सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

इस बार फिजी में होगा 12वां विश्व हिंदी सम्मेलन

गिरमिटिया देश में बजेगा हिंदी का डंका



लोकल न्यूज ऑफ इंडिया 

दिल्ली। विश्व हिंदी सम्मेलन हिंदी भाषा का सबसे बड़ा अन्तर्राष्ट्रीय सम्मेलन है, जिसमें विश्व भर से हिंदी विद्वान, साहित्यकार, पत्रकार, भाषा विज्ञानी, विषय विशेषज्ञ तथा हिंदी प्रेमी जुटते हैं। अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर हिंदी के प्रति जागरूकता पैदा करने, समय-समय पर हिंदी की विकास यात्रा का आकलन करने, लेखक और पाठक दोनों के स्तर पर हिंदी साहित्य के प्रति सरोकारों को और दृढ़ करने, जीवन के विभिन्न क्षेत्रों में हिंदी के प्रयोग को प्रोत्साहन देने तथा हिंदी के प्रति प्रवासी भारतीयों के भावुकतापूर्ण व महत्त्वपूर्ण रिश्तों को और अधिक प्रगाढ़ बनाने एवं मान्यता प्रदान करने के उद्देश्य से 1975 में विश्व हिंदी सम्मेलनों की श्रृंखला आरम्भ की गई थी।

अंग्रेज जिस फिजी देश में भारतीयों को बंधुआ-मजदूर बना कर ले गए, वही गिरमिटिया लोग वहां मातृभाषा हिंदी का डंका बजाते रहे। उसी फिजी देश में 12वां विश्व हिंदी सम्मेलन होने जा रहा है। 12वें विश्व हिंदी सम्मेलन के परिप्रेक्ष्य में  अनुराधा पांडेय  ने विदेश मंत्रालय में संयुक्त सचिव रवीन्द्र जायसवाल से विशेष बातचीत की... प्रस्तुत है उस बातचीत के प्रमुश अंश:


12वां विश्व हिंदी सम्मेलन का आयोजन कहां और कब किया जा रहा है?

 इस बार 12वां विश्व हिंदी सम्मेलन का आयोजन फिजी में किया जा रहा है। यह पहला मौका है जब प्रशांत (पैसिफिक) क्षेत्र के किसी देश में यह सम्मेलन आयोजित किया जा रहा है। यह सम्मेलन अगले साल 15 से 17 फरवरी तक भारतीय विदेश मंत्रालय और फिजी सरकार द्वारा संयुक्त रूप से किया जा रहा है। इस सम्मेलन में भारत के विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर भारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व करेंगे। यह सम्मेलन फिजी के नाडी शहर में होगा।

फिजी में हिंदी की क्या स्थिति है?

फिजी में हिंदी भाषा न सिर्फ प्राइमरी, सेकेंडरी स्कूलों, यूनिवर्सिटीज में पढ़ाई जाती है, बल्कि फिजी के संविधान में इसे आधिकारिक भाषा का दर्जा हासिल है। फिजी में हिंदी की शुरुआत 1879 से 1916 के बीच मानी जाती है। उस समय फिजी और भारत पर अंग्रेजी शासन था। बताया जाता है कि उस समय गन्ना के खेतों में काम करने के लिए भारत से करीब 60,000 मजदूरों को फिजी लाया गया था। इनमें अधिकतर लोग उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और बिहार के थे। संयुक्त राष्ट्र (2020) के अनुसार, फिजी की जनसंख्या करीब 8,96,000 है और उनमें से 30 प्रतिशत से अधिक लोग भारतीय मूल के हैं।

 फिजी में हिंदी प्रयोगशाला खोलने की बात की गई थी?

फिजी में हिंदी की शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए भारत की ओर से एक भाषा प्रयोगशाला भेंट की जाएगी, जिसके माध्यम से लोगों को सुगमता से हिंदी सीखने में मदद मिलेगीl

 इस सम्मेलन के शुभंकर (लोगो) का निर्माण कैसे किया गया?

विश्व हिंदी सम्मेलन के शुभंकर का चयन एक विश्वस्तरीय प्रतिस्पर्धा के माध्यम से किया गया। इसके लिए 1436 प्रविष्टियां प्राप्त हुई थीं और इनमें से 78 प्रविष्टियों पर अंतिम रूप से विचार करने के बाद मुंबई के मुन्ना कुशवाहा द्वारा परिकल्पित शुभंकर का चयन किया गया। विजेता को 75 हजार रुपये का नकद पुरस्कार दिया जाएगा।

देश के विदेश मंत्री श्री एस.जयशंकर ने सम्मेलन के लोगो और वेबसाइट का शुभारंभ किया। इस दौरान विरासत और कला मंत्रालय की स्थायी सचिव अंजीला जोखान ने कहा कि पैसिफिक क्षेत्र में इस सम्मेलन का आयोजन करने वाला पहला देश बनना फिजी का सौभाग्य है।

इस सम्मेलन का विषय क्या रखा है और कितने सत्रों में इसका आयोजन किया जाएगा?

इस सम्मेलन का विषय -परंपरागत ज्ञान से कृत्रिम मेधा तक- रखा गया है और यह सम्मेलन 8 विशेष सत्रों के साथ-साथ हिंदी के काल दर काल हिंदी का दायरा कैसे व्यापक होता गया इस विषय पर आधारित होगा।

अब तक कितनी बार विश्व हिंदी सम्मेलनों का आयोजन किया गया है ?

अब तक दुनिया के 11 अलग-अलग देशों में विश्व हिंदी सम्मेलन का आयोजन किया जा चुका है। फिजी के साथ ही न्यूजीलैंड, सिंगापुर, मॉरीशस समेत कई देशों में हिंदी भाषा का बहुत ज्यादा इस्तेमाल होता है।

संयुक्त राष्ट्र संघ में हिंदी की क्या स्थिति है?

संयुक्त राष्ट्र संघ में हिंदी को आधिकारिक भाषा के तौर पर मान्यता दिलाने के लिए विदेश मंत्रायल लगातार प्रयासरत है। यूनेस्को द्वारा अलग-अलग समाचार पत्रों, सोशल मीडिया और अन्य प्लेटफॉर्म पर हिंदी का इस्तेमाल किया जाता है। मेरा मानना है कि हिंदी को आधिकारिक भाषा के रूप में मान्यता देने में अभी थोड़ा समय लग सकता है।

इस कार्यक्रम से किन्हें लाभ प्राप्त होगा?

 सरकार अंतरराष्ट्रीय स्तर पर हिंदी के प्रचार-प्रसार के लिए उल्लेखनीय प्रयास कर रही है। मेरा मानना है कि भारत और विदेश में रहने वाले हिंदी प्रेमी, विद्वान तथा शिक्षण संस्थान इस सम्मेलन में उत्साहपूर्वक भाग लेंगे और इसका भरपूर लाभ उठाएंगे।

( यह साक्षात्कार पत्रकारिता के पारखी वरिष्ठ पत्रकार श्री प्रभात रंजन दीन जी द्वारा अग्रसारित हैं उनका आभार)

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

टैंकर ने बाइक सवार को मारी सामने से टक्कर बाइक चालक की मौत

प्रदीप कुमार जायसवाल लोकल न्यूज आँफ इंडिया  बीजपुर,सोनभद्र।शुक्रवार की सुबह अमन केसरी पुत्र शिव लोचन केसरी निवासी चेतवा किसी कार्य से नेमना जा रहा था कि सामने से आ रही टैंकर ने मोटर साइकिल को मारी टक्कर घर वालों ने तत्काल लेकर गए अस्पताल जहां डॉक्टरों ने किया मृत्यु घोषित, टैंकर मौके से फरार।

नायाब सितारा"

कारनामों की भब्य चमक के साथ एक बार फिर सुर्खियों में छाया 'म्योरपुर' भब्य व्यवस्था से शिक्षक समाज हुआ स्तब्ध, 'म्योरपुर के गौरव'का हुआ स्वागत  लग गया मजमा, बढ गया रुतबा... सिर गर्व से हुआ ऊचा, आशा की किरण और व्यवस्था बचाने की दिव्य मुहिम के बीच  निखरने लगी "आभा" मेधा की चमक, शिक्षक सतर्कता के साथ कर्मयोगी का हुआ जय- जयकार!  चमकते सूरज की तरह परीक्षाओं की तपिश में कुन्दन बनकर निकले 'नये खण्ड शिक्षा अधिकारी' निष्ठा फैलाने की ललक, परम्परा,सिद्धांत त्याग,एवं समर्पण के बीच बेसिक शिक्षा म्योरपुर के गौरव बने "विश्वजीत" "साधना द्विवेदी" लोकल न्यूज़ आफ इन्डिया म्योरपुर, सोनभद्र। परिन्दों को मन्ज़िल मिलेगी यकीनन ए फैले हुए उनके पख बोलते है वे लोग रहते हैं खामोश अक्सर जमाने में जिनके हुनर बोलते है...  जैसे मेधा किसी की मोहताज नहीं होती... बड़े सपने कुछ यूँ ही नहीं पूरे होते उसी तरह कुशल प्रशासक का तमगा यूँ ही नहीं मिलता उसके लिए व्यक्तित्व एवं कृतित्व से विभाग के विविध रगों को सयोजने का काम करना पड़ता है, कुछ इन्ही पक्तियो से प्रेरित गजब के रस

आखिर देश की सबसे बड़ी क्रेडिट कोआपरेटिव सोसाइटी आदर्श क्रेडिट कोआपरेटिव सोसाइटी लिमिटेड के लाखो निवेशकों को रोजगार और जीविका देने की गति पर पूर्ण विराम क्यों ?

  (फाइल फोटो) विजय शुक्ल  लोकल न्यूज ऑफ इंडिया  दिल्ली।  अखबारों की सुर्खियों पर नजर डाले तो आपको अंदाजा लगेगा कि  वास्तविकता में लगभग दो दशकों तक लाखो  निवेशकों के भरोसे पर खरी साबित होने वाली आदर्श क्रेडिट कोआपरेटिव सोसाइटी  लिमिटेड पर आखिर  जांच एजेंसियों ने  प्रवर्तन निदेशालय ने ऐसी कौन सी गड़बड़ी पाई कि इस पर पूर्ण विराम लगाने की ओर उसकी सभी सम्पत्तिया और बैंकिंग सीज करके अब तक यानी लगभग चार साल से एक परिसमापक नियुक्ति तक करवाने में अक्षम रही।  सवाल अगर गड़बड़ी का हैं तो कार्रवाई सुनिश्चित करना ही ऐसी एजेंसियों का धर्म हैं और स्वतः संज्ञान लेकर भी यह अपनी कार्रवाई कर सकती हैं यह भी इनके अधिकार क्षेत्र का यही मामला हैं पर सरकार और सियासी गलियारों के अलावा समाज में रोजगार , बचत और लोगो की जीविका का साधन बनी देश दुनिया में क्रेडिट कोआपरेटिव क्षेत्र में दो दशकों तक बिना किसी विवाद या शिकायतों के चलने वाली इस कोआपरेटिव सोसाइटी पर क्या वाकई लें दें की गड़बड़ी या मनी लॉन्ड्रिंग के कारण ताला लटका या इसमें कोई राजनीतिक रंजिश जैसा भी कोई एंगेल हैं ? यह तो शायद जांच करने के बाद संबंधित विभागीय या