सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

किसानों के हित में एक के बाद एक कई कदम उठाए गए-नरेंद्र सिंह तोमर

किसानों के हित में एक के बाद एक कई कदम उठाए गए-नरेंद्र सिंह तोमर



गौरी मंजीत सिंह 


लोकल न्यूज ऑफ इंडिया 


नई दिल्ली।विपक्ष के विरोध के बीच कृषि से जुड़े तीन विधेयकों को संसद की मंजूरी मिल गई है, मगर इस पर घमासान अब भी जारी है। आज किसानों से लेकर कांग्रेस का विरोध प्रदर्शन है, इस बीच केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने आश्वासन दिया है और कहा कि मैं किसानों को कहना चाहता हूं कि इनको कार्यान्वित होने दीजिए निश्चित रूप से आपके जीवन में क्रांतिकारी बदलाव आएगा। समाचार एजेंसी एएनआई से बातचीत के दौरान केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि किसानों के हित में एक के बाद एक कई कदम उठाए गए लेकिन इन सबके बावजूद जब तक कानूनों में बदलाव नहीं होता तब तक किसान के बारे में हम जो उन्नति का सोच रहे थे, वो संभव नहीं थी। इसलिए भारत सरकार ने दो अध्यादेश बनाए जिनको अब जारी कर दिया गया है। 


 केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि कृषक उपज व्‍यापार और वाणिज्‍य (संवर्धन और सरलीकरण) विधेयक 2020 और दूसरा कृषक (सशक्‍तिकरण व संरक्षण) कीमत आश्‍वासन और कृषि सेवा पर करार विधेयक, 2020। ये दोनों विधेयक निश्चित रूप से किसान को जो APMC की जंजीरों में जकड़ा हुआ था, उससे आजाद करने वाले हैं। उन्होंने आगे कहा कि हमारा जो एक्ट है वो किसान को मंडी के बाहर किसी भी स्थान से, किसी भी स्थान पर अपनी मर्जी के भाव पर अपना उत्पाद बेचने की स्वतंत्रता देता है।


किसानों, खासकर लघु किसानों के लिए कितना फायदेमंद हैं ये बिल?


जवाब: 2014 से ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी और हमारी पार्टी की प्रतिबद्धता और प्राथमिकता किसानों के प्रति रही है। मोदी जी ने प्रधानमंत्री बनने के बाद किसानों को एमएसपी लागत का पचास फीसदी मुनाफा घोषित की जाए, यह फैसला यूपीए की सरकार में नहीं हो पाया था, मोदी जी ने इस निर्णय को किया। इसी के साथ-साथ खेत में उत्पादन और उत्पादकता बढ़े, किसानों की लागत कम हो, इसका एक अभियान चलाया गया। जब प्रधानमंत्री मोदी जी ने 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने की बात कही तो उस क्रम में केंद्र सरकार के ने राज्यों के साथ और किसानों के साथ मिलकर मिशन मोड मे काम करना शुरू किया। पहली बार प्रधानमंत्री मोदी जी ने पीएम किसान सम्मान निधि योजना की घोषणा की। यह दुनिया की पहली ऐसी आय सहायता योजना है, जिसमें एक साल में 75 हजार कड़ोर भारत सरकार के खजाने से निकल कर किसानों की जेब में जाता है। अभी तक 93 हजार करोड़ रुपए किसानों को इस योजना के तहत दिया जा चुका है। हमारे देश में 86 फीसदी किसान छोटे हैं, इनका उत्पादन भी छोटा है और मार्केट से उनकी दूरी भी ज्यादा है। खुद निवेश भी नहीं कर सकता। इसलिए पीएम मोदी ने छोटे किसान की ताहत और उत्पादन का वॉल्यूम और रकवा बढ़े इसके लिए कृषि उत्पाद संगठन देश भर में दस हजार नए बनाए जाएंगे, जिस पर भारत सरकार 6 हजार आठ सौ पचास करोड़ रुपया पांच वर्ष में खर्च करेगी। 


आपने कहा कि इन कानूनों से नई क्रांति आएगी? कैसे और लघु किसानों को कैसे मिलेगी आजादी?


जवाब: किसान परिश्रम पूर्वक अपनी खेती करता है। अभी किसान को अपने घर से अपने उपज को लेकर मंडी में जाना पड़ता है। मंडी में 25-30 लाइसेंसधारी व्यापारी होते हैं। वे उनके उत्पादन की निलामी करते हैं और ऑक्सन में जो रेट तय होता है, किसान की मर्जी का या किसान की बिना मर्जी का, उसको उसी भाव पर उसे अपना उत्पादन बेचने को मजबूर होना पड़ता था। परिवहन के खर्च से बचने के लिए किसान भी उसी रेट में बेच देता है। हमारा जो कानून है, उसको मंडी के बाहर भी किसी भी स्थान से, किसी भी स्थान पर अपनी मर्जी से अपना उत्पादन बेचने का स्वतंत्रता प्रदान करता है। हमारा विधेयक  APMC के बाहर किसानों को कोई टैक्स नहीं देना होगा। 


कांग्रेस इस बिल को मौत का पैगाम बता रही है?


जवाब: कांग्रेस का नेतृत्व बौना हो गया है। कांग्रेस अब न खेती किसानी को समझती है और न ही किसी चीज को। कांग्रेस में जो लोग इसे समझते हैं, उनकी कोई सुनता नहीं है। मैं कांग्रेस से कहना चाहता हूं कि अगर आपको सवाल पूछना, विमर्श है तो बिल के प्रावधानों पर करें। कांग्रेस का कोई भी नेता चाहे वो केंद्र का हो या राज्य का हो, उसे पहले ये बोलना चाहिए कि हमने जो घोषणा अपने घोषणापत्र में की थी, अब हम उससे पलट रहे हैं तो मैं उनका बहस सुनने को तैयार हूं। 



टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वेतन तो शिक्षक का कटेगा भले ही वो महिला हो और महिला अवकाश का दिन हो , खंड शिक्षा अधिकारी पर तो जांच जारी है ही ,पर यक्ष प्रश्न आखिर कब तक  

महिला अवकाश के दिन महिलाओ का वेतन काटना तो याद है , पर बीएसए साहब को डीएम साहब के आदेश को स्पष्ट करना याद नहीं - शीतल दहलान , जिला अध्यक्ष , प्राथमिक शिक्षक संघ   सिस्टम ही तो है वरना जिस स्कूल में छः और आठ महीने से कोई शिक्षक नहीं आ रहा वहा साहब लोग जाने की जरूरत नहीं समझते  , पर महिला हूँ चीख चिल्ला ही सकती हूँ , पर हूँ तो निरीह ना - शीतल दहलान  विजय शुक्ल लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया दिल्ली।  खनन ,और शिक्षा दो ही ऐसे माफिया है जो आज सोनभद्र को दीमक की तरह खोखला कर रहे है, वो भी भ्रष्ट और सरपरस्ती में जी रहे अधिकारियो की कृपा से। बहरहाल लोकल न्यूज ऑफ इंडिया और कई समझदार लोग शायद शिक्षक पद की गरिमा को लेकर सोनभद्र में चिंतित नजर आते है।   चाहे म्योरपुर खंड शिक्षा अधिकारी को लेकर बेबाक और स्पष्ट वादी विधायक हरीराम चेरो का बयान हो कि   सहाय बदमाश आदमी है   या फिर ऑडियो में पैसे का आरोप लगाने वाली महिला शिक्षिका का अब भी दबाव में जीना और सिस्टम से लगातार जूझना जो जांच की छुरछुरछुरिया के साथ आरोपी खंड शिक्षा अधिकारी को अपने रसूख और दबाव का खेल घूम घूम कर साबित करने की इजाजत देता हो। 

विद्यालयों में शिक्षकों की उपस्तिथि को लेकर जारी शासनादेश से पैदा हुई उहापोह की स्तिथि साफ़ करे बीएसए - शीतल दहलान , जिला अध्यक्ष , उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ , सोनभद्र 

विद्यालयों में शिक्षकों की उपस्तिथि को लेकर जारी शासनादेश से पैदा हुई उहापोह की स्तिथि साफ़ करे बीएसए - शीतल दहलान  , जिला अध्यक्ष , उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ , सोनभद्र        सूर्यमणि कनौजिया  लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया  सोनभद्र। जनपद में ताजा ताजा जारी एक शासनादेश से शिक्षकों में एक उहापोह की स्तिथि बन गयी है जिसको लेकर उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ की जिला अध्यक्ष शीतल दहलान ने जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी से मांग की है कि  वो इसको स्पष्ट करे।  पूरा मामला  मुख्य सचिव उत्तर प्रदेश के दिनांक 30/08/2020 के शासनादेश संख्य2007/2020/सी.एक्स-3 के गाइड लाइन अनुपालन के क्रम में जिला मैजिस्ट्रेट /जिलाधिकारी सोनभद्र के दिनांक 31/08/2020 के पत्रांक 5728/जे.एनिषेधाज्ञा/ कोविड- 19/एल ओ आर डी /2020 के आदेशानुसार जिसके पैरा 1 मे उल्लिखित निम्न आदेश पर हुआ है।  जिसमे    1. समस्त स्कूल कॉलेज, शैक्षिक एवं कोचिंग संस्थान सामान्य शैक्षिक कार्य हेतु 30 सितम्बर 2020 तक बंद रहेंगे। यद्यपि निम्न गतिविधियों को शुरू करने की अनुमति होगी a. ऑनलाइन शिक्षा हेतु अनुमति जारी रहेगी और इसे प्रोत्साहित

सोनभद्र के बंटी-बबली का खेल अब जनता के सामने

सोनभद्र के बंटी-बबली का खेल अब जनता के सामने यू. पी. पुलिस इन्वेस्टिगेशन व पब्लिक सर्विस कमीशन का अपना फर्जी आई-डी कार्ड बनाकर जॉब लगवाने को लेकर लोगो का लाखो रुपए लूटा   मोहित मणि शुकला लोकल न्यूज़ ऑफ़ इंडिया सोनभद्र । एक ऐसा फर्जी पुलिस जो कि जनपद सोनभद्र का निवासी है और अपने फर्जी आई डी कार्ड के दम पर लोगो को जॉब दिलवाने के नाम पर व आने जाने के लिए टोल टैक्स पर पुलिस का रोब दिखा कर टोल टैक्स न देना फर्जीवारा करता आ रहा है। इस शख्स का नाम संतोष कुमार मिश्रा (पिता-आत्मजः राम ललित मिश्रा, सोनभद्र उत्तर प्रदेश) का रहने वाला है। संतोष कुमार मिश्रा फर्जी पुलिस की आई डी कार्ड बनाकर सोनभद्र में लोगो को गुमराह कर नौकरी के नाम मोटा रकम वसूल करके भागने की तैयारी में है। ये सोनभद्र या कहीं भी किसी भी टोल टैक्स पर पुलिस का फर्जी आई डी कार्ड दिखा कर निकल जाता है। इसका आई डी कार्ड "यू. पी. पुलिस इन्वेस्टिगेशन"* व "पब्लिक सर्विस कमीशन" के नाम पर बना हुआ है और बेखौफ जनपद सोनभद्र में ये घूम रहा है और लोगो को गुमराह कर रहा है। पैसे की लूट में इसकी लवर प्रिंसी भी इसका सा