सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

शिमला में भूस्खलन से गिरा सात मंजिला भवन, कई अन्यों को खतरा

 



सुशील कुमार शर्मा 

लोकल न्यूज ऑफ इंडिया 

शिमला. हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला के कच्चीघाटी इलाके में भारी बारिश के बाद तबाही का सिलसिला शुरू हो गया है। भूस्खलन के चलते यहां बना सात मंजिला भवन गुरुवार शाम भरभराकर गिर गया। भवन के मलबे से पहाड़ी के निचली तरफ बना दो मंजिला भवन और एक मकान भी मलबे में तबदील हो गया। इस भवन के गिरने से इसकी पिछली तरफ बने एक होटल समेत दो और बहुमंजिला भवनों को खतरा पैदा हो गया है। इनकी नींव भी हिल गई है। यह कभी भी गिर सकते हैं। यही नहीं पहाड़ी पर निचली ओर स्थित कई भवनों और मकानों में भी दरारें आ गई हैं।

प्रशासन ने इन्हें खाली करवा दिया है। हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला के कच्चीघाटी इलाके में भारी बारिश के बाद तबाही का सिलसिला शुरू हो गया है। भूस्खलन के चलते यहां बना सात मंजिला भवन गुरुवार शाम भरभराकर गिर गया। भवन के मलबे से पहाड़ी के निचली तरफ बना दो मंजिला भवन और एक मकान भी मलबे में तबदील हो गया। इस भवन के गिरने से इसकी पिछली तरफ बने एक होटल समेत दो और बहुमंजिला भवनों को खतरा पैदा हो गया है। इनकी नींव भी हिल गई है। यह कभी भी गिर सकते हैं। यही नहीं पहाड़ी पर निचली ओर स्थित कई भवनों और मकानों में भी दरारें आ गई हैं। प्रशासन ने इन्हें खाली करवा दिया है। 

मौके पर पहुंचे नगर निगम उपमहापौर शैलेंद्र चौहान ने बताया कि यह सात मंजिला मकान गुरमीत सिंह का है जो रामबाजार में कारोबारी हैं। स्थानीय लोगों के अनुसार करीब दो हफ्ते पहले ही भवन की नींव से मलबा खिसकने लगा था। आसपास के कई और मकानों में भी दरारें देखी गई थीं। भवन को बचाने के लिए कारोबारी ने नींव के समीप रिटेनिंग वॉल लगाने का फैसला लिया।

कुछ दिन पहले ही यह रिटेनिंग वॉल लगाई गई। लेकिन बुधवार को इसमें भी दरारें पड़ गईं। इसकी नींव के पास बना एक मकान भूस्खलन से ढह गया। यहां बने निगम के शौचालय भी मलबे में तबदील हो गए। स्थानीय पार्षद संजय परमार से सूचना मिलते ही गुरुवार दोपहर करीब 12 बजे नगर निगम उप महापौर और निगम अधिकारी मौके पर पहुंचे और आसपास के भवनों को खाली करवाया।

सात मंजिला भवन पहले टेढ़ा होकर साथ लगते एक और भवन पर टिक गया। फिर शाम पांच बजकर 40 मिनट पर यह दूसरे भवन की रेलिंग और छज्जे तोड़ते हुए ढह गया। बता दें, कच्चीघाटी का यह इलाका सिंकिंग जोन है। एनएच से सटे इस क्षेत्र में कई बहुमंजिला भवन बने हैं। 

इनमें से ज्यादातर के नक्शे पास नहीं हैं, जहां सात मंजिला भवन ढहा है उसके नीचे की ओर नाले के पास बने भवनों में भी कुछ दिन से दरारें आना शुरू हो गई हैं। इनमें से कई मकानों की नींव और बेसमेंट भी ढह चुकी है। यदि बारिश जारी रहती है तो इस पहाड़ी पर बने आधा दर्जन भवन जमींदोज हो सकते हैं। एकसाथ कई भवनों में दरारें पड़ने के बाद किरायेदारों और भवन मालिकों ने भी यहां से पलायन शुरू कर दिया है।

मांगा गया है रिकॉर्ड : एपी

नगर निगम के आर्किटेक्ट प्लानर देवेंद्र मिस्टा ने बताया कि भवन का नक्शा पास है या नहीं इस पर अभी स्थिति स्पष्ट नहीं है। भवनमालिक से इसका रिकॉर्ड मांगा जा रहा है। भवनमालिक कह रहे हैं कि उन्होंने साडा से इसे पास करवाया है। ऐसे में दस्तावेज देखने के बाद ही कुछ बता पाएंगे। फिलहाल साथ लगते असुरक्षित भवनों को खाली करवा दिया गया है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

रामपुर पुलिस ने धरा नकली सीबीआई ऑफिसर, पंचायतों में खंगालता था रिकॉर्ड

  गब्बर सिंह वैदिक लोकल न्यूज ऑफ इंडिया रामपुर बुशहर में एक बड़ा ही रोचक मामला देखना को मिला है। यहाँ एक काशपाट निवासी व्यक्ति नकली सीबीआई ऑफिसर बन पंचायतों में जाकर रिकॉर्ड खंगाल खूब धौंस जमाता। बीती रात मुस्तैदी दिखाते हुए पुलिस ने उक्त तथाकथित नकली सीबीआई अफसर को गिरफ्तार कर दिया, जिसे आज अदालत में पेश किया जाएगा। जानकारी के अनुसार यह नकली सीबीआई अधिकारी काफी लंबे समय से रामपुर और निरमंड क्षेत्र में सक्रिय था। उक्त व्यक्ति की पहचान 33 वर्षीय चरणदास गांव काशपाट तहसील रामपुर के तौर पर हुई है। पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक बीते रोज निरमंड क्षेत्र के अरसू पंचायत के उपप्रधान उमेश कुमार ने इस मामले की जानकारी पुलिस को दी। उन्होंने बताया कि नकली सीबीआई ऑफिसर बनकर चरणदास पंचायत कार्यालय आया और उनसे पंचायत रिकॉर्ड मांगा। इसके पश्चात बीते रोज चरणदास ने पंचायत उपप्रधान उमेश कुमार को रामपुर स्थित सर्किट हाउस अपने पंचायत रिकार्ड के साथ बुलाया था। जिसपर उमेश को शक हुआ और उसने तुरंत पुलिस में शिकायत दर्ज की। बताते चले कि चरणदास अपने गले मे सीबीआई का आईकार्ड लटकाकर रामपुर व निरमंड क्षेत्र की पं

चार दिन से लापता महिला का अभी तक नही मिला कोई सुराग

  गब्बर सिंह वैदिक लोकल न्यूज ऑफ इंडिया  रामपुर के साथ लगते क्षेत्र तुनन में एक महिला के गायब होने का समाचार है। ब्रौ थाना से मिली जानकारी के मुताबिक एक महिला 17 फ़रवरी को अपने घर से स्कूल में ड्यूटी देने निकली थी लेकिन न तो महिला स्कूल पहुंची और न ही वापस घर लौटी है।महिला की सूचना स्कूल स्टाफ ने महिला के परिजनों को दी जिस पर परिजनों ने महिला की तलाश शुरू की लेकिन कहीं न मिली। दो दिनों तक गांववालों और रिश्तेदारों के यहां पूछताछ करने के बाद थक हारकर परिजनों ने पुलिस थाना ब्रौ में गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करवाई। पुलिस के मुताबिक 56 वर्षीय सेवती देवी पोशना गांव की रहने वाली है जो तुनन स्कूल में जलवाहक के पद पर तैनात है। 17 फरवरी को वह घर से स्कूल में डयूटी के लिए निकली है लेकिन इस दौरान न तो वह स्कूल पहुंची और न ही घर वापस लौटी है। ऐसे में परिवार वालों ने उसकी गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करवाई है। पुलिस महिला की तलाश कर रही है और उसके रिश्तेदारों से भी सम्पर्क किया जा रहा है।

प्रधानमंत्री मोदी जी के कार्यक्रम में जा रही बस पलटी 24 यात्री घायल

  मिठाई लाल यादव लोकल न्यूज़ ऑफ़ इंडिया मध्य प्रदेश:  मध्य प्रदेश शहडोल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यक्रम में शामिल होने जा रही यात्री बस शनिवार सुबह पलट गई हादसे में 24 लोग घायल हुए हैं घायलों को जिले के स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती करवाया गया है बस डिंडोरी जिले के धनवा सागर से शहडोल आ रही थी अनूपपुर जिले के पथरूआ घाट में मोड़ पर अनियंत्रित होकर पलट गई बस में लगभग 30 यात्री सवार थे डिंडोरी कलेक्टर विकास मिश्रा ने बताया कि बस मैं सवार सभी लोग प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यक्रम में शामिल होने के लिए शहडोल जा रहे थे