सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

लो आ गया राफेल

लो आ गया राफेल



रिटायर्ड लेफ्टिनेंट बच्चू सिंह


लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया


दिल्ली।फ्रांस से उड़कर राफेल विमानों पहली खेप आज भारत पहुच रही है। चीन और पाकिस्तान दोनों सीमाओं पर पिछले कुछ समय से बढ़ी हुई तनातनी के मद्देनजर, इन विमानों का भारतीय वायु सेना के बेड़े में शामिल होना, बेहद खास माना जा रहा है। विशेषज्ञों की मानें तो राफेल विमान उपमहाद्वीप में शक्ति संतुलन साधने में बड़ी महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले हैं।


बात कई साल पहले की है, तब केंद्र में यूपीए की सरकार थी। मेरी नियुक्ति उस समय जिस स्क्वाड्रन के साथ थी वह देश की पश्चिमी सीमा की सुरक्षा में तैनात हुआ करता था। तत्कालीन भारत सरकार की 126 राफेल विमानों की डील फ्रांस के साथ आखिरी चरणों पर थी, विलंब भले हो रहा था पर कार्य प्रगति पर था। इसी प्रगतिशील कार्य के बीच राफेल जंगी जहाजों का एक बेड़ा मध्य पूर्व एशिया के एक नेवल फ्रेंच बेस से भेजा गया। इन विमानों को हमारी वायु सेना के साथ अभ्यास करना था, ताकि इसकी क्षमताओं से हम अवगत हो सकें।


देखने मे बेहद छोटे, ये आसमानी परिंदे जब हमारे हवाई इलाके में हमारे ही सुखोई 30 के साथ कलाबाजियां खाते, तो विहंगम दृश्य होता था। सुखोई 30 एक बड़ा विमान है। वह अपनी बनावट से ही पराक्रमी और खतरनाक लगता है। उसके सामने राफेल खिलोने जैसा लगता था। जब मन्यूवरिंग की बात आई तो किसी को शक नहीं था अपने आकार और एरोडायनामिक डिजाइन की वजह से यह सुखोई से किसी मामले में कमतर नही होगा। वो सारी खूबियां जो सुखोई में थीं, इस छोटे से जहाज में भी थीं।


क्यों बेहद खास है राफेल


करीब एक पखवाड़े हमने साथ मिल कर काम किया, इस दौरान हमारा मन तुलनात्मक अध्ययन में ही लगा रहता, राफेल की कॉकपिट से ले कर, राडार और सेल्फ डिफेंस सिस्टम, उसकी लोड कैरिंग कैपेसिटी, उसका वेपन कंट्रोल सब लाजवाब लगा। एक पायलट को हवा में बहुत सारे सिस्टम्स को कंट्रोल करना होता है। राफेल ने इसका तोड़ ढूंढ लिया था। वौइस् सिस्टम से युक्त इस जहाज में पायलट बहुत सारे काम सिर्फ आवाज दे कर निबटा सकता है। उस समय के लिहाज से यह तकनीकी हमे अचंभित करती थी। इस्राएल में बने विशेष हेलमेट डिवाइस जिनकी खूबी यह थी कि पायलट सिर्फ अपने सर का मूवमेंट कर के दुश्मन टारगेट को लॉक कर सकता था, इसकी एक अन्य खूबी थी। वैसे यह तकनीकी तब हमारे विमानों में भी थी, परंतु राफेल में इसे अधिक बेहतर और आधुनिक बनाया गया था।


राफेल को सबसे खास बनाता है उसका स्पेक्ट्रा सिस्टम, जो कि ज्यादातर स्टील्थ विमानों की खासियत होती है। यह एक तरह का सेल्फ डिफेंस मैकेनिज्म उपलब्ध कराता है, जिससे विमान को आने वाले खतरों की सूचना समय से मिल जाती है और यह उसी हिसाब से अपने को बचा लेता है। चूंकि राफेल 4.5 पीढ़ी का लड़ाकू विमान है, इसे पूर्णतः स्टील्थ नही कहा जा सकता। यह राडार की पकड़ में आ सकता है, किंतु राडार को धोखा देने और उसे जैम करने की तकनीकी इतनी जबरदस्त है कि भारत और उसके आसपास के देशों में इतने सशक्त राडार शायद ही हों जो इस नायाब मशीन को रियल टाइम में उड़ते देख पाएं।


‘बर्स्ट ऑफ फायर’ राफेल की लाजवाब मारक क्षमता


किसी उड़ने वाली मशीन की ताकत उसकी मारक क्षमता होती है। आज अगर राफेल की विश्व भर में इतनी चर्चा है तो वह सिर्फ इसलिए कि इसके सहारे फ्रांस ने कई अंतरराष्ट्रीय ऑपरेशन्स को बखूबी अंजाम दिया है। अपने ‘चार्ल्स दे गुइल’ हवाई बेस से उड़कर जब सैकड़ो किलोमीटर दूर आईएसआईएस के ठिकानों पर इसने सटीक बमबारी की थी तो दुनिया ने इसकी चिड़िया की आंख भेदने जैसी मारक क्षमता का पहली बार अनुभव किया। लंबे समय तक हवा में रह कर, लीबिया, अफगानिस्तान इराक आदि के ऊपर भी इसने कामयाब मिशन अंजाम दिए हैं। आधुनिकतम यंत्रों और तकनीकी से लैस इस ‘आग के गोले’ का यह नाम पड़ा भी शायद इसीलिए है कि मेटीयोर, स्कैल्प, हैमर जैसी बेहद खतरनाक और विश्वसनीय मिसाइलों को यह बेहद सटीक तरह से लांच कर देता है। परमाणु अस्त्रों को ले जाने में सक्षम और एन्टी शिप, एन्टी सबमरीन आदि अस्त्रों से सुसज्जित राफेल न सिर्फ हवा में बल्कि जमीन या समंदर में स्थायी या चलायमान लक्ष्य को बड़ी आसानी से भेद सकता है।


फ्रांस के बने विमान भारतीय वायु सेना की रीढ़ रहे हैं


फ्रेंच और भारतीय वायु सेना का एक लंबा साथ रहा है। आज़ादी के तुरंत बाद खरीदे गए हर्रिकन विमानों से शुरू हुआ यह सिलसिला मिस्टयर, जगुआर (इसमे यूके का भी सहयोग था) और मिराज से होता हुआ अब राफेल तक आ पहुँचा है। इसमे कोई शक नही है कि आज भी वायुसेना की इन्वेंटरी का एक बड़ा हिस्सा रूसी विमानों का है किंतु फ्रांस के विमानों की तकनीकी और खरीद में सहजता इनको काफी आकर्षक बना देती है। और फिर जब उपयोगिता की बात हो तो गोवा की मुक्ति के लिए किये गए हवाई हमलों से लेकर, मिजोरम के बागी रहे लालडेंगा के ठिकानों को नेस्तनाबूत करने के साथ 65 और 71 के युद्धों में फ्रांस की इन नायाब मशीनों ने हमेशा अच्छे परिणाम दिए। कारगिल युद्ध और ताज़ातरीन बालाकोट हमलों में फ्रांसीसी मिराज 2000 का पराक्रम दुनिया ने आंखे फाड़ कर देखा है।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बेकार नहीं जाएगा ग्रामीणों का अंगूठा, होगा मान्य मतदान - एडीएम सोनभद्र

अगर   पहचान पत्र की पुष्टि के बाद अगूंठा सही से दबा कर मतपत्रों पर लगाया गया होगा तो वो मान्य होगा। और जनपद के सभी मतगणना केन्द्रो पर मान्य होगा - एडीएम सोनभद्र  विजय शुक्ल  लोकल न्यूज ऑफ इंडिया  सोनभद्र , दिल्ली।   हजार किलोमीटर दूर बैठे बैठे मुझे मेरे टोली ने खबर दी की इस बार चुनाव में ज्यादातर भोले भाले आदिवासी अगूंठा ठोककर चले आये हैं और ना जाने कितने प्रधान , पंचायत सदस्य , जिला पंचायत सदस्य का भविष्य इन अंगूठो  के सहारे निपट जाय अगर यह सब अमान्य करार दिए जाय।  सोनभद्र हैं सब कुछ जायज हैं पर जब अंगूठा लगाने और उसकी वजह से उदास आदिवासी मतदाताओं का दुःख पता चला जिन्होंने वाकई में यह आखिरी रात को और ज्यादा दर्द भरी बनाने के लिए काफी था खासकर उन उम्मीदवारों के लिए जिनको इन अंगूठे के मालिकानों से बस इस घड़ी के लिए उम्मीद थी क्योकि इन आदिवासी अंगूठा धारको का मालिकाना हक़ कल के बाद से फिर पांच साल के लिए इन्ही प्रधान जी और पंचायत जिला पंचायत सदस्य लोगो की कृपा पर निर्भर करेगा और उनका अंगूठा तो आपको पता हैं कि  कब लगेगा ? इसी उंहापोह की स्तिथि को सुलझाने का काम करने के लिए हमने डीएम सोनभद्र

अड़ीबाज़ एवं ब्लैकमेलर फैसल अपने आप को पत्रकार एवं FMSCI का मेंबर बताने वाला निकला फर्जी

  लोकल न्यूज ऑफ इंडिया  भोपाल।  राजधानी भोपाल में एक ऐसा मामला सामने आया है जहां फैसल मोहम्मद खान नाम का शातिर व्यक्ति अपने आपको फेडरेशन ऑफ मोटर स्पोर्ट्स क्लब ऑफ इंडिया FMSCI का सदस्य अपने आप को पत्रकार बता रहा था, जिसको लेकर वह लोगों के साथ फोटोग्राफी के नाम पर ब्लैकमेलिंग का काम करता है कई मोटर स्पोर्ट्स इवेंटो की वीडियो बनाकर लोगों को ठगने का काम भी इस शातिर द्वारा किया जा रहा था। इसी को लेकर जब एफएमएससीआई के पदाधिकारियों से इस विषय पर बात करी गई तो उन्होंने बताया कि इस नाम का हमारा कोई भी सदस्य भोपाल या आस पास में नहीं हैं, एफएमएससीआई के वरिष्ठ अधिकारियों ने बताया कि यह ब्लैकमेलिंग कर लोगों से मोटर स्पोर्ट्स इवेंट के नाम पर पैसे हेटने का काम करता है। जब कोई ऑर्गेनाइजर मोटर स्पोर्ट्स इवेंट करते हैं तो यह वहां पर कई अन्य साथियों के साथ मिलकर अपनी धोस जमाकर, फोटोग्राफी के काम को लेकर जबरन उन ऑर्गनाइजर पर दबाव बनाता है एवं ब्लैकमेलिंग कर उनसे पैसे हेटने का काम इसके द्वारा किया जाता है।

योगी जी आपका यह बेसिक शिक्षा मंत्री ना तो तीन में न तेरह में ......

शिक्षक नहीं बंधुआ मजदूर और दास प्रथा वाली फीलिंग आती है, अँग्रेजो की सरकार शायद ऐसे ही रही होगी। अब हम तो खतरे में हैं ही लगता हैं अब सरकार भी खतरे में हैं  - शीतल दहलान , जिला अध्यक्ष , महिला शिक्षक संघ , सोनभद्र  1671 शिक्षकों की मौत का आकड़ा चुनाव के दौरान का हैं।  बड़ा अजब गजब हैं यह मंत्री के तीन मौत का आकड़ा। यह शर्म की बात हैं।  मौत पर मजाक करना दुखद हैं. बाकी डिपार्टमेंट के लोगो की तो वैक्सीनेशन तक करवाई गयी पर शिक्षकों को तो बस मौत के बाजार में उतार दिया गया  - इकरार हुसैन, ब्लॉक अध्यक्ष , म्योरपुर, सोनभद्र , प्राथमिक शिक्षक संघ  विजय शुक्ल  लोकल न्यूज ऑफ इंडिया  दिल्ली। मीडिया से दो गज की सोशल डिस्टेंसिंग बनाकर रखने की हिदायत देने वाले रामराज में सब कुछ ठीक ठाक हैं क्योंकि अब गंगा में गश्त लगाती पुलिस हैं लाशो को बेवजह वहाँ भटकने से रोकने में।  क्योकि लड़ाई तो सारी  मुर्दा लोगो को लेकर ही हैं यूपी में।  तो अब यूपी के बेसिक शिक्षा मंत्री जिन्होंने लाशो की गणित में विशारद की होगी शायद का विवादित बयान उसी की एक बानगी हैं। जिनके हिसाब से चुनाव में कुल शिक्षकों में सिर्फ तीन की मौत ह