सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

हस्तकला प्रशिक्षण से  आत्मनिर्भर बनेगी तीर्थन घाटी की महिलाएं

हस्तकला प्रशिक्षण से  आत्मनिर्भर बनेगी तीर्थन घाटी की महिलाएं


 



  • तीर्थन घाटी के शाईरोपा में दस दिवसीय बुनाई प्रशिक्षण शिविर का समापन।

  • 20 ग्रामीण महिलाओं ने लिया हस्तकला बुनाई का प्रशिक्षण।

  • घाटी में तैयार हस्तनिर्मित उत्पाद करेंगे पर्यटकों को आकर्षित।



परसराम भारती 
लोकल न्यूज ऑफ इंडिया 


तीर्थन घाटी गुशैनी,बंजार।आत्मनिर्भरता के विना महिला सशक्तिकरण की कल्पना भी नहीं की जा सकती है। तीर्थन घाटी की ग्राम पंचायत कण्डीधार और नोहण्डा में एशियन विकास बैंक की सहायता से चलाई जा रही समुदाय आधारित पर्यटन परियोजना के तहत महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए ग्राम पंचायत कण्डीधार के शाईरोपा में 6 सितम्बर से 15 सितम्बर तक दस दिवसीय हस्तकला बुनाई का प्रशिक्षण दिया गया।



इस प्रशिक्षण शिविर में ग्राम पंचायत कण्डीधार की 20 महिलाओं ने भाग लेकर हस्तकला बुनाई का हुनर सीखा है। कुल्लू शहर से आई विशेषज्ञ प्रशिक्षक मणि देवी और फालमा देवी ने इन महिलाओं को इस पारम्परिक हस्तकला बुनाई तकनीक की बारीकियों के इलावा उत्पाद की गुणवत्ता और इसके विपणन के बारे में भी विस्तृत से जानकारी दी है। आज विधिपूर्वक इस प्रशिक्षण शिविर का समापन किया गया। इसके समापन अवसर पर ग्राम पंचायत कण्डीधार की युवा प्रधान चमना देवी विशेष रूप से उपस्थित रही।



ग्राम पंचायत कण्डीधार की युवा प्रधान चमना देवी का कहना है कि इस प्रशिक्षण से यहां की महिलाएं हस्तकला के क्षेत्र में न केवल निपुण हुई है बल्कि अब आत्मनिर्भर बनकर आर्थिक रूप से भी सशक्त बनेगी। इन्होंने कहा कि आज के बदलते परिदृश्य में यहाँ के लोगों विशेषकर महिलाओं के लिए हस्तकला पर्यटन के साथ आय का महत्वपूर्ण साधन बन सकता है। इससे तीर्थन घाटी के लोगों को आर्थिक मजबूती के साथ पर्यटन में एक नई पहचान मिलेगी। इनका कहना है कि यह प्रशिक्षण यहां की महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने में उपयोगी साबित होगा।



दस दिवसीय बुनाई हस्तकला प्रशिक्षण शिविर के दौरान महिलाओं ने सूत धागे से बुनाई कौशल की पारम्परिक नीडल वर्क विधि से विभिन्न उत्पाद बनाने की आधुनिकतम तकनीक भी सीखी है। अपने घरेलू कामकाज के साथ साथ महिलाएं घर बैठे हुए, सफर में या टेलीविजन देखते हुए भी इस बुनाई के कार्य को आसानी से कर सकती है। इसमें सुत या धागे को सीधे ही सुइयों और उँगली के साथ मनचाहा डिजाइन देकर बुनाई की जाती है। इस कार्य को युवतियां, गृहणी और कोई भी वुजुर्ग महिला विना किसी मशीन के कहीं भी आसानी से कर सकती है।  हालांकि हस्तशिल्प उत्पाद को मेहनत के अनुरूप इसकी कीमत नहीं मिल पाती है जिसका कारण उचित बाजार का ना मिलना भी है। तीर्थन घाटी अब पर्यटकों के आकर्षण का केन्द्र बन चुका है। यहाँ के हस्तनिर्मित उत्पाद आवश्यक ही पर्यटकों को आकर्षित करेंगे। यहां पर आने वाले कई पर्यटक स्थानीय पारम्परिक हस्तशिल्प उत्पाद खरीदने के इच्छुक होते हैं।



परियोजना की समुदाय समन्वयक बंदना शर्मा का कहना है कि इस प्रशिक्षण का मुख्य उद्देश्य पारम्परिक हस्त कला को पुनर्जीवित कर ग्रामीण क्षेत्र की महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाना है ताकि वे घर बैठे ही रोजगार के साधन पैदा कर सके। इन्होंने बतलाया कि आइन्दा कल 16 सितम्बर से ग्राम पंचायत नोहण्डा की महिलाओं के लिए भी इसी तरह के प्रशिक्षण शिविर का आयोजन किया जा रहा है।  ग्राम पंचायत नोहण्डा की महिलाओं से आग्रह किया है कि इस प्रशिक्षण शिविर में बढ़चढ़ कर हिस्सा लेकर इसका लाभ उठाएं।


इस प्रशिक्षण को प्राप्त करने वाली जावल गांव की चंद्रा देवी का कहना है कि बुनाई का कार्य यह पहले से ही करती थी लेकिन इस दस दिवसीय हस्तशिल्प बुनाई प्रशिक्षण शिविर में इसने कई डिजाइन में हस्तनिर्मित उत्पाद बनाने की कला सीखी हैं। अब यह नाना प्रकार के डिज़ाइनों में हस्तनिर्मित उत्पाद घर बैठे तैयार करके रोजगार कमा सकती है।


माँ शक्ति स्वयंसेवी संगठन कुल्लू की प्रधान और मुख्य प्रशिक्षक मणि देवी का कहना है कि इस प्रशिक्षण में इन्होंने महिलाओं को पांच दिन हस्तशिल्प बुनाई का आधारभुत प्रशिक्षण तथा पांच दिन का अग्रणी स्तरीय क्रोशिया बुनाई का कौशल प्रशिक्षण दिया है। जिसमें महिलाओं को स्वैटर, कोटियां, फ्रॉक, पुरुष व महिला जुराबें, पंजाबी जूतियाँ, मफलर, पोंचू, हैंड बैग, कुशन कबर, डोर मैट और टोपियाँ आदि हस्तनिर्मित उत्पाद बनाने के लिए निपुण किया गया है।



इस दस दिवसीय हस्तशिल्प बुनाई प्रशिक्षण शिविर में ग्राम पंचायत कण्डीधार के लोमश ऋषि स्वयं सहायता समुह गहिधार, आदर्श ग्रुप दाड़ी, गायत्री ग्रुप बाड़ीरोपा और स्वयं सहायता समूह रौनाल की एना देवी, गंगा देवी, डोलमा देवी, विद्या देवी, पुजा देवी, भीमा देवी, देवकला, गोदावरी, कृष्णा देवी, बोहरी देवी, किरण भारती, सीमा देवी, कविता, चंद्रा देवी, कमला देवी, दीपा देवी, चुड़ामणि, वीना देवी, ध्यानदासी और शारदा देवी आदि ने मुख्य रूप से भाग लिया है।


टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वेतन तो शिक्षक का कटेगा भले ही वो महिला हो और महिला अवकाश का दिन हो , खंड शिक्षा अधिकारी पर तो जांच जारी है ही ,पर यक्ष प्रश्न आखिर कब तक  

महिला अवकाश के दिन महिलाओ का वेतन काटना तो याद है , पर बीएसए साहब को डीएम साहब के आदेश को स्पष्ट करना याद नहीं - शीतल दहलान , जिला अध्यक्ष , प्राथमिक शिक्षक संघ   सिस्टम ही तो है वरना जिस स्कूल में छः और आठ महीने से कोई शिक्षक नहीं आ रहा वहा साहब लोग जाने की जरूरत नहीं समझते  , पर महिला हूँ चीख चिल्ला ही सकती हूँ , पर हूँ तो निरीह ना - शीतल दहलान  विजय शुक्ल लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया दिल्ली।  खनन ,और शिक्षा दो ही ऐसे माफिया है जो आज सोनभद्र को दीमक की तरह खोखला कर रहे है, वो भी भ्रष्ट और सरपरस्ती में जी रहे अधिकारियो की कृपा से। बहरहाल लोकल न्यूज ऑफ इंडिया और कई समझदार लोग शायद शिक्षक पद की गरिमा को लेकर सोनभद्र में चिंतित नजर आते है।   चाहे म्योरपुर खंड शिक्षा अधिकारी को लेकर बेबाक और स्पष्ट वादी विधायक हरीराम चेरो का बयान हो कि   सहाय बदमाश आदमी है   या फिर ऑडियो में पैसे का आरोप लगाने वाली महिला शिक्षिका का अब भी दबाव में जीना और सिस्टम से लगातार जूझना जो जांच की छुरछुरछुरिया के साथ आरोपी खंड शिक्षा अधिकारी को अपने रसूख और दबाव का खेल घूम घूम कर साबित करने की इजाजत देता हो। 

विद्यालयों में शिक्षकों की उपस्तिथि को लेकर जारी शासनादेश से पैदा हुई उहापोह की स्तिथि साफ़ करे बीएसए - शीतल दहलान , जिला अध्यक्ष , उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ , सोनभद्र 

विद्यालयों में शिक्षकों की उपस्तिथि को लेकर जारी शासनादेश से पैदा हुई उहापोह की स्तिथि साफ़ करे बीएसए - शीतल दहलान  , जिला अध्यक्ष , उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ , सोनभद्र        सूर्यमणि कनौजिया  लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया  सोनभद्र। जनपद में ताजा ताजा जारी एक शासनादेश से शिक्षकों में एक उहापोह की स्तिथि बन गयी है जिसको लेकर उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ की जिला अध्यक्ष शीतल दहलान ने जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी से मांग की है कि  वो इसको स्पष्ट करे।  पूरा मामला  मुख्य सचिव उत्तर प्रदेश के दिनांक 30/08/2020 के शासनादेश संख्य2007/2020/सी.एक्स-3 के गाइड लाइन अनुपालन के क्रम में जिला मैजिस्ट्रेट /जिलाधिकारी सोनभद्र के दिनांक 31/08/2020 के पत्रांक 5728/जे.एनिषेधाज्ञा/ कोविड- 19/एल ओ आर डी /2020 के आदेशानुसार जिसके पैरा 1 मे उल्लिखित निम्न आदेश पर हुआ है।  जिसमे    1. समस्त स्कूल कॉलेज, शैक्षिक एवं कोचिंग संस्थान सामान्य शैक्षिक कार्य हेतु 30 सितम्बर 2020 तक बंद रहेंगे। यद्यपि निम्न गतिविधियों को शुरू करने की अनुमति होगी a. ऑनलाइन शिक्षा हेतु अनुमति जारी रहेगी और इसे प्रोत्साहित

सोनभद्र के बंटी-बबली का खेल अब जनता के सामने

सोनभद्र के बंटी-बबली का खेल अब जनता के सामने यू. पी. पुलिस इन्वेस्टिगेशन व पब्लिक सर्विस कमीशन का अपना फर्जी आई-डी कार्ड बनाकर जॉब लगवाने को लेकर लोगो का लाखो रुपए लूटा   मोहित मणि शुकला लोकल न्यूज़ ऑफ़ इंडिया सोनभद्र । एक ऐसा फर्जी पुलिस जो कि जनपद सोनभद्र का निवासी है और अपने फर्जी आई डी कार्ड के दम पर लोगो को जॉब दिलवाने के नाम पर व आने जाने के लिए टोल टैक्स पर पुलिस का रोब दिखा कर टोल टैक्स न देना फर्जीवारा करता आ रहा है। इस शख्स का नाम संतोष कुमार मिश्रा (पिता-आत्मजः राम ललित मिश्रा, सोनभद्र उत्तर प्रदेश) का रहने वाला है। संतोष कुमार मिश्रा फर्जी पुलिस की आई डी कार्ड बनाकर सोनभद्र में लोगो को गुमराह कर नौकरी के नाम मोटा रकम वसूल करके भागने की तैयारी में है। ये सोनभद्र या कहीं भी किसी भी टोल टैक्स पर पुलिस का फर्जी आई डी कार्ड दिखा कर निकल जाता है। इसका आई डी कार्ड "यू. पी. पुलिस इन्वेस्टिगेशन"* व "पब्लिक सर्विस कमीशन" के नाम पर बना हुआ है और बेखौफ जनपद सोनभद्र में ये घूम रहा है और लोगो को गुमराह कर रहा है। पैसे की लूट में इसकी लवर प्रिंसी भी इसका सा