सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

हजार किलोमीटर दूर बसे  सोनभद्र की कमान अब सूर्यमणि को 



विजय शुक्ल


लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया


दिल्ली।  शिक्षकों , उद्यमियों , कलमवीरों , वन खनन माफियाओ और सोन के आँचल में बसे सोनभद्र के गाँवों में बस रही सोनभद्र  की आत्मा सोनभद्र के निवासियों को दिल से धन्यवाद।  



हिमाचल के लाहौल स्फीति व विश्व धरोहर  तीर्थन घाटी की गूँज से लेकर पंजाब के खुशहाल और नशे की गिरफ्त में कैद पिंड से आती सिसकियों की गूँज को समेटते लेह लद्दाख की पहाड़ियों में बसे अपने दस बीस पाठको की उम्मीद की दुनिया बुनते बुनते हम यानी लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया हरियाणा दिल्ली और पश्चिमी उत्तर प्रदेश की चौधराहट की खनक लिए ना जाने कब हजारो कोस दूर आपके बीच आ गए।  



आपकी गूँज दिल्ली तक पहुंचाने की सनक के साथ और रज बस गए आपके बीच आपकी उम्मीदों की बाते लिखते पढ़ते।  ना हमें कभी छोटे होने की बेबसी थी ना बड़े होने का गुमान , ना हम कभी किसी के पास किसी उम्मीद से या किसी सरपरस्ती की आस में बैठे थे ना किसी के लिए सरपरस्त बनने की हसरते पाले।  



हाँ बस एक अकड़ तो हमारी सदा थी की हम फ़र्ज़ी और फिरौती पत्रकार बनना पसंद करते हैं पर चोर को चोर और रेपिस्ट को रेपिस्ट और अपराधी को अपराधी कहने में कभी आनाकानी नहीं करते और ना कभी करेंगे। हम अपने लोगो की आवाज उठाने में हमेशा ब्लैकमेलर जैसे नजर आएंगे पर किसी की चौखट पर अपनी कलम को गिरवी नहीं रखने जायेगे।



हमारी शुरुवात कई अच्छे साथियो के साथ हुई और आज हमें फक्र होता है कि  हमारे पहले के ब्यूरो रागिनी और विशेष आज खुद अपना न्यूज़ पोर्टल लेकर आपकी आवाज बनने के लिए आपके बीच में है। और हमें यह पता है कि  उनकी अपनी प्रतिभा उनको एक दिन बड़े मुकाम पर ले जाएगी  उनके अपने सपनो के साथ उनकी अपनी दुनिया की चमक और धमक को बरकरार रखते हुए। 



हम धीरे धीरे आप सबके बीच अपने बिलकुल नासमझ साथियो के साथ आपके दर्द को उठाने की चाल को घुटनो के बल अभी चलना सीख रहे है और आप हमें खड़े होने का जो उत्साह दे रहे है यही लोकल की ताकत है और यही हमारा पारिश्रमिक भी।   लोकल कभी भी विरोध के दिखावे  की राजनीती नहीं करता ,खुलकर विरोध करता है जो समाज के लिए गलत लगता है , बिना इस ख्याली पुलाव के की कल हमारा क्या होगा , कौन खुश होगा और कौन नाराज होगा ? हमने एक बात तो जानी की  हर व्यक्ति में आक्रोश है पर वो निकाले किससे और कैसे ? अगर उसने कुछ कहा तो लाख उंगलिया उठेगी , किसी पत्रकार ने लिख दिया तो शायद बाकी पत्रकार साथी बुरा मान जाय खासकर बड़े संस्थानों में जुड़े हुए साथी पत्रकार यह भूलकर की उनका बड़ा संस्थान उन्होंने कभी अपनी कलम से अच्छा लिखकर बनाया है। 



हम थोड़ा तीखा बोलते है लिखते भी अनाप सनाप है क्योकि हमें समझ नहीं है कि  कैसे एक शिक्षक पत्रकार लिखता पढता हैं वो भी आपके बीच में रहते हुए और शायद अब हमें अपने साथी जो थोड़ा बहुत आपकी बातो को रखना सीख गए है उनको आगे बढ़ाने की जरूरत है  तभी शायद लोकल हर गाँव पहुँच भी पायेगा बिना किसी लाग लपेट के।  



और आज इसी कड़ी में मैं विजय शुक्ल फर्जी और फिरौती पत्रकार टाइप का सम्पादक होने की हैसियत से सूर्यमणि कनौजिया को सोनभद्र जिले की बागडोर सम्हालने की जिममेदारी और उधमियों की बजाने की खुली छूट देता हूँ।  आप लिखे पढ़े बोले कहे सुने साथ में तो सोनभद्र के सभी बड़े बूढ़े तो हैं ही और सोनभद्र हैं तो इंडिया में ही हजार कोस दूर सही।  मोबाइल तकनीक और इंटरनेट के जमाने में यह कोई दूरी नहीं है हम हमेशा  आपके बीच में है ही कोई गद्दी छोड़कर तो जा नहीं रहे और ना संन्यास ले रहे है बस थोड़ा सोनभद्र के साथ साथ जिला जौनपुर, मिर्ज़ापुर  और  गाजीपुर के गाँवों की कुछ बाते कहने सुनने का मन कर रहा है।  आज अच्छा समय है बदलाव का क्योकि फ़र्ज़ी डिग्री वाले मास्टर हो या लेट लतीफी करने वाला समाज कल्याण सब पर हावी है सोनभद्र के बीएसए , जिलाधिकारी और कप्तान।  बस जरा उनको सही जानकारी पहुंचाने का काम लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया के साथियो को करना हैं बिना किसी विज्ञापन की लालच में और किस चढावे की उम्मीद में।  बस बात सीधी और सपाट सुनिए और सुनाईये बाकी अखबार लाने की अब बेसिक तैयारी हो चुकी है जिस दिन सोनभद्र की जनता आदेश देगी हम उनके हाथो में होंगे। 


टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वेतन तो शिक्षक का कटेगा भले ही वो महिला हो और महिला अवकाश का दिन हो , खंड शिक्षा अधिकारी पर तो जांच जारी है ही ,पर यक्ष प्रश्न आखिर कब तक  

महिला अवकाश के दिन महिलाओ का वेतन काटना तो याद है , पर बीएसए साहब को डीएम साहब के आदेश को स्पष्ट करना याद नहीं - शीतल दहलान , जिला अध्यक्ष , प्राथमिक शिक्षक संघ   सिस्टम ही तो है वरना जिस स्कूल में छः और आठ महीने से कोई शिक्षक नहीं आ रहा वहा साहब लोग जाने की जरूरत नहीं समझते  , पर महिला हूँ चीख चिल्ला ही सकती हूँ , पर हूँ तो निरीह ना - शीतल दहलान  विजय शुक्ल लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया दिल्ली।  खनन ,और शिक्षा दो ही ऐसे माफिया है जो आज सोनभद्र को दीमक की तरह खोखला कर रहे है, वो भी भ्रष्ट और सरपरस्ती में जी रहे अधिकारियो की कृपा से। बहरहाल लोकल न्यूज ऑफ इंडिया और कई समझदार लोग शायद शिक्षक पद की गरिमा को लेकर सोनभद्र में चिंतित नजर आते है।   चाहे म्योरपुर खंड शिक्षा अधिकारी को लेकर बेबाक और स्पष्ट वादी विधायक हरीराम चेरो का बयान हो कि   सहाय बदमाश आदमी है   या फिर ऑडियो में पैसे का आरोप लगाने वाली महिला शिक्षिका का अब भी दबाव में जीना और सिस्टम से लगातार जूझना जो जांच की छुरछुरछुरिया के साथ आरोपी खंड शिक्षा अधिकारी को अपने रसूख और दबाव का खेल घूम घूम कर साबित करने की इजाजत देता हो। 

विद्यालयों में शिक्षकों की उपस्तिथि को लेकर जारी शासनादेश से पैदा हुई उहापोह की स्तिथि साफ़ करे बीएसए - शीतल दहलान , जिला अध्यक्ष , उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ , सोनभद्र 

विद्यालयों में शिक्षकों की उपस्तिथि को लेकर जारी शासनादेश से पैदा हुई उहापोह की स्तिथि साफ़ करे बीएसए - शीतल दहलान  , जिला अध्यक्ष , उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ , सोनभद्र        सूर्यमणि कनौजिया  लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया  सोनभद्र। जनपद में ताजा ताजा जारी एक शासनादेश से शिक्षकों में एक उहापोह की स्तिथि बन गयी है जिसको लेकर उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ की जिला अध्यक्ष शीतल दहलान ने जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी से मांग की है कि  वो इसको स्पष्ट करे।  पूरा मामला  मुख्य सचिव उत्तर प्रदेश के दिनांक 30/08/2020 के शासनादेश संख्य2007/2020/सी.एक्स-3 के गाइड लाइन अनुपालन के क्रम में जिला मैजिस्ट्रेट /जिलाधिकारी सोनभद्र के दिनांक 31/08/2020 के पत्रांक 5728/जे.एनिषेधाज्ञा/ कोविड- 19/एल ओ आर डी /2020 के आदेशानुसार जिसके पैरा 1 मे उल्लिखित निम्न आदेश पर हुआ है।  जिसमे    1. समस्त स्कूल कॉलेज, शैक्षिक एवं कोचिंग संस्थान सामान्य शैक्षिक कार्य हेतु 30 सितम्बर 2020 तक बंद रहेंगे। यद्यपि निम्न गतिविधियों को शुरू करने की अनुमति होगी a. ऑनलाइन शिक्षा हेतु अनुमति जारी रहेगी और इसे प्रोत्साहित

सोनभद्र के बंटी-बबली का खेल अब जनता के सामने

सोनभद्र के बंटी-बबली का खेल अब जनता के सामने यू. पी. पुलिस इन्वेस्टिगेशन व पब्लिक सर्विस कमीशन का अपना फर्जी आई-डी कार्ड बनाकर जॉब लगवाने को लेकर लोगो का लाखो रुपए लूटा   मोहित मणि शुकला लोकल न्यूज़ ऑफ़ इंडिया सोनभद्र । एक ऐसा फर्जी पुलिस जो कि जनपद सोनभद्र का निवासी है और अपने फर्जी आई डी कार्ड के दम पर लोगो को जॉब दिलवाने के नाम पर व आने जाने के लिए टोल टैक्स पर पुलिस का रोब दिखा कर टोल टैक्स न देना फर्जीवारा करता आ रहा है। इस शख्स का नाम संतोष कुमार मिश्रा (पिता-आत्मजः राम ललित मिश्रा, सोनभद्र उत्तर प्रदेश) का रहने वाला है। संतोष कुमार मिश्रा फर्जी पुलिस की आई डी कार्ड बनाकर सोनभद्र में लोगो को गुमराह कर नौकरी के नाम मोटा रकम वसूल करके भागने की तैयारी में है। ये सोनभद्र या कहीं भी किसी भी टोल टैक्स पर पुलिस का फर्जी आई डी कार्ड दिखा कर निकल जाता है। इसका आई डी कार्ड "यू. पी. पुलिस इन्वेस्टिगेशन"* व "पब्लिक सर्विस कमीशन" के नाम पर बना हुआ है और बेखौफ जनपद सोनभद्र में ये घूम रहा है और लोगो को गुमराह कर रहा है। पैसे की लूट में इसकी लवर प्रिंसी भी इसका सा