सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

आज फिर आया साल भर बाद हिंदी पखवाड़ा


विजय शुक्ल


लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया करीब हर साल दुसरे तीज त्यौहारों की तरह हिन्दी पखवाड़ा फिर वापस आया जिसका इन्तजार सरकारी खजाने वाले बेसब्री से किया करते थे हर साल।  क्योकि यही उनकी दीवाली होती थी और यही उनकी ईदी . वो अलग बात है कि  हिंदी आज भी वही है जहां पहले थी सरकारी कामकाज से दूर बस रिसेप्शन बोले तो स्वागत कक्ष में।  जहां बैठी या बैठा हुआ एक व्यक्तित्व आपसे बोलेगा की कहिये मैं आपकी क्या सेवा कर सकता हूँ  या कर सकती हूँ। पर सवाल बड़ा है कि  क्या हम हर साल श्राद्ध जैसा हिंदी भाषा का तरपान करते नहीं नजर आ रहे।  जो भाषा हमारे रग रग में बसती हैं उसका एक दिन या एक पखवाड़ा अल्पसंखयको जैसा ट्रीटमेंट तो नहीं।  चलो मान लेते है कि  तमिल, तेलुगु , कन्नड़ , ओड़िया, असमिया, कोंकड़ी, मराठी, मलयालम जैसी भाषाई राज्यों में हिंदी दिवस का मनाया जाना सार्थक कदम हो सकता था पर हिंदी राज्यों में जहां बच्चा उठता बैठता ही हिंदी स्टाइल में है वहा इस पखवाड़े का इंतजाम कर ऐसा नहीं लगता की हिंदी के जीवित होने का सबूत पेश किया जा रहा हो  वो भी तब  जब हम हिंदी की समृद्ध गाथा की डींगे हांकते फिरते हैं। 



हिंदी भाषा को किसी के पखवाड़ा दिवस मनाकर उसका मान बढ़ाने की जरूरत मेरी समझ में तो नहीं है क्योकि वो अपने आप में अथाह हैं उसकी पहुँच और उसके होने का एहसास वैसे ही है जैसे हिन्दुस्तान के वजूद होने का।  हिंदी है हम वतन हैं तो गाना आपने सुना ही  होगा और जिस समय सरकारों ने हिंदी के उत्थान के रूप में अपनी राजनीतिक चाल चली होगी उस समय उसकी मंशा भी हिंदी को अपमानित करने वाली ही रही होगी ना कि  उसको बढ़ाने की।  यह मानो ऐसा लग रहा हैं जैसे हम वैलेंटाइन डे मना रहे हो पर यह भारत हैं यहाँ तो प्रेम भाव जन्म से हर प्राणी में निहित है , हम प्राकृत प्रेम करते हैं तीज छठ जितिया जैसे तीज त्यौहारों में नदी पोखरों सूरज  चन्दा पशु पक्षी का सम्मान करते है वो अलग बात है कि  हिंदी की अस्मिता से खेलती कुछ आत्माये खनन जैसा दोहन कर आज भी अपने आपको सिंचित कर रही है और शायद वही इस पूरे प्रकरण के रचयिता भी है।  आज जहां हम अपने अदालतो में सिर्फ इंग्लिश में ही सब कुछ लिखते पढ़ते हो।  पत्राचार से लेकर बोलचाल में अंग्रेजी भाषा का प्रयोग जब हमारा स्टेटस सिम्बल बन गया है वैसे में यह हिंदी पखवाड़ा हिंदी का मजाक उड़ाता ही नजर आ रहा है।


हिंदी को मजबूत बनाना है तो रोजाना हिंदी खाना पीना और जीना सीखना होगा वरना यह ईदी  दीवाली के नाम पर पखवाड़े में पैसे की बन्दर बाँट का खेल ठीक वैसे ही फैले फूलेगा जैसे आजकल सरकारी दफ्तरों में मोदी जी की स्वच्छता  अभियान वाली लीला खेली जा रही है। 


टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वेतन तो शिक्षक का कटेगा भले ही वो महिला हो और महिला अवकाश का दिन हो , खंड शिक्षा अधिकारी पर तो जांच जारी है ही ,पर यक्ष प्रश्न आखिर कब तक  

महिला अवकाश के दिन महिलाओ का वेतन काटना तो याद है , पर बीएसए साहब को डीएम साहब के आदेश को स्पष्ट करना याद नहीं - शीतल दहलान , जिला अध्यक्ष , प्राथमिक शिक्षक संघ   सिस्टम ही तो है वरना जिस स्कूल में छः और आठ महीने से कोई शिक्षक नहीं आ रहा वहा साहब लोग जाने की जरूरत नहीं समझते  , पर महिला हूँ चीख चिल्ला ही सकती हूँ , पर हूँ तो निरीह ना - शीतल दहलान  विजय शुक्ल लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया दिल्ली।  खनन ,और शिक्षा दो ही ऐसे माफिया है जो आज सोनभद्र को दीमक की तरह खोखला कर रहे है, वो भी भ्रष्ट और सरपरस्ती में जी रहे अधिकारियो की कृपा से। बहरहाल लोकल न्यूज ऑफ इंडिया और कई समझदार लोग शायद शिक्षक पद की गरिमा को लेकर सोनभद्र में चिंतित नजर आते है।   चाहे म्योरपुर खंड शिक्षा अधिकारी को लेकर बेबाक और स्पष्ट वादी विधायक हरीराम चेरो का बयान हो कि   सहाय बदमाश आदमी है   या फिर ऑडियो में पैसे का आरोप लगाने वाली महिला शिक्षिका का अब भी दबाव में जीना और सिस्टम से लगातार जूझना जो जांच की छुरछुरछुरिया के साथ आरोपी खंड शिक्षा अधिकारी को अपने रसूख और दबाव का खेल घूम घूम कर साबित करने की इजाजत देता हो। 

विद्यालयों में शिक्षकों की उपस्तिथि को लेकर जारी शासनादेश से पैदा हुई उहापोह की स्तिथि साफ़ करे बीएसए - शीतल दहलान , जिला अध्यक्ष , उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ , सोनभद्र 

विद्यालयों में शिक्षकों की उपस्तिथि को लेकर जारी शासनादेश से पैदा हुई उहापोह की स्तिथि साफ़ करे बीएसए - शीतल दहलान  , जिला अध्यक्ष , उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ , सोनभद्र        सूर्यमणि कनौजिया  लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया  सोनभद्र। जनपद में ताजा ताजा जारी एक शासनादेश से शिक्षकों में एक उहापोह की स्तिथि बन गयी है जिसको लेकर उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ की जिला अध्यक्ष शीतल दहलान ने जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी से मांग की है कि  वो इसको स्पष्ट करे।  पूरा मामला  मुख्य सचिव उत्तर प्रदेश के दिनांक 30/08/2020 के शासनादेश संख्य2007/2020/सी.एक्स-3 के गाइड लाइन अनुपालन के क्रम में जिला मैजिस्ट्रेट /जिलाधिकारी सोनभद्र के दिनांक 31/08/2020 के पत्रांक 5728/जे.एनिषेधाज्ञा/ कोविड- 19/एल ओ आर डी /2020 के आदेशानुसार जिसके पैरा 1 मे उल्लिखित निम्न आदेश पर हुआ है।  जिसमे    1. समस्त स्कूल कॉलेज, शैक्षिक एवं कोचिंग संस्थान सामान्य शैक्षिक कार्य हेतु 30 सितम्बर 2020 तक बंद रहेंगे। यद्यपि निम्न गतिविधियों को शुरू करने की अनुमति होगी a. ऑनलाइन शिक्षा हेतु अनुमति जारी रहेगी और इसे प्रोत्साहित

सोनभद्र के बंटी-बबली का खेल अब जनता के सामने

सोनभद्र के बंटी-बबली का खेल अब जनता के सामने यू. पी. पुलिस इन्वेस्टिगेशन व पब्लिक सर्विस कमीशन का अपना फर्जी आई-डी कार्ड बनाकर जॉब लगवाने को लेकर लोगो का लाखो रुपए लूटा   मोहित मणि शुकला लोकल न्यूज़ ऑफ़ इंडिया सोनभद्र । एक ऐसा फर्जी पुलिस जो कि जनपद सोनभद्र का निवासी है और अपने फर्जी आई डी कार्ड के दम पर लोगो को जॉब दिलवाने के नाम पर व आने जाने के लिए टोल टैक्स पर पुलिस का रोब दिखा कर टोल टैक्स न देना फर्जीवारा करता आ रहा है। इस शख्स का नाम संतोष कुमार मिश्रा (पिता-आत्मजः राम ललित मिश्रा, सोनभद्र उत्तर प्रदेश) का रहने वाला है। संतोष कुमार मिश्रा फर्जी पुलिस की आई डी कार्ड बनाकर सोनभद्र में लोगो को गुमराह कर नौकरी के नाम मोटा रकम वसूल करके भागने की तैयारी में है। ये सोनभद्र या कहीं भी किसी भी टोल टैक्स पर पुलिस का फर्जी आई डी कार्ड दिखा कर निकल जाता है। इसका आई डी कार्ड "यू. पी. पुलिस इन्वेस्टिगेशन"* व "पब्लिक सर्विस कमीशन" के नाम पर बना हुआ है और बेखौफ जनपद सोनभद्र में ये घूम रहा है और लोगो को गुमराह कर रहा है। पैसे की लूट में इसकी लवर प्रिंसी भी इसका सा