सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

सहाय बहुत बदमाश आदमी है इसने बहुत गड़बड़ किया है : हरी राम चेरो , विधायक दुद्धी 

सहाय बहुत बदमाश आदमी है इसने बहुत गड़बड़ किया है : हरी राम चेरो , विधायक दुद्धी 





  • दस हजार वाले घूस ऑडियो से ज्यादा बड़ा झोल है श्रुति देव तिवारी जैसे गुरूजी का घर बैठ सैलरी उठाने का खेल और उस पर खंड शिक्षा अधिकारी सहाय साहब का अवकाश वाला हेरफेर 






 

विजय शुक्ल 

लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया 

सोनभद्र/दिल्ली। जैसा आप सब जानते है इस समय खंड शिक्षा अधिकारी म्योरपुर चर्चा में हैं कई कारणों से।  चाहे वो दस हज़ार घूस मांगने का ऑडियो काण्ड हो जिस पर जांच बैठी है और सीओ दुद्धी इसकी तत्परता से जांच भी कर रहे है उम्मीद हैं वो जल्द दूध का दूध और पानी का पानी कर देंगे बिना किसी लाग लपेट के अपनी निष्पक्षता के साथ जैसा उनका अब तक का व्यवहार है और जिलाधिकारी साहब की अपनी पारदर्शिता की शैली भी। या फिर घर बैठकर सैलरी उठाने वालो से मिल रही मोटी  कमाई का खेल। 

 


 

आप सबको पता है कि  एक अध्यापक जो कि  महमड  प्राथमिक विद्यालय से धरतीडाँड़ प्राथमिक विद्यालय में सलंग्न किये जाते है इन्ही खंड शिक्षा अधिकारी के द्वारा और आठ माह तक ना जाने किसके पल्लू में छुपे बैठे होते है कि  इनको किसी भी बात का डर  नहीं रहता जिम्मेदारी की बात तो ना ही करिये उसका शिक्षा विभाग में इस खंड शिक्षा अधिकारी के रहते तो शायद ही पाई जाय . जैसा अंदेशा है कि  इस समय कई गुरूजी लोग पांच दस हजार की माहवारी बाँध कर मौज ले रहे होंगे और इसकी मलाई का स्वाद इतना चोखा  है कि  अगर इसको साहब लोग न खाये तो पछताए,  खाकर तो इनका कौन क्या उखाड़ लेगा।  जब यह सबको अपनी जेब में रखते है।  जांच और निर्देश की जो नौटंकी चल रही है उसका पूरा खेल यह खंड शिक्षा अधिकारी अपनी कुर्सी पर बैठकर खेल रहा है और आराम से लापता गुरूजी लोगो का रजिस्टर सही कर रहा है और शायद जिले में बैठे साहब लोग भी यही चाहते है। ऐसा मैं नहीं कह रहा और ना मानहानि का मुकदमा लड़ने की हमारी औकात है क्योकि हजार किलोमीटर दूर बैठा मैं भला कैसे जानूगा  की डायरेक्शन कैसा है और अवकाश की योजना के पीछे ट्रेनिंग का खेल कब हुआ ? बस यह जानता हूँ की दीमक की तरह यह खोखला कर रहे है आपके नौनिहालों के शिक्षा मंदिरो को।  यह ठीक बिच्छू के बच्चो की तरह है जो अपनी माँ को ही तब तक खाते है जब तक वह दम  नहीं तोड़ देती और सोनभद्र में तो कायाकल्प का दौर है ही, यहां तो गुरूजी लोग घर बैठकर वेतन लेकर कायाकल्प की योजना को ऑफ द रिकॉर्ड रहते हुए अवकाश की खंड शिक्षा अधिकारी द्वारा प्रदत्त विभागीय ऑन रिकॉर्ड दुरुस्त करवा चला गरीब आदिवासी बच्चो का हक़ मार रहे है वैसे जैसे खनन माफियाओं ने आदिवासियों की ह्त्या कर दी और नामजद प्रथिमिकी दर्ज होने के बावजूद भी मजाल है कि  वो गिरफ्तार कर लिए जाय . अब चाहे यह खनन माफिया हो या ओबरा के नगर पंचायत अध्यक्षा पति सब पर भारी है धन पति कुबेर। 

 

विधायक  हरी राम चेरो जैसे  प्रतिनिधि लाख शिकायत करे इन घोटालो की  पर उनकी सुनता कौन हैं ? आदिवासी बस गलती करने की सोच ले तो वो जेल में और वही यह माफिया लोग सौ हत्या भी कर दे तो मौज करेंगे और इनकी आवाज अगर विधायक उठाये भी तो एक्शन तो दूर, सत्ता दल  की सहयोगी पार्टी के विधायक होने का भी ख्याल जिले के अधिकारी नहीं रखना चाहते।  विधायक ने जिस साफ़गोई  से खंड शिक्षा अधिकारी को विभाग की छवि और उसकी गरिमा को खराब करने वाला बताया यह शायद ही कोई कहने की हिम्मत रखता हो।  उन्होंने बताया कि  महाचोर टाइप का बदमाश है यह अधिकारी, पांच दस हजार के मामले में फंसा हुआ अधिकारी क्या ठीक करेगा विभाग को।  पर इस पर कोई एक्शन होगा यह पक्का नहीं है क्योकि कमीशन का ज़माना है और अब सपा बसपा से दस प्रतिशत ज्यादा है यह कमीशन।  विधायक का यह कहना कि  आदिवासी लोगो का उत्पीड़न हर विभाग कर रहा है और    जनता ने उनको अपेक्षा करके जिताया है पर खुद विधायक की अपेक्षा सुनने वाला कोई नहीं है। 

 

यह गंभीर स्तिथि है कि  जिस अधिकारी की जांच चल रही हो और जिसको जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी ने आठ माह से लापता गुरूजी के बारे में जानकारी देने का निर्देश दिया हो उसको उसी पद पर रह कर मामला निपटाने की यह छूट भला क्यों दी गयी है यह समझ से परे है।

 

अब देखना यह है कि  म्योरपुर के लोग , सजग पत्रकार और साथी शिक्षक क्या अपनी पीढ़ियो को घूसखोरी और छुट्टियां कैसे मनाये इसका पाठ पढ़ाएंगे और मुझ जैसे लिखने वालो को ब्लैकमेलर साबित करने का माहौल बनायेगे या इन सबको लात मारकर बाहर भगायेगे।  कम से कम हरीराम चेरो जी ने अपनी बात साफ़ सुथरे तरीके से रखते हुए इस लूट पर अपना दर्द जाहिर करके यह तो बता दिया कि  वो अपनों की कितनी चिंता करते है। 

 

क्या आपको अपनों की चिंता है अगर हाँ तो जांच सही मुद्दे पर और सही खेल की भी हो जिसकी मलाई ज्यादा तगड़ी है ऑडियो वाले दस हजार से। 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बेकार नहीं जाएगा ग्रामीणों का अंगूठा, होगा मान्य मतदान - एडीएम सोनभद्र

अगर   पहचान पत्र की पुष्टि के बाद अगूंठा सही से दबा कर मतपत्रों पर लगाया गया होगा तो वो मान्य होगा। और जनपद के सभी मतगणना केन्द्रो पर मान्य होगा - एडीएम सोनभद्र  विजय शुक्ल  लोकल न्यूज ऑफ इंडिया  सोनभद्र , दिल्ली।   हजार किलोमीटर दूर बैठे बैठे मुझे मेरे टोली ने खबर दी की इस बार चुनाव में ज्यादातर भोले भाले आदिवासी अगूंठा ठोककर चले आये हैं और ना जाने कितने प्रधान , पंचायत सदस्य , जिला पंचायत सदस्य का भविष्य इन अंगूठो  के सहारे निपट जाय अगर यह सब अमान्य करार दिए जाय।  सोनभद्र हैं सब कुछ जायज हैं पर जब अंगूठा लगाने और उसकी वजह से उदास आदिवासी मतदाताओं का दुःख पता चला जिन्होंने वाकई में यह आखिरी रात को और ज्यादा दर्द भरी बनाने के लिए काफी था खासकर उन उम्मीदवारों के लिए जिनको इन अंगूठे के मालिकानों से बस इस घड़ी के लिए उम्मीद थी क्योकि इन आदिवासी अंगूठा धारको का मालिकाना हक़ कल के बाद से फिर पांच साल के लिए इन्ही प्रधान जी और पंचायत जिला पंचायत सदस्य लोगो की कृपा पर निर्भर करेगा और उनका अंगूठा तो आपको पता हैं कि  कब लगेगा ? इसी उंहापोह की स्तिथि को सुलझाने का काम करने के लिए हमने डीएम सोनभद्र

अड़ीबाज़ एवं ब्लैकमेलर फैसल अपने आप को पत्रकार एवं FMSCI का मेंबर बताने वाला निकला फर्जी

  लोकल न्यूज ऑफ इंडिया  भोपाल।  राजधानी भोपाल में एक ऐसा मामला सामने आया है जहां फैसल मोहम्मद खान नाम का शातिर व्यक्ति अपने आपको फेडरेशन ऑफ मोटर स्पोर्ट्स क्लब ऑफ इंडिया FMSCI का सदस्य अपने आप को पत्रकार बता रहा था, जिसको लेकर वह लोगों के साथ फोटोग्राफी के नाम पर ब्लैकमेलिंग का काम करता है कई मोटर स्पोर्ट्स इवेंटो की वीडियो बनाकर लोगों को ठगने का काम भी इस शातिर द्वारा किया जा रहा था। इसी को लेकर जब एफएमएससीआई के पदाधिकारियों से इस विषय पर बात करी गई तो उन्होंने बताया कि इस नाम का हमारा कोई भी सदस्य भोपाल या आस पास में नहीं हैं, एफएमएससीआई के वरिष्ठ अधिकारियों ने बताया कि यह ब्लैकमेलिंग कर लोगों से मोटर स्पोर्ट्स इवेंट के नाम पर पैसे हेटने का काम करता है। जब कोई ऑर्गेनाइजर मोटर स्पोर्ट्स इवेंट करते हैं तो यह वहां पर कई अन्य साथियों के साथ मिलकर अपनी धोस जमाकर, फोटोग्राफी के काम को लेकर जबरन उन ऑर्गनाइजर पर दबाव बनाता है एवं ब्लैकमेलिंग कर उनसे पैसे हेटने का काम इसके द्वारा किया जाता है।

योगी जी आपका यह बेसिक शिक्षा मंत्री ना तो तीन में न तेरह में ......

शिक्षक नहीं बंधुआ मजदूर और दास प्रथा वाली फीलिंग आती है, अँग्रेजो की सरकार शायद ऐसे ही रही होगी। अब हम तो खतरे में हैं ही लगता हैं अब सरकार भी खतरे में हैं  - शीतल दहलान , जिला अध्यक्ष , महिला शिक्षक संघ , सोनभद्र  1671 शिक्षकों की मौत का आकड़ा चुनाव के दौरान का हैं।  बड़ा अजब गजब हैं यह मंत्री के तीन मौत का आकड़ा। यह शर्म की बात हैं।  मौत पर मजाक करना दुखद हैं. बाकी डिपार्टमेंट के लोगो की तो वैक्सीनेशन तक करवाई गयी पर शिक्षकों को तो बस मौत के बाजार में उतार दिया गया  - इकरार हुसैन, ब्लॉक अध्यक्ष , म्योरपुर, सोनभद्र , प्राथमिक शिक्षक संघ  विजय शुक्ल  लोकल न्यूज ऑफ इंडिया  दिल्ली। मीडिया से दो गज की सोशल डिस्टेंसिंग बनाकर रखने की हिदायत देने वाले रामराज में सब कुछ ठीक ठाक हैं क्योंकि अब गंगा में गश्त लगाती पुलिस हैं लाशो को बेवजह वहाँ भटकने से रोकने में।  क्योकि लड़ाई तो सारी  मुर्दा लोगो को लेकर ही हैं यूपी में।  तो अब यूपी के बेसिक शिक्षा मंत्री जिन्होंने लाशो की गणित में विशारद की होगी शायद का विवादित बयान उसी की एक बानगी हैं। जिनके हिसाब से चुनाव में कुल शिक्षकों में सिर्फ तीन की मौत ह