सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

जज साहब ........ एसोसिएशन वाले बाबूजी को बोलिये जरा वो डीडीए वाले साहब अंसार अली जी से कहकर यह खिड़कियाँ खुलवा दें, शायद यह वेंटिलेशन या आग से नेहरू प्लेस को बचाने के लिए बनी हो !



(इस निर्माण की अनुमति या इसका नक्शा या उसकी जानकारी रखने और देने का हक़ डीडीए वाले बाबूजी या एमसीडी महकमे के पास हैं )



विजय शुक्ल 
लोकल न्यूज ऑफ इंडिया 
दिल्ली।  सबसे पहले अपने माननीय अदालत से माफ़ी कि  मैंने जज साहब के नजर में लाने के लिए उनसे अपील की।  अपील जरूरी थी क्योंकि अभी हाल फिलहाल में माननीय अदालत ने स्वतः संज्ञान लेते हुए एक पीआईएल के आधार पर आग लगने की घटना पर एमसीडी और डीडीए के साथ साथ फायर ब्रिगेड को कोर्ट में  बुलावा भेजा था।  और यह एक नेक पहल थी क्योकि अदालत ने एक दिन पहले लगी एक कपड़े के शोरूम में आग को एक सही नजरिये से देखा।  और एसोसिएशन के इशारे पर काम  कर रहे डीडीए, एमसीडी और ना जाने क्यों किसी एक ही जगह पर पुलिसिया चौकसी को उर्मिला देवी नामक महिला के अलावा कुछ दिखता क्यों नहीं ?

माना पुलिस मजबूर हैं इधर एसोसिएशन उधर अदालत, आखिर सुने तो सुने किसकी ? अब मजबूरी में उर्मिला देवी की मजदूरी खत्म करके ही उनको काम चलाना पड़ता हैं आज से नहीं कई सालो से।  क्योकि कई सालो से इस उर्मिला देवी ने मानो नेहरू प्लेस को खतरे में डाल  रखा हो। तभी तो वो हिमांशु चौकीदार रोजाना पुलिस मुखबरी का अपना रोल बखूबी अदा कर  रहा हैं।  

पर सवाल एक हैं कि  क्या पुलिस ने कभी नेहरू प्लेस में बन रहे इन चबूतरे या डीडीए के बनाये गए ढाँचे में तोड़  मरोड़ कर उसको नया रूप देते यह बड़े लोग और उनकी करतूत को आला अधिकारियों के पास दिखाने का काम किया हैं क्या ? नक्शा हैं क्या जैसा आसान सवाल पूछा हैं क्या ? बन रहा हैं तो कागज़ तो मजबूत होंगे ही और अजा छुट्टी के दिन भला कागज़ कैसे मिले पर ठेकेदार तो आज काम  कर सकते हैं क्योकि आज फायर ब्रिगेड की गाड़िया यहाँ से गुजरेगी नहीं छुट्टी का दिन जो हैं। 

 क्या अखबार की या मेरे इस लेख को कोई एसोसिएशन वाला या डीडीए एमसीडी का आला अधिकारी महोदय माननीय अदालत के संज्ञान में लाने का कष्ट करेंगे। शायद ना ...... 


(यह आग से बचाव और इन इमारतों के वेंटिलेशन का आसान तरीका हैं पर यह एसोसिएशन बोले तो फोना वाले सिंह साहब को  कौन समझाए कि  उन्होंने यह खिड़किया बंद करके बढ़िया शीशे का दरवाजा जो खोल लिया हैं।  (एसोसिएशन के नाम पर रुतबे का खेल समझने के लिए ज़रा जोर डालकर यह लाल घेरे वाले ढांचे को और फिर सफ़ेद घेरे वाले ढाँचे को देखे )अब जब सिंह साहब का मामला हैं  तो डीडीए भला  इस अतिक्रमण मामले में  दखलंदाजी क्यो करे )



आखिर यह आग से बचाव के लिए बनाये गए खिड़कियों को किसने बंद करवाया ? क्या यह निर्माणाधीन चबूतरा अपनी मर्जी की दुकान या ठीहा जमाने का कोई नया अड्डा हैं या डीडीए और एमसीडी का कोई नया डेवलपमेंट प्लान जो एसोसिएशन के मुखिया के लिए  चबूतरे के रूप में दिख रहा हैं ? क्या यह आग बुझाने की बाल्टी का चबूतरा हैं नेहरू प्लेस की आग से रक्षा करने के लिए यह भी शायद डीडीए के अंसार अली जी एसोसिएशन के मुखिया से पूछकर बता पाए क्योकि वो लिखते पढ़ते और कागज़ बनाते बिगाड़ते ही देर रात तक उनके इशारे पर हैं। ऐसा कुछ तस्वीरें बताती हैं। 
(पार्किंग के ऊपर यह ढांचा सीढ़ियों के बीच जुगाड़ करके फोना वाले सिंह साहब के लिए स्पेशल डीडीए के अंसार अली साहब ने मंजूर किया होगा ऐसा संदेह हैं।  हो सकता हैं यह डीडीए का कोई स्पेशल आग से बचाव के लिए बनाया गया निर्माण हो जानकारी के लिए संपर्क करे डीडीए वाले बाबूजी यानी अंसार अली साहब से )

आप एक नजर जरूर डाले इन तस्वीरो पर क्यों कि आपकी निगाहो से यह आग के पीछे का पूरा खेल इस चबूतरे पर चढ़कर उस नए बन रही नयी कमाई की दास्तान सुनने के लिए आपको थोड़ा रास्ता सुझाएगा।  पर ना आप नक्शा मांग सकते हैं और ना मैं।  और वो बंद खिड़किया और यह नयी शीशे वाली खुली जगह सब डीडीए के अंसार अली जी की कृपा से तो शायद ही बन रही होगी क्योकि उनको एसोसिएशन ने बोला क्या ?

आज की खबर में हमने ९५ , ११४ , ११६ या फिर १८५ वाले अनुमति प्राप्त हॉकर का जिक्र नहीं किया हैं वो अगली खबर में आएगा कि  कैसे अंसार अली साहब कागज़ पर आठ दिन में गुलाटी मारकर एसोसिएशन बोले तो फोना वाले सिंह साहब के आदेश पर अपना ही आदेश बदलते हैं।  आखिर क्यों  सवाल उर्मिला देवी के लिए  होते हैं और  तलाश निर्मला देवी की होती हैं।  लिपकीय त्रुटि या खेल ?

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बेकार नहीं जाएगा ग्रामीणों का अंगूठा, होगा मान्य मतदान - एडीएम सोनभद्र

अगर   पहचान पत्र की पुष्टि के बाद अगूंठा सही से दबा कर मतपत्रों पर लगाया गया होगा तो वो मान्य होगा। और जनपद के सभी मतगणना केन्द्रो पर मान्य होगा - एडीएम सोनभद्र  विजय शुक्ल  लोकल न्यूज ऑफ इंडिया  सोनभद्र , दिल्ली।   हजार किलोमीटर दूर बैठे बैठे मुझे मेरे टोली ने खबर दी की इस बार चुनाव में ज्यादातर भोले भाले आदिवासी अगूंठा ठोककर चले आये हैं और ना जाने कितने प्रधान , पंचायत सदस्य , जिला पंचायत सदस्य का भविष्य इन अंगूठो  के सहारे निपट जाय अगर यह सब अमान्य करार दिए जाय।  सोनभद्र हैं सब कुछ जायज हैं पर जब अंगूठा लगाने और उसकी वजह से उदास आदिवासी मतदाताओं का दुःख पता चला जिन्होंने वाकई में यह आखिरी रात को और ज्यादा दर्द भरी बनाने के लिए काफी था खासकर उन उम्मीदवारों के लिए जिनको इन अंगूठे के मालिकानों से बस इस घड़ी के लिए उम्मीद थी क्योकि इन आदिवासी अंगूठा धारको का मालिकाना हक़ कल के बाद से फिर पांच साल के लिए इन्ही प्रधान जी और पंचायत जिला पंचायत सदस्य लोगो की कृपा पर निर्भर करेगा और उनका अंगूठा तो आपको पता हैं कि  कब लगेगा ? इसी उंहापोह की स्तिथि को सुलझाने का काम करने के लिए हमने डीएम सोनभद्र

अड़ीबाज़ एवं ब्लैकमेलर फैसल अपने आप को पत्रकार एवं FMSCI का मेंबर बताने वाला निकला फर्जी

  लोकल न्यूज ऑफ इंडिया  भोपाल।  राजधानी भोपाल में एक ऐसा मामला सामने आया है जहां फैसल मोहम्मद खान नाम का शातिर व्यक्ति अपने आपको फेडरेशन ऑफ मोटर स्पोर्ट्स क्लब ऑफ इंडिया FMSCI का सदस्य अपने आप को पत्रकार बता रहा था, जिसको लेकर वह लोगों के साथ फोटोग्राफी के नाम पर ब्लैकमेलिंग का काम करता है कई मोटर स्पोर्ट्स इवेंटो की वीडियो बनाकर लोगों को ठगने का काम भी इस शातिर द्वारा किया जा रहा था। इसी को लेकर जब एफएमएससीआई के पदाधिकारियों से इस विषय पर बात करी गई तो उन्होंने बताया कि इस नाम का हमारा कोई भी सदस्य भोपाल या आस पास में नहीं हैं, एफएमएससीआई के वरिष्ठ अधिकारियों ने बताया कि यह ब्लैकमेलिंग कर लोगों से मोटर स्पोर्ट्स इवेंट के नाम पर पैसे हेटने का काम करता है। जब कोई ऑर्गेनाइजर मोटर स्पोर्ट्स इवेंट करते हैं तो यह वहां पर कई अन्य साथियों के साथ मिलकर अपनी धोस जमाकर, फोटोग्राफी के काम को लेकर जबरन उन ऑर्गनाइजर पर दबाव बनाता है एवं ब्लैकमेलिंग कर उनसे पैसे हेटने का काम इसके द्वारा किया जाता है।

योगी जी आपका यह बेसिक शिक्षा मंत्री ना तो तीन में न तेरह में ......

शिक्षक नहीं बंधुआ मजदूर और दास प्रथा वाली फीलिंग आती है, अँग्रेजो की सरकार शायद ऐसे ही रही होगी। अब हम तो खतरे में हैं ही लगता हैं अब सरकार भी खतरे में हैं  - शीतल दहलान , जिला अध्यक्ष , महिला शिक्षक संघ , सोनभद्र  1671 शिक्षकों की मौत का आकड़ा चुनाव के दौरान का हैं।  बड़ा अजब गजब हैं यह मंत्री के तीन मौत का आकड़ा। यह शर्म की बात हैं।  मौत पर मजाक करना दुखद हैं. बाकी डिपार्टमेंट के लोगो की तो वैक्सीनेशन तक करवाई गयी पर शिक्षकों को तो बस मौत के बाजार में उतार दिया गया  - इकरार हुसैन, ब्लॉक अध्यक्ष , म्योरपुर, सोनभद्र , प्राथमिक शिक्षक संघ  विजय शुक्ल  लोकल न्यूज ऑफ इंडिया  दिल्ली। मीडिया से दो गज की सोशल डिस्टेंसिंग बनाकर रखने की हिदायत देने वाले रामराज में सब कुछ ठीक ठाक हैं क्योंकि अब गंगा में गश्त लगाती पुलिस हैं लाशो को बेवजह वहाँ भटकने से रोकने में।  क्योकि लड़ाई तो सारी  मुर्दा लोगो को लेकर ही हैं यूपी में।  तो अब यूपी के बेसिक शिक्षा मंत्री जिन्होंने लाशो की गणित में विशारद की होगी शायद का विवादित बयान उसी की एक बानगी हैं। जिनके हिसाब से चुनाव में कुल शिक्षकों में सिर्फ तीन की मौत ह