सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

वाकिफ हूँ मिजाज से उसके तो ऐतबार कैसे हो .....

 

वाकिफ हूँ  मिजाज से उसके   तो ऐतबार  कैसे हो 

रंग बदलता है रहजन  हर मोड पे रहबर बन कर  !




हो गये  अपराध के  लिये  क्षमा  पश्चाताप  देता है , लेकिन  राजनीती मे किये गये  अपराध के लिये भविष्य भी क्षमा  नहीं  करता ! दायित्व से छुटकारा  इतिहास  नहीं  देता !


लेकिन एक चालाकी से भ्रम के प्रचार  को  हथियार  बना  कर  जो  इबारत  घढ़ी गयी  उसके  परिणामों  की  उपलब्धियां  समाधानों से  विमुख  वर्चसवादी सता की  राह पर चलने  लगें तो 

समूहिक  समाजिक सजग चेतना को  विर्गिकृत घृंणा के अंधकार मे  ढ़केलना  राजनितिक  अपराध कियूँ नहीं   माना  जाना  चाहिये !


आवाम  के  दुख  और देश की  पीडा की  व्याख्या को  मनोरंजन के उत्सव  मे  परिभाषित  करना राजनितिक  अपराध की  श्रेणी से  किस  तर्क  के  आधार पर बाहर रखा जा  सकता है।


नेत्रतव  की  दूरदर्शिता  व प्रतिबधता  की विफलताओं को  तंत्र की  विफलताओं मे  प्रस्तुत करना  क्या  राजनितिक  अपराध  की  परिधी से  बाहर  हैँ !


विपती  के समय में की गयी लापरवाहियियां और संवेदनहीनता को अतित की  तुलनाओं से  विकृत सक्षयों  के  आधार पर  ढ़कने के  प्रयास  राजनितिक  अपराध के दायरे से छूट नहीं  पा  सकते !


खोगोलिय  घटनाओं से उत्पन  ग्रहण के  प्रभाव ने समाज का  वो  नुक्सान  नहीं  किया  जितना  राजनितिक घटनाओं से  सृजनित   ग्रहण के  द्वारा हुआ  है !


देश मे  व्यप्त विभिन्न समस्याओं के  समाधानों की खोज के  गंभीर प्रयासों  के विपरीत वर्ग विशेष  के  हितों की  रक्षा व संवर्धन के लिये निर्णयों  ने  जिस  तरह  एक  पक्षिय  लाभ की स्थिती  बनायी गयी  उसे नेत्रतव के किस  अवयव  मे  मे माना जाना  चाहिये !


अपने अज्ञांन  की आवस्था की  स्विकर्यता  से ही  अहंकार  से  मुक्त  हुआ जा  सकता  है  तभी स्वयं को  क्षमा  करने की  शक्ति  की  उबलब्धी हो  पाती  है ! 


राजनीती  मे  जो  स्वयं को क्षमा कर  सके  वही  द्वेश घृणा  लालसा से  मुक्त हो  कर  लोक्तांत्रिक उदेश्यों को  सार्थक कर  पाता  है ! 


लेकिन म्हत्वकांक्षा का  विकार ऐसा होने  नहीं  देता , तब पश्चाताप की  गुंजयिश भी नहीं  बचती !  


राजनीती मे अज्ञांन  और महत्वकांक्षा  आत्मघाती  कटारें  ही  सबसे  निर्मम घात करती हैँ !

कियूँकी  राजनीती  मे  अंतर्दृष्टी ही  सबसे  बडा  गुण  होती है , अंतर्दृष्टी  का  अर्थ  होता  है अपने को  दुसरे के स्थान  पर  रख कर  समझने की  क्षमता !  

लेकिन अधिकतर राजनितिज्ञ  खुद को  अन्याय से  पीड़ीत मानते  हैँ  इसलिये  अंतर्दृष्टी  से  वंचित  होते  हैँ !  इसी  लिये  सेवा की  बजाय  सता  उन पर  हावी हो जाती  है  और सरोकारों  से  नाता  टूट जाता  है !


लोकतंत्र की श्रेष्ठ  व्यवस्था व कार्यप्रणाली बोधिक  विकलांता के रोग मे  समाज  को अरजकता की  स्थितियों मे ही धकेलती है ! यही राजनितिक अपराध इतिहास में बार बार दर्ज होता  रहा है ! 

धृतराष्ट्र व दूर्योधन महत्वकांक्षा के इस  अपराध से  सदियों  बाद  भी मुक्त  नहीं  हो  पाये !


सरोकार की  मांग  को  विरोध व निन्दा मे  परिभाषित  करना  राजनितिक  शुचिता के दोगलेपन  की सत्यता  ही है !


जगदीप सिंधु 

लेखक  वरिष्ठ पत्रकार,  राजनीतिक विश्लेषक एव मीडिया प्रबंधन के क्षेत्र मे सक्रिय व्यक्तित्व हैँ  .

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वेतन तो शिक्षक का कटेगा भले ही वो महिला हो और महिला अवकाश का दिन हो , खंड शिक्षा अधिकारी पर तो जांच जारी है ही ,पर यक्ष प्रश्न आखिर कब तक  

महिला अवकाश के दिन महिलाओ का वेतन काटना तो याद है , पर बीएसए साहब को डीएम साहब के आदेश को स्पष्ट करना याद नहीं - शीतल दहलान , जिला अध्यक्ष , प्राथमिक शिक्षक संघ   सिस्टम ही तो है वरना जिस स्कूल में छः और आठ महीने से कोई शिक्षक नहीं आ रहा वहा साहब लोग जाने की जरूरत नहीं समझते  , पर महिला हूँ चीख चिल्ला ही सकती हूँ , पर हूँ तो निरीह ना - शीतल दहलान  विजय शुक्ल लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया दिल्ली।  खनन ,और शिक्षा दो ही ऐसे माफिया है जो आज सोनभद्र को दीमक की तरह खोखला कर रहे है, वो भी भ्रष्ट और सरपरस्ती में जी रहे अधिकारियो की कृपा से। बहरहाल लोकल न्यूज ऑफ इंडिया और कई समझदार लोग शायद शिक्षक पद की गरिमा को लेकर सोनभद्र में चिंतित नजर आते है।   चाहे म्योरपुर खंड शिक्षा अधिकारी को लेकर बेबाक और स्पष्ट वादी विधायक हरीराम चेरो का बयान हो कि   सहाय बदमाश आदमी है   या फिर ऑडियो में पैसे का आरोप लगाने वाली महिला शिक्षिका का अब भी दबाव में जीना और सिस्टम से लगातार जूझना जो जांच की छुरछुरछुरिया के साथ आरोपी खंड शिक्षा अधिकारी को अपने रसूख और दबाव का खेल घूम घूम कर साबित करने की इजाजत देता हो। 

विद्यालयों में शिक्षकों की उपस्तिथि को लेकर जारी शासनादेश से पैदा हुई उहापोह की स्तिथि साफ़ करे बीएसए - शीतल दहलान , जिला अध्यक्ष , उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ , सोनभद्र 

विद्यालयों में शिक्षकों की उपस्तिथि को लेकर जारी शासनादेश से पैदा हुई उहापोह की स्तिथि साफ़ करे बीएसए - शीतल दहलान  , जिला अध्यक्ष , उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ , सोनभद्र        सूर्यमणि कनौजिया  लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया  सोनभद्र। जनपद में ताजा ताजा जारी एक शासनादेश से शिक्षकों में एक उहापोह की स्तिथि बन गयी है जिसको लेकर उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ की जिला अध्यक्ष शीतल दहलान ने जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी से मांग की है कि  वो इसको स्पष्ट करे।  पूरा मामला  मुख्य सचिव उत्तर प्रदेश के दिनांक 30/08/2020 के शासनादेश संख्य2007/2020/सी.एक्स-3 के गाइड लाइन अनुपालन के क्रम में जिला मैजिस्ट्रेट /जिलाधिकारी सोनभद्र के दिनांक 31/08/2020 के पत्रांक 5728/जे.एनिषेधाज्ञा/ कोविड- 19/एल ओ आर डी /2020 के आदेशानुसार जिसके पैरा 1 मे उल्लिखित निम्न आदेश पर हुआ है।  जिसमे    1. समस्त स्कूल कॉलेज, शैक्षिक एवं कोचिंग संस्थान सामान्य शैक्षिक कार्य हेतु 30 सितम्बर 2020 तक बंद रहेंगे। यद्यपि निम्न गतिविधियों को शुरू करने की अनुमति होगी a. ऑनलाइन शिक्षा हेतु अनुमति जारी रहेगी और इसे प्रोत्साहित

बेकार नहीं जाएगा ग्रामीणों का अंगूठा, होगा मान्य मतदान - एडीएम सोनभद्र

अगर   पहचान पत्र की पुष्टि के बाद अगूंठा सही से दबा कर मतपत्रों पर लगाया गया होगा तो वो मान्य होगा। और जनपद के सभी मतगणना केन्द्रो पर मान्य होगा - एडीएम सोनभद्र  विजय शुक्ल  लोकल न्यूज ऑफ इंडिया  सोनभद्र , दिल्ली।   हजार किलोमीटर दूर बैठे बैठे मुझे मेरे टोली ने खबर दी की इस बार चुनाव में ज्यादातर भोले भाले आदिवासी अगूंठा ठोककर चले आये हैं और ना जाने कितने प्रधान , पंचायत सदस्य , जिला पंचायत सदस्य का भविष्य इन अंगूठो  के सहारे निपट जाय अगर यह सब अमान्य करार दिए जाय।  सोनभद्र हैं सब कुछ जायज हैं पर जब अंगूठा लगाने और उसकी वजह से उदास आदिवासी मतदाताओं का दुःख पता चला जिन्होंने वाकई में यह आखिरी रात को और ज्यादा दर्द भरी बनाने के लिए काफी था खासकर उन उम्मीदवारों के लिए जिनको इन अंगूठे के मालिकानों से बस इस घड़ी के लिए उम्मीद थी क्योकि इन आदिवासी अंगूठा धारको का मालिकाना हक़ कल के बाद से फिर पांच साल के लिए इन्ही प्रधान जी और पंचायत जिला पंचायत सदस्य लोगो की कृपा पर निर्भर करेगा और उनका अंगूठा तो आपको पता हैं कि  कब लगेगा ? इसी उंहापोह की स्तिथि को सुलझाने का काम करने के लिए हमने डीएम सोनभद्र