सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

जी यही तो हैं अभिनेत्री हर्षदा पाटिल - मुस्कराहट बांटती रील और रियल लाइफ दोनों जगह



विजय शुक्ल 

लोकल न्यूज ऑफ इंडिया 

दिल्ली।  अभिनेत्री हर्षदा पाटिल (Harshada Patil) का अभिनय से हटकर एक अपना अलग अंदाज हैं।  वो बिंदास मराठी बाला की तरह अपने दोस्तों के बीच में हंसती मुस्कुराते फुर्सत के पल अपने आप ढूंढ लेती हैं। शायद इसके पीछे उनके अंदर का छुपा हुआ बचपन हो।  आपको बता दें कि  हर्षदा पाटिल अभिनय की दुनिअय में आज उस मुकाम पर खड़ी हैं जहां पहुंचने में लोगो को कई बरस लग जाते हैं और उनकी तुलना आज अपने समय की मशहूर हुस्न और अभिनय की मल्लिकाओ हेमा मालिनी और श्रीदेवी से होती हैं और उसके पीछे का सिर्फ उनका एक ही राज हैं वो हैं खुले दिल से खिलखिलाकर हंसना। 



आजकल हर्षदा पाटिल दक्षिण भारत और मुंबई की लगातार अपने भविष्य के असाइनमेंट्स पर काम  कर रही हैं और ऐसे मुस्कुराते हुए पल के बीच वो महामारी से बचाव का अपना सामजिक कर्तव्य भी निभा लेती हैं तो  अपने पिता और माता के साथ भी वक़्त साँझा करने से नहीं चूकती।  उनको देखकर या मिलकर उनकी उस शख़्शियत  का अंदाजा लगाना बेहद मुश्किल होता हैं जो उन्होंने अक्षय कुमार , गोविंदा जैसे नामचीन कलाकारों के साथ अभिनय करके बनाया हुआ हैं। 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

नायाब सितारा"

कारनामों की भब्य चमक के साथ एक बार फिर सुर्खियों में छाया 'म्योरपुर' भब्य व्यवस्था से शिक्षक समाज हुआ स्तब्ध, 'म्योरपुर के गौरव'का हुआ स्वागत  लग गया मजमा, बढ गया रुतबा... सिर गर्व से हुआ ऊचा, आशा की किरण और व्यवस्था बचाने की दिव्य मुहिम के बीच  निखरने लगी "आभा" मेधा की चमक, शिक्षक सतर्कता के साथ कर्मयोगी का हुआ जय- जयकार!  चमकते सूरज की तरह परीक्षाओं की तपिश में कुन्दन बनकर निकले 'नये खण्ड शिक्षा अधिकारी' निष्ठा फैलाने की ललक, परम्परा,सिद्धांत त्याग,एवं समर्पण के बीच बेसिक शिक्षा म्योरपुर के गौरव बने "विश्वजीत" "साधना द्विवेदी" लोकल न्यूज़ आफ इन्डिया म्योरपुर, सोनभद्र। परिन्दों को मन्ज़िल मिलेगी यकीनन ए फैले हुए उनके पख बोलते है वे लोग रहते हैं खामोश अक्सर जमाने में जिनके हुनर बोलते है...  जैसे मेधा किसी की मोहताज नहीं होती... बड़े सपने कुछ यूँ ही नहीं पूरे होते उसी तरह कुशल प्रशासक का तमगा यूँ ही नहीं मिलता उसके लिए व्यक्तित्व एवं कृतित्व से विभाग के विविध रगों को सयोजने का काम करना पड़ता है, कुछ इन्ही पक्तियो से प्रेरित गजब के रस

आखिर देश की सबसे बड़ी क्रेडिट कोआपरेटिव सोसाइटी आदर्श क्रेडिट कोआपरेटिव सोसाइटी लिमिटेड के लाखो निवेशकों को रोजगार और जीविका देने की गति पर पूर्ण विराम क्यों ?

  (फाइल फोटो) विजय शुक्ल  लोकल न्यूज ऑफ इंडिया  दिल्ली।  अखबारों की सुर्खियों पर नजर डाले तो आपको अंदाजा लगेगा कि  वास्तविकता में लगभग दो दशकों तक लाखो  निवेशकों के भरोसे पर खरी साबित होने वाली आदर्श क्रेडिट कोआपरेटिव सोसाइटी  लिमिटेड पर आखिर  जांच एजेंसियों ने  प्रवर्तन निदेशालय ने ऐसी कौन सी गड़बड़ी पाई कि इस पर पूर्ण विराम लगाने की ओर उसकी सभी सम्पत्तिया और बैंकिंग सीज करके अब तक यानी लगभग चार साल से एक परिसमापक नियुक्ति तक करवाने में अक्षम रही।  सवाल अगर गड़बड़ी का हैं तो कार्रवाई सुनिश्चित करना ही ऐसी एजेंसियों का धर्म हैं और स्वतः संज्ञान लेकर भी यह अपनी कार्रवाई कर सकती हैं यह भी इनके अधिकार क्षेत्र का यही मामला हैं पर सरकार और सियासी गलियारों के अलावा समाज में रोजगार , बचत और लोगो की जीविका का साधन बनी देश दुनिया में क्रेडिट कोआपरेटिव क्षेत्र में दो दशकों तक बिना किसी विवाद या शिकायतों के चलने वाली इस कोआपरेटिव सोसाइटी पर क्या वाकई लें दें की गड़बड़ी या मनी लॉन्ड्रिंग के कारण ताला लटका या इसमें कोई राजनीतिक रंजिश जैसा भी कोई एंगेल हैं ? यह तो शायद जांच करने के बाद संबंधित विभागीय या

लगभग सोलह लाख निवेशकों वाली आदर्श क्रेडिट कोआपरेटिव सोसाइटी लिमिटेड पर आखिर क्यों हैं सरकारी चुप्पी

विजय शुक्ल  लोकल न्यूज ऑफ इंडिया  दिल्ली। कई ऐसे मामले हैं जो आम जनता से कोसो दूर अपने आप में कागजो में या फिर कागजी कार्रवाई और सरकारी निर्णय के आस में दम तोड़ रहे हैं और साथ  ही दम तोड़ रही हैं उन निवेशकों की उम्मीदे जिन्होंने बड़ी आस में इस आदर्श क्रेडिट कोआपरेटिव सोसाइटी लिमिटेड में अपनी गाढ़ी कमाई लगाई होगी।  निवेशकों की संख्या हजार दो हजार नहीं केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर साहब के दिए गए बयान की माने तो लगभग सोलह लाख की हैं जो न जाने कितने सदस्यों के परिवार वाली होगी इसका अंदाजा अगर सोसाइटी को कागजी चंगुल से आजादी दिलाने की लड़ाई लड़ रहे लोगो की माने तो लगभग करोड़ पार हैं।  यह माना जा रहा हैं कि वित्तीय लेनदेन में गड़बड़ी यानी मनी लॉन्ड्रिंग के चक्कर में इस कंपनी की सम्पत्तिया और इसके खाते सीज कर दिए गए थे जो कई अलग अलग एजेंसियों द्वारा की गयी कार्रवाई के हिसाब से हुए थे।  परिसमापक ने इस कार्रवाई को अपीलीय न्यायाधिकरण, दिल्ली के समक्ष अपील की हैं और मौजूदा समय में कोई भी संपत्ति परिसमापक के पास निहित नहीं हैं।  एक बार इस परिसंपत्तियों को जारी कर देने पर और उनका परिसमापन करने के