सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

एचआर में आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस के नफे नुकसान को सरल तरीके से समझाती यह किताब : AI Revolution in HRM -The New Scorecard 

एचआर में आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस के नफे नुकसान को सरल तरीके से समझाती यह किताब : AI Revolution in HRM -The New Scorecard 



विजय शुक्ल 


लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया 


दिल्ली।  आजकल धीरे धीरे हमारी छोटी मोटी जरूरतों को आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस और तकनीक आसान बनाती जा रही हैं और ऐसा ही प्रयोग अब बड़े बड़े औद्योगिक घराने अपने मानव संसाधन को और ज्यादा सटीक और उपयोगी बनाने के लिए कर रहे हैं।  कुल मिलाकर ऐसे सारे काम जिनको मानव संसाधन में कोई मानव करता था अब मशीनों की मदद से किया जा रहा हैं।  या यूं कहे मशीनों की मदद से आसान बनाया जा रहा हैं। 


अब सवाल यह हैं कि  मानवीय भूलो को और उनके पारखी समझ को क्या यह मशीनी दुनिया वाली सोच पूरे का पूरा प्रयोग में ला पाएगी या नहीं।  इन सबका पूरा आकलन और सावधान रहने की छोटी से छोटी बाते मानव संसाधन क्षेत्र में कार्यरत लोगो को समझाने में यह किताब काफी हद तक सफल हैं।  इस किताब को अश्वनी कुमार उपाध्याय (Associate Professor, Symbiosis Institute of Media and Communication, Pune, India),कोमल खंडेलवाल (Assistant Professor, OB & HRM, CMS Business School, Jain (Deemed-to-be University), Bengaluru, India ) और जयंती आयंगर (globally published journalist and  former Chief of Bureau of The Economic Times) ने लिखी हैं। 


आप इस किताब को पढ़े अगर आप खुद उद्यमी हैं या मानव संसाधन के क्षेत्र से जुड़े हैं।  कुल मिलाकर यह किताबे फुल  पैसा वसूल टाइप के मामले में फिट बैठती हैं। मेरे आकलन और मेरी समझ से परे यह किताब आपको आज के वास्तविक भागदौड़ में नफे नुकसान के साथ साथ अपनी महत्ता बनाये रखने के जरूरी दांव पेंच समझाने में भी कारगर होगी। 


आप इस किताब की ज्यादा जानकारी यहाँ से ले सकते हैं :


AI Revolution in HRM | SAGE Publications Inc


टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वेतन तो शिक्षक का कटेगा भले ही वो महिला हो और महिला अवकाश का दिन हो , खंड शिक्षा अधिकारी पर तो जांच जारी है ही ,पर यक्ष प्रश्न आखिर कब तक  

महिला अवकाश के दिन महिलाओ का वेतन काटना तो याद है , पर बीएसए साहब को डीएम साहब के आदेश को स्पष्ट करना याद नहीं - शीतल दहलान , जिला अध्यक्ष , प्राथमिक शिक्षक संघ   सिस्टम ही तो है वरना जिस स्कूल में छः और आठ महीने से कोई शिक्षक नहीं आ रहा वहा साहब लोग जाने की जरूरत नहीं समझते  , पर महिला हूँ चीख चिल्ला ही सकती हूँ , पर हूँ तो निरीह ना - शीतल दहलान  विजय शुक्ल लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया दिल्ली।  खनन ,और शिक्षा दो ही ऐसे माफिया है जो आज सोनभद्र को दीमक की तरह खोखला कर रहे है, वो भी भ्रष्ट और सरपरस्ती में जी रहे अधिकारियो की कृपा से। बहरहाल लोकल न्यूज ऑफ इंडिया और कई समझदार लोग शायद शिक्षक पद की गरिमा को लेकर सोनभद्र में चिंतित नजर आते है।   चाहे म्योरपुर खंड शिक्षा अधिकारी को लेकर बेबाक और स्पष्ट वादी विधायक हरीराम चेरो का बयान हो कि   सहाय बदमाश आदमी है   या फिर ऑडियो में पैसे का आरोप लगाने वाली महिला शिक्षिका का अब भी दबाव में जीना और सिस्टम से लगातार जूझना जो जांच की छुरछुरछुरिया के साथ आरोपी खंड शिक्षा अधिकारी को अपने रसूख और दबाव का खेल घूम घूम कर साबित करने की इजाजत देता हो। 

विद्यालयों में शिक्षकों की उपस्तिथि को लेकर जारी शासनादेश से पैदा हुई उहापोह की स्तिथि साफ़ करे बीएसए - शीतल दहलान , जिला अध्यक्ष , उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ , सोनभद्र 

विद्यालयों में शिक्षकों की उपस्तिथि को लेकर जारी शासनादेश से पैदा हुई उहापोह की स्तिथि साफ़ करे बीएसए - शीतल दहलान  , जिला अध्यक्ष , उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ , सोनभद्र        सूर्यमणि कनौजिया  लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया  सोनभद्र। जनपद में ताजा ताजा जारी एक शासनादेश से शिक्षकों में एक उहापोह की स्तिथि बन गयी है जिसको लेकर उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ की जिला अध्यक्ष शीतल दहलान ने जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी से मांग की है कि  वो इसको स्पष्ट करे।  पूरा मामला  मुख्य सचिव उत्तर प्रदेश के दिनांक 30/08/2020 के शासनादेश संख्य2007/2020/सी.एक्स-3 के गाइड लाइन अनुपालन के क्रम में जिला मैजिस्ट्रेट /जिलाधिकारी सोनभद्र के दिनांक 31/08/2020 के पत्रांक 5728/जे.एनिषेधाज्ञा/ कोविड- 19/एल ओ आर डी /2020 के आदेशानुसार जिसके पैरा 1 मे उल्लिखित निम्न आदेश पर हुआ है।  जिसमे    1. समस्त स्कूल कॉलेज, शैक्षिक एवं कोचिंग संस्थान सामान्य शैक्षिक कार्य हेतु 30 सितम्बर 2020 तक बंद रहेंगे। यद्यपि निम्न गतिविधियों को शुरू करने की अनुमति होगी a. ऑनलाइन शिक्षा हेतु अनुमति जारी रहेगी और इसे प्रोत्साहित

सोनभद्र के बंटी-बबली का खेल अब जनता के सामने

सोनभद्र के बंटी-बबली का खेल अब जनता के सामने यू. पी. पुलिस इन्वेस्टिगेशन व पब्लिक सर्विस कमीशन का अपना फर्जी आई-डी कार्ड बनाकर जॉब लगवाने को लेकर लोगो का लाखो रुपए लूटा   मोहित मणि शुकला लोकल न्यूज़ ऑफ़ इंडिया सोनभद्र । एक ऐसा फर्जी पुलिस जो कि जनपद सोनभद्र का निवासी है और अपने फर्जी आई डी कार्ड के दम पर लोगो को जॉब दिलवाने के नाम पर व आने जाने के लिए टोल टैक्स पर पुलिस का रोब दिखा कर टोल टैक्स न देना फर्जीवारा करता आ रहा है। इस शख्स का नाम संतोष कुमार मिश्रा (पिता-आत्मजः राम ललित मिश्रा, सोनभद्र उत्तर प्रदेश) का रहने वाला है। संतोष कुमार मिश्रा फर्जी पुलिस की आई डी कार्ड बनाकर सोनभद्र में लोगो को गुमराह कर नौकरी के नाम मोटा रकम वसूल करके भागने की तैयारी में है। ये सोनभद्र या कहीं भी किसी भी टोल टैक्स पर पुलिस का फर्जी आई डी कार्ड दिखा कर निकल जाता है। इसका आई डी कार्ड "यू. पी. पुलिस इन्वेस्टिगेशन"* व "पब्लिक सर्विस कमीशन" के नाम पर बना हुआ है और बेखौफ जनपद सोनभद्र में ये घूम रहा है और लोगो को गुमराह कर रहा है। पैसे की लूट में इसकी लवर प्रिंसी भी इसका सा