सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

देशवासियों से मितरो तक वाला भारत




आज सत्तर साल पार बुढ़ापे वाले भारत में मैंने 38  साल वाले भारत को सुना। लगा मानो हमने मध्यमवर्गीय भारत से आज गरीब भारत की दहलीज तक आने का सफर तय कर लिया हो।  विकास की बयार के झूठे सपनो के बीच हमने अपना अस्तित्व खोने की एक युवा यात्रा का साक्षी बनने का गौरव नहीं दंश झेला हो।  यह तो सच हैं कि  नानी के घर ले जाने वाली इक्के तांगे  और बैलगाड़ी वाली दुनिया से कार तक आ गए पर हकीकत तो यह हैं कि  अब नानी के साथ मानो नानी के अपनेपन वाली दुनिया का वो समाज भी हमने खो दिया इन बयालीस सालो में। 

राजीव के भाषण में किसान मजदूर , गरीब आदिवासी माँओ के देश या विदेश में रह रहे मर्द और बच्चे शब्द बहुत कुछ कह रहे हो या हमको बताना चाह रहे हो कि  एक समय था जब दस महीनो का सफर पंजाब से असम  तक को जोड़ने के साथ साथ शिक्षा नीति और देश नीति में बदलाव की घोषणाओं का था।  वो अलग बात हैं तब भाषण में पंडित जी और इंदिरा का होना लाजमी  था अब जैसे अटल जी का होना होता हैं।  पर पंडित जी से अटल तक का अपना एक सफर था।  शायद तब तक मध्यवर्गीय वालो का भारत ज़िंदा था और उनकी वजह से भारत के सपनो का देखा जाना भी।  आज के भारत को जब मैं अपनी इन बयालीस सालो के गांव की गलियों की बादशाहत से शहर की गलियों की गुमनामी तक के सफर को देखता हूँ तो बस यही पाता हूँ कि आज की जॉकी से तो बड़ा अच्छा था वो बाबूजी वाला हम सबको महीने में दिया जाने वाला नाड़े वाला कच्छा।  हालांकि तब भी हमें पायजामे की बजाय निक्कर की चाहत अपनी तरफ खींचा करती थी पर उस समय अपने बड़ो की वो आँखों की बंदिशों से बाहर झाँक पाना हमारी सीमा से बाहर था।  और आज हमारे उन अपनों की ना हमारे आँखों में कही पैमाइश हैं ना जीवन में।  वो हमें नहीं शायद हम उन सबको खो चुके हैं।  क्योकि बयालीस साल मेरे बढ़ने के सफर में बयालीस साल वो सब भी तो बढे हैं अपनी भारत की इस यात्रा में। 

राजीव गांधी  के उस सन  पचासी वाले भाषण के देशवासियो और आज के मोदी जी के मितरो में बस यही बयालीस साल का सफर हैं . जहां आज हम अपने वजूद और अपनी जमीन को खोकर गांव के बादशाहत से शहर की तंग बेजान गलियों की हुकूमत का दम्भ भरते हैं। कहाँ नीम के पेड़ के नीचे खुले आसमान में सोने की उस आजादी से, आज  बंद खिड़कियों से ऐसी कमरों में ऑक्सीजन की कमी ना हो इसके डर की गुलामी में सोने का प्रयास करते हैं। तब हमारे चारो ओर  वो आम का टिकोरा और नीम का निमकौर  खाने और खेलने का साधन जो होता था, आज बस व्हाट्सप्प और फेसबुक में झूठी दुनिया का खिलौना खुद ही बन तमाशा देख रहे हैं। आज ना जाने क्यूँ  मेरे पीएम के आसूं देखकर भी गुस्से का एहसास हो रहा हैं जिस पर हम बिलख बिलख कर रो सकते थे।  और मानो वो शब्द मितरो भाइयो और बहनो  का डंक दिल में महसूस हो रहा हैं और मेरा आज का मितरो वाला पीएम शायद उस देशवासियो वाले पीएम के सामने बौना नजर आ रहा हैं क्योकि आज मध्यमवर्गीय वालो का वो भारत मजदूर और किसानो को दो हजार की लाइन में खड़ा करने वाले इस विश्वगुरु की चाहत वाले अमीरो का भारत नजर आ रहा हैं। 

मैंने आजादी नहीं देखी क्योकि मैं सिर्फ तीन साल का था यह बोलकर मानो राजीव गाँधी ने सब कुछ कह दिया हो कि उनका भारत की आजादी की जंग से वास्ता तो नहीं था।  पर आज के हमारे पीएम जब खुद अपने आपको गोरखनाथ , गुरुनानक और कबीर की पंचायत का सरपंच बताकर, बांग्लादेश की आजादी की लड़ाई के लिए जेल जाने की बात बता ,अपने शरीक होने की अनसुनी अनकही दास्तान सुनाते हैं तो 38 साल वाले उस भारत के वो शब्द बड़े लगते हैं आज के पचहत्तर पार वाले भारत के।  मानो हमारे बयालीस आते आते हमारी सोच को बुढ़ापा आ गया हैं तजुर्बे का नहीं अंधभक्ति का।  कैद का। अपने परायो की तंग दुनिया वाली गलियों का। 

टिप्पणियाँ

Unknown ने कहा…
बहुत ही शानदार .. एक एक शब्द सही लिखा है आपने. Title is exellent. We need such comparative articles to open the eyes of public

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बेकार नहीं जाएगा ग्रामीणों का अंगूठा, होगा मान्य मतदान - एडीएम सोनभद्र

अगर   पहचान पत्र की पुष्टि के बाद अगूंठा सही से दबा कर मतपत्रों पर लगाया गया होगा तो वो मान्य होगा। और जनपद के सभी मतगणना केन्द्रो पर मान्य होगा - एडीएम सोनभद्र  विजय शुक्ल  लोकल न्यूज ऑफ इंडिया  सोनभद्र , दिल्ली।   हजार किलोमीटर दूर बैठे बैठे मुझे मेरे टोली ने खबर दी की इस बार चुनाव में ज्यादातर भोले भाले आदिवासी अगूंठा ठोककर चले आये हैं और ना जाने कितने प्रधान , पंचायत सदस्य , जिला पंचायत सदस्य का भविष्य इन अंगूठो  के सहारे निपट जाय अगर यह सब अमान्य करार दिए जाय।  सोनभद्र हैं सब कुछ जायज हैं पर जब अंगूठा लगाने और उसकी वजह से उदास आदिवासी मतदाताओं का दुःख पता चला जिन्होंने वाकई में यह आखिरी रात को और ज्यादा दर्द भरी बनाने के लिए काफी था खासकर उन उम्मीदवारों के लिए जिनको इन अंगूठे के मालिकानों से बस इस घड़ी के लिए उम्मीद थी क्योकि इन आदिवासी अंगूठा धारको का मालिकाना हक़ कल के बाद से फिर पांच साल के लिए इन्ही प्रधान जी और पंचायत जिला पंचायत सदस्य लोगो की कृपा पर निर्भर करेगा और उनका अंगूठा तो आपको पता हैं कि  कब लगेगा ? इसी उंहापोह की स्तिथि को सुलझाने का काम करने के लिए हमने डीएम सोनभद्र

अड़ीबाज़ एवं ब्लैकमेलर फैसल अपने आप को पत्रकार एवं FMSCI का मेंबर बताने वाला निकला फर्जी

  लोकल न्यूज ऑफ इंडिया  भोपाल।  राजधानी भोपाल में एक ऐसा मामला सामने आया है जहां फैसल मोहम्मद खान नाम का शातिर व्यक्ति अपने आपको फेडरेशन ऑफ मोटर स्पोर्ट्स क्लब ऑफ इंडिया FMSCI का सदस्य अपने आप को पत्रकार बता रहा था, जिसको लेकर वह लोगों के साथ फोटोग्राफी के नाम पर ब्लैकमेलिंग का काम करता है कई मोटर स्पोर्ट्स इवेंटो की वीडियो बनाकर लोगों को ठगने का काम भी इस शातिर द्वारा किया जा रहा था। इसी को लेकर जब एफएमएससीआई के पदाधिकारियों से इस विषय पर बात करी गई तो उन्होंने बताया कि इस नाम का हमारा कोई भी सदस्य भोपाल या आस पास में नहीं हैं, एफएमएससीआई के वरिष्ठ अधिकारियों ने बताया कि यह ब्लैकमेलिंग कर लोगों से मोटर स्पोर्ट्स इवेंट के नाम पर पैसे हेटने का काम करता है। जब कोई ऑर्गेनाइजर मोटर स्पोर्ट्स इवेंट करते हैं तो यह वहां पर कई अन्य साथियों के साथ मिलकर अपनी धोस जमाकर, फोटोग्राफी के काम को लेकर जबरन उन ऑर्गनाइजर पर दबाव बनाता है एवं ब्लैकमेलिंग कर उनसे पैसे हेटने का काम इसके द्वारा किया जाता है।

योगी जी आपका यह बेसिक शिक्षा मंत्री ना तो तीन में न तेरह में ......

शिक्षक नहीं बंधुआ मजदूर और दास प्रथा वाली फीलिंग आती है, अँग्रेजो की सरकार शायद ऐसे ही रही होगी। अब हम तो खतरे में हैं ही लगता हैं अब सरकार भी खतरे में हैं  - शीतल दहलान , जिला अध्यक्ष , महिला शिक्षक संघ , सोनभद्र  1671 शिक्षकों की मौत का आकड़ा चुनाव के दौरान का हैं।  बड़ा अजब गजब हैं यह मंत्री के तीन मौत का आकड़ा। यह शर्म की बात हैं।  मौत पर मजाक करना दुखद हैं. बाकी डिपार्टमेंट के लोगो की तो वैक्सीनेशन तक करवाई गयी पर शिक्षकों को तो बस मौत के बाजार में उतार दिया गया  - इकरार हुसैन, ब्लॉक अध्यक्ष , म्योरपुर, सोनभद्र , प्राथमिक शिक्षक संघ  विजय शुक्ल  लोकल न्यूज ऑफ इंडिया  दिल्ली। मीडिया से दो गज की सोशल डिस्टेंसिंग बनाकर रखने की हिदायत देने वाले रामराज में सब कुछ ठीक ठाक हैं क्योंकि अब गंगा में गश्त लगाती पुलिस हैं लाशो को बेवजह वहाँ भटकने से रोकने में।  क्योकि लड़ाई तो सारी  मुर्दा लोगो को लेकर ही हैं यूपी में।  तो अब यूपी के बेसिक शिक्षा मंत्री जिन्होंने लाशो की गणित में विशारद की होगी शायद का विवादित बयान उसी की एक बानगी हैं। जिनके हिसाब से चुनाव में कुल शिक्षकों में सिर्फ तीन की मौत ह