प्रकाशन एवं आंकड़ों का विश्लेषण करने वाला पत्रकारिता का संकुचित रूप ही नहीं था,वरन मजबूत हैसियत और सवाल के हर जवाब के बीच 'आशा की किरण' की इस मुहिम का परिचायक था कि-


 रुकी कहीं यदि कलम,


धरा की चाल बदल जाएगी । कलम रुकी तो विश्व शांति की, गाथा जल जाएगी ।



'मानवीय रहस्य की अबूझ पहेली' बनी अप्रत्याशित कोरोना संकट के समय जब पूरा विश्व समुदाय सकते में था और शायद भारत भी इसके लिए पूरी तरह से तैयार नहीं था तो 'संकल्प की परख'के बीच "एलएनआई" का प्रशासन की पहल का इंतजार किए बगैर जनसेवा में समर्पित होते हुए भारत के विभिन्न भागों सिलीगुड़ी, दिल्ली,मुंबई,लखनऊ और भोपाल जैसे जगहों पर मानकों की अनदेखी किए बगैर सुबह-शाम दो पारियों में लगभग 2 लाख 80हजार लोगों में पका हुआ भोजन वितरित किया जिसमें एलएनआई परिवार द्वारा देश के छोटे-छोटे शहरों में वितरित की गई खाद्य सामग्रियां सम्मिलित नहीं है।


 


जब कोरोना के डर से पूरा देश सहमा था उस समय एलएनआई टीम बिना किसी हीला-हवाली के आगे बढ़ी और लॉक डाउन के शुरुआती दिन 25 मार्च से ही अपने लगभग 4000 वालेंटियर्स के सहयोग से देश के 2 लाख 10 हजार से भी अधिक जरूरतमंद परिवारों के घरों तक आटा,दाल, चावल, चीनी और चायपत्ती जैसे मूलभूत आवश्यक वस्तुओं से परिपूर्ण खाद्य पैकेट वितरित की जिनकी लागत परिवार के सदस्यों की संख्या तथा जरूरत के आधार पर क्रमशः रु 978, रु 1285, रु1685 एवं रु 2150 निर्धारित करते हुए पहुंचाया, इसने भूखे प्यासे राहगीरों को भी खाद्य सहायता उपलब्ध कराई ।


 दिलचस्प बात यह है कि, एलएनआई ने अपने लॉकडाउन के शुरुआती दिनों 25 मार्च से समस्या के समाधान तक चलने वाले 'ताबड़तोड़ गुडवर्क' की इस लंबी फेहरिस्त में बिना किसी सरकारी या गैर सरकारी संगठन का साथ लिए संपूर्ण कार्य प्रणाली का सफल क्रियान्वयन अपने स्तर से ही किया जहां "कहीं धूप कहीं छाया" जैसी क्षणिक प्रशासनिक अड़चनें तो कहीं गाजियाबाद की मजदूर बच्ची "नगमा" जैसी "नई मसीहा"मिली जिसकी अथक मेहनत ने पूरे समाज को किंकर्तव्यविमूढ़ एवं अवाक कर दिया।इसने एलएनआई से प्राप्त सहायता से प्रभावित होकर स्वयं को एक वॉलिंटियर के रूप में समाहित कर दी तथा खाद्य सामग्री वितरित करते हुए "गांव के गूंज की प्रत्यक्ष नायिका"बनी जिसके लिए पूर्व भाजपा राज्यसभा सांसद 'प्रदीप गांधी' ने कहा कि- एलएनआई ने गांव को यह बता दिया कि शहरों में भी उनको चाहने वाला कोई है। 


 


फरिश्तों की लंबी फेहरिस्त में भोपाल के एलएनआई लोकल एडिटर 'आमिर अल्वी' तथा मुंबई अंधेरी से संदीप प्रजापति तथा सुप्रसिद्ध फिल्म अभिनेत्री हर्षदा पाटिल का नाम जोड़ा जा सकता है जिन्होंने अपने कर्तव्यों के सम्यक निर्वहन के पश्चात अतिरिक्त समय देकर रात के 3:00 बजे तक आम जनता तक राहत सामग्री बटवाई। हर्षदा पाटिल का लगभग हजार लोगो को राशन वितरण कराना काबिले-तारीफ रहा।


आईआईएम रुद्रपुर के प्रोफेसर डॉ. आर के अग्रवाल ने 'संकट के जंग के इस रंग पर' सार्थक टिप्पणी करते हुए कहा कि- "विजय की सोच एवं एलएनआई की कल्पना खुद को जीने की बजाय लोगों को जिंदा रखने की है, वह भी मुस्कुराहट के साथ"! 


 


 देशबंधु अखबार के उपाध्यक्ष एवं प्रबंध संपादक "राजीव रंजन श्रीवास्तव" कहते हैं कि- "काश एलएनआई जैसी सोच हर जगह हो जाती तो शायद भारत विश्व पटल पर बिना कुछ बोले विश्व गुरु बन जाता।यह मुहिम चंद घंटों में फोटो खिंचवाने वाले नेताओं एवं समाज सेवकों पर सीधा तमाचा है"।


टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वेतन तो शिक्षक का कटेगा भले ही वो महिला हो और महिला अवकाश का दिन हो , खंड शिक्षा अधिकारी पर तो जांच जारी है ही ,पर यक्ष प्रश्न आखिर कब तक  

महिला अवकाश के दिन महिलाओ का वेतन काटना तो याद है , पर बीएसए साहब को डीएम साहब के आदेश को स्पष्ट करना याद नहीं - शीतल दहलान , जिला अध्यक्ष , प्राथमिक शिक्षक संघ   सिस्टम ही तो है वरना जिस स्कूल में छः और आठ महीने से कोई शिक्षक नहीं आ रहा वहा साहब लोग जाने की जरूरत नहीं समझते  , पर महिला हूँ चीख चिल्ला ही सकती हूँ , पर हूँ तो निरीह ना - शीतल दहलान  विजय शुक्ल लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया दिल्ली।  खनन ,और शिक्षा दो ही ऐसे माफिया है जो आज सोनभद्र को दीमक की तरह खोखला कर रहे है, वो भी भ्रष्ट और सरपरस्ती में जी रहे अधिकारियो की कृपा से। बहरहाल लोकल न्यूज ऑफ इंडिया और कई समझदार लोग शायद शिक्षक पद की गरिमा को लेकर सोनभद्र में चिंतित नजर आते है।   चाहे म्योरपुर खंड शिक्षा अधिकारी को लेकर बेबाक और स्पष्ट वादी विधायक हरीराम चेरो का बयान हो कि   सहाय बदमाश आदमी है   या फिर ऑडियो में पैसे का आरोप लगाने वाली महिला शिक्षिका का अब भी दबाव में जीना और सिस्टम से लगातार जूझना जो जांच की छुरछुरछुरिया के साथ आरोपी खंड शिक्षा अधिकारी को अपने रसूख और दबाव का खेल घूम घूम कर साबित करने की इजाजत देता हो। 

विद्यालयों में शिक्षकों की उपस्तिथि को लेकर जारी शासनादेश से पैदा हुई उहापोह की स्तिथि साफ़ करे बीएसए - शीतल दहलान , जिला अध्यक्ष , उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ , सोनभद्र 

विद्यालयों में शिक्षकों की उपस्तिथि को लेकर जारी शासनादेश से पैदा हुई उहापोह की स्तिथि साफ़ करे बीएसए - शीतल दहलान  , जिला अध्यक्ष , उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ , सोनभद्र        सूर्यमणि कनौजिया  लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया  सोनभद्र। जनपद में ताजा ताजा जारी एक शासनादेश से शिक्षकों में एक उहापोह की स्तिथि बन गयी है जिसको लेकर उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ की जिला अध्यक्ष शीतल दहलान ने जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी से मांग की है कि  वो इसको स्पष्ट करे।  पूरा मामला  मुख्य सचिव उत्तर प्रदेश के दिनांक 30/08/2020 के शासनादेश संख्य2007/2020/सी.एक्स-3 के गाइड लाइन अनुपालन के क्रम में जिला मैजिस्ट्रेट /जिलाधिकारी सोनभद्र के दिनांक 31/08/2020 के पत्रांक 5728/जे.एनिषेधाज्ञा/ कोविड- 19/एल ओ आर डी /2020 के आदेशानुसार जिसके पैरा 1 मे उल्लिखित निम्न आदेश पर हुआ है।  जिसमे    1. समस्त स्कूल कॉलेज, शैक्षिक एवं कोचिंग संस्थान सामान्य शैक्षिक कार्य हेतु 30 सितम्बर 2020 तक बंद रहेंगे। यद्यपि निम्न गतिविधियों को शुरू करने की अनुमति होगी a. ऑनलाइन शिक्षा हेतु अनुमति जारी रहेगी और इसे प्रोत्साहित

सोनभद्र के बंटी-बबली का खेल अब जनता के सामने

सोनभद्र के बंटी-बबली का खेल अब जनता के सामने यू. पी. पुलिस इन्वेस्टिगेशन व पब्लिक सर्विस कमीशन का अपना फर्जी आई-डी कार्ड बनाकर जॉब लगवाने को लेकर लोगो का लाखो रुपए लूटा   मोहित मणि शुकला लोकल न्यूज़ ऑफ़ इंडिया सोनभद्र । एक ऐसा फर्जी पुलिस जो कि जनपद सोनभद्र का निवासी है और अपने फर्जी आई डी कार्ड के दम पर लोगो को जॉब दिलवाने के नाम पर व आने जाने के लिए टोल टैक्स पर पुलिस का रोब दिखा कर टोल टैक्स न देना फर्जीवारा करता आ रहा है। इस शख्स का नाम संतोष कुमार मिश्रा (पिता-आत्मजः राम ललित मिश्रा, सोनभद्र उत्तर प्रदेश) का रहने वाला है। संतोष कुमार मिश्रा फर्जी पुलिस की आई डी कार्ड बनाकर सोनभद्र में लोगो को गुमराह कर नौकरी के नाम मोटा रकम वसूल करके भागने की तैयारी में है। ये सोनभद्र या कहीं भी किसी भी टोल टैक्स पर पुलिस का फर्जी आई डी कार्ड दिखा कर निकल जाता है। इसका आई डी कार्ड "यू. पी. पुलिस इन्वेस्टिगेशन"* व "पब्लिक सर्विस कमीशन" के नाम पर बना हुआ है और बेखौफ जनपद सोनभद्र में ये घूम रहा है और लोगो को गुमराह कर रहा है। पैसे की लूट में इसकी लवर प्रिंसी भी इसका सा